तीसरी रेल लाइन : डोंगरगढ़ से कटघोरा तक के प्रभावित किसानों ने नौकरी और मुआवजे की मांग रखी ...

रेलवे किसान संघर्ष समिति डोंगरगढ़ के प्रभावित किसानों ने किया दौरा

By: Nitin Dongre

Published: 07 Jul 2020, 08:00 AM IST

डोंगरगढ़. तीसरी रेल लाइन एवं डोंगरगढ़ से कटघोरा रेलवे संघर्ष समिति के सदस्यों ने सोमवार को गांवों का दौरा कर प्रभावित किसानों से चर्चा की। इस दौरान वे ग्राम घोघेडबरी, उरईउबरी, प्रकाशपुर, जुरलाकला, पेन्डरीकला, दबका, संडी, कातलवाही, बेलगांव, रैमडवा, ठडार, हनईबंध, जंगलपुर, बीजा बैरागी गांवों में पहुंचे।

प्रभावित किसानों ने एक स्वर में परिवार के एक सदस्य को नौकरी एवं चार गुना मुआवजा देने पर आवाज बुलंद की। इस संबंध में ग्राम बीजा बैरागी के किसान जगमोहन पटेल, मन्नू पटेल ने बताया कि यह मांग कवर्धा जिले में भी उठ रही है तथा कटघोरा में भी यह मांग चल रही है। जहां इस पूरे तीसरी रेल लाइन तथा इस पूरे मार्ग पर प्रभावित किसान एक मंच तले समवेत स्वर में अपनी मांगो को रखेंगे। इन मांगों को पूरा नहीं करने की स्थिति में उग्र आंदोलन करने पर भी किसान इकटठे होने लगे हैं।

हक के लिए किसान कर रहे हैं विरोध

ज्ञात हो कि रेल्वे प्रशासन द्वारा जटकन्हार से डोंगरगढ़ के बीच निर्माणाधीन तीसरी रेल लाइन में रेलवे सरहद से अधिक चिन्हांकित पोल गड़ा कर अतिक्रमण कर रखे है जहां वर्तमान में किसानो की भूमि पर कहीं दस फीट तो कही साठ सत्तर फीट अतिक्रमण कर बाकी बची किसानों की जमीन पर रेलवे उस पर हक बताने में लगी है। जबकि पूर्व में चिन्हांकित खंभे दो वर्ष पूर्व लगाये खंभो से रेल लाईन से काफी दूर है। जहां रेलवे के ठेकेदारों पर समय समय पर अतिक्रमण की भूमि पर हक जताकर उस पर कार्य करने लगते है, जिसका समय समय पर किसान विरोध करते हंै।

लाइन भी हो सकती है प्रभावित

किसानों ने बताया कि अब पूरे प्रभावित किसान एक ही मंच से किसान संघ राजनांदगांव के साथ कंधे से कंधा मिलाकर रेल प्रशासन का विरोध करेंगे और इस विरोध के दौरान किसानों की उपस्थिति भी पांच से 6 गुना अधिक होगी, जिससे वर्तमान में रेलवे की चल रही अप व डाउन लाइन भी प्रभावित हो सकती है। प्रभावित किसानों ने बताया कि पिछले दो वर्षो से किसान अपनी खेतिहर भूमि के बदले अपने परिजनों को नौकरी एवं चार गुना मुआवजा की मांग करते आ रहे है किंतु शासन प्रशासन गरीब किसानों की यह मांग पुरा करने में अक्षम हो रही है।

यहां-यहां के किसान हुए शामिल

ग्राम घोघेडबरी के किसान आसाराम वर्मा, नेमीचंद साहू, अजय वर्मा, लेाखराम, बबलू वर्मा, उरईडबरी से अनेराम वर्मा, आसाराम, गजेंद्र, मंशाराम वर्मा, प्रकाशपुर से श्यामलाल निषाद, रोहित साहू, टीकम साहू, भैयाराम साहू, घनश्याम साहू, जुरलाकला से देवलाल रजक, आकाश गोड़, गुलाब ठाकुर, पेंडरीकला से तोरण साहू, रामचंद साहू, दबका से कुंदन सिन्हा तथा संडी से भुवन वर्मा, कातलवाही से नारायण वर्मा, चंद्रेश कुमार, बेलगांव से हेमलाल जंघेल, सुखदेव भागचंद, रैमंडवा से विजय साहू, यशवंत साहू, हेमलाल, शंभु साहू, ढडार से अग्रहित बंजारे, सीताबाई, अश्वनी जांगडे, हनईबंध से संवक, अमरसिंग, राम, सजन, टीकम साहू, बीजा-बैरागी से जगमोहन और मन्नू पटेल आदि ने इन मांगों को सामने रखा है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned