हक की लड़ाई लड़ेंगे पल्लेमाड़ी खदान के आदिवासी मजदूर, सौंपा ज्ञापन

हक की लड़ाई लड़ेंगे पल्लेमाड़ी खदान के आदिवासी मजदूर, सौंपा ज्ञापन

Nakul Ram Sinha | Publish: Sep, 08 2018 03:47:01 PM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

क्षेत्र के मजदूरों को किया जा नजरअंदाज

राजनांदगांव / अंबागढ़ चौकी. मोहला-मानपुर वनांचल क्षेत्र के पल्लेमाड़ी में संचालित होने वाले लौह अयस्क खदान में स्थानीय आदिवासी ग्रामीणों को काम पर नही रखा जा रहा है। आश्चर्य है कि खदान के अंदर होने वाले छोटे-छोटे कामों में भी स्थानीय मजदूरों व समितियों को रोजगार व व्यापार में नही लिया जा रहा है। पल्लेमाड़ी में संचालित होने वाले लौह अयस्क खदानों में काम नही दिए जाने से इस क्षेत्र के आदिवासी ग्रामीण मजदूरों में काफी आक्रोश है।

अपर कलक्टर को सौंपा ज्ञापन
पल्लेमाड़ी में संचालित लौह अयस्क खदान में स्थानीय आदिवासियों व ग्रामीणों और व्यापारियो को काम दिए जाने की मांग को लेकर आदिवासी खदान श्रमिक कल्याण सहकारी समिति ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। बसपा महिला नेत्री व जिला पंचायत सदस्य खगेश ठाकुर के नेतृत्व में अपर कलक्टर जेके ध्रुव को सौंपे ज्ञापन में समिति ने पल्लेमाड़ी खदान में शासन से पंजीकृत समिति आदिवासी खदान श्रमिक कल्याण समिति के माध्यम से मजदूरों को काम दिए जाने की मांग रखी है।

आदिवासी खदान श्रमिक समिति का गठन
समिति के पदाधिकारी की शिकायत है कि यहां पर खदान का संचालन बहुत लंबे समय से किया जा रहा है और इसको इस क्षेत्र से बाहर के निजी कंपनी को दे दिया गया है और वह अपने मनमर्जी ढंग से खदान संचालित कर रहा जबकि पल्लेमाड़ी के आदिवासी ग्रामीणों लोगों को ही इस खदान में मजदूरी के लिए जगह नही दी जा रही है जिसके लिए इन्हें ही रोजी मजदूरी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। सरकार आदिवासियों, ग्रामीणों बढ़ावा व उनके विकास की बात करते है लेकिन आज उनके क्षेत्र में संचालित लौह अयस्क खदान में उनको ही रोजगार नही मिल पा रहा है और इतनी शिकायते आंदोलन के बावजूद अभी तक उनके हित के लिए कोई ठोस कदम नही उठा पाई है जिससे आदिवासी ग्रामीणों में काफी रोष है। अब आदिवासी ग्रामीण व व्यापारी सभी मिलकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगे।

तीन खदान संचालित पर रोजगार बाहरी को
आदिवासी खदान श्रमिक कल्याण सहकारी समिति ने बताया कि पल्लेमाड़ी में मेसर्स सारडा एनर्जी एंड मिनरल लिमिटेड, मेसर्स गोदावरी पावर एंड इस्पात लिमिटेड व दुलकी खदान संचालित किया जा रहा है। समिति के पदाधिकारियों का आरोप है कि तीनों खदानों में इस क्षेत्र के आदिवासियों ग्रामीण मजदूरों को प्राथमिकता नही दी जा रही है। समिति का आरोप है कि यहां पर तीनों खदाने के संचालक व कर्ताधर्ता जिले के बाहरी लोग है और यहां काम करने वाले मजदूर भी बाहरी लोगों को रखा गया है।

श्रमिक कल्याण समिति लड़ेंगे हक की लड़ाई
आदिवासी खदान श्रमिक कल्याण सहकारी समिति ने चेतावनी दी है कि यदि अब उन्हें पल्लेमाड़ी खदानों में काम करने का मौका नही दिया गया तो जल्द ही शासन व प्रशासन के खिलाफ खडग़ाव, पल्लेमाड़ी, मोहला, मानपुर, गोटाटोला, भर्रीटोला क्षेत्र के समस्त आदिवासी ग्रामीण मजदूर आपस में एकजुट होकर अपने हक की लड़ाई लडऩे सड़क पर उतर आएंगे। अगर इसी तरह सरकार का रवैया बना रहेगा तो जल्द ही उर्ग आंदोलन की तैयारी में है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned