भाजपा नेता संजीव जैन आत्महत्या मामले में पति-पत्नी गिरफ्तार, प्रेम जाल में फंसाकर महिला ने ऐंठे दो करोड़, अवैध संबंध के नाम पर करती थी ब्लैकमेल

Bjp Leader Suicide in Rajnandgaon: संजीव ने महिला को टुकड़ों टुकड़ों में करीब दो करोड़ रुपए दे दिए थे और आखिरकार बदनामी के डर से उसने खुदकुशी कर ली थी।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 Sep 2021, 03:59 PM IST

राजनांदगांव. भाजपा नेता और नगर निगम में ठेकेदार संजीव जैन की खुदकुशी मामले में पुलिस ने एक महिला सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है। महिला मानसी यादव की गिरफ्तारी के बाद जो कहानी सामने आई है उसके मुताबिक मोबाइल के रांग नंबर से संजीव जैन और महिला मानसी की बातचीत शुरु हुई थी और इसके बाद दोनों की कई मुलाकात हुई और इस दौरान शारीरिक संबंध भी बने। इस दौरान संजीव ने मानसी को अच्छी खासी रकम दे दी थी और अपनी रकम वापस मांगने पर संजीव को महिला और उसके पति व देवर द्वारा ब्लैकमेल किया जा रहा था। संजीव ने महिला को टुकड़ों टुकड़ों में करीब दो करोड़ रुपए दे दिए थे और आखिरकार बदनामी के डर से उसने खुदकुशी कर ली थी।

फांसी लगाकर की थी आत्महत्या
राजनांदगांव के हीरामोती लाइन निवासी भाजपा नेता संजीव जैन (उम्र 56 वर्ष) पिता सुरेशचंद्र जैन ने 10 अगस्त को अपने नंदई स्थित एक घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। इस मामले में थाना बसंतपुर में मर्ग कमांक 48/21 धारा 174 जा.फौ. कायम कर मामले को विवेचना में लिया गया था। घटना के बाद से पुलिस ने आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के एंगल से जांच शुरु की थी।

मिले थे 5 सुसाइडल नोट
विवेचना के दौरान मृतक के शव के पास 5 सीलबंद लिफाफा मिला था जिसे मृतक के भाई विनय कुमार जैन द्वारा खोल कर और पढ़ कर पुलिस को सुपुर्द किया गया था। सुसाईड नोट में मृतक को यूनियन बैंक के निखिल जैन व फैडरल बैंक के आशीष व अन्य व्यक्तियों द्वारा 1.75 करोड़ रूपए लोन दिलाने के नाम पर अलग-अलग समय में लेने और इसके बदले न ही लोन मिला और न ही उनका दिया हुआ पैसा मिलने का जिक्रथा। मृतक ने सुसाइडल नोट में यह भी लिखा था कि पैसा मांगने पर मृतक को जान से मारने धमकी दी जाती थी।

मेरठ की युवती का भी जिक्र
मृतक संजीव के सुसाइडल नोट में रायपुर निवासी मानसी यादव नामक महिला का भी जिक्र था जिसने मेरठ में पढ़ाई करने के नाम पर मृतक से लाखों रूपए लिए थे। इस महिला द्वारा भी मृतक को लगातार मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जा रहा था जिससे हताश व परेशान होकर उसने कुआंचौक नंदई स्थित अपने पुराने मकान में फांसी लगा लिया गया। प्रथम दृष्टिया मामला आत्महत्या के लिए उकसाये जाने पर थाना बसंतपुर में अपराध क्रमांक 342/2021 धारा 306, 34 भा.द.वि. कायम कर विवेचना में लिया गया।

की गई बारीकी से जांच
मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव डी. श्रवण के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव प्रज्ञा मेश्राम व नगर पुलिस अधीक्षक लोकेश देवांगन के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी बसंतपुर निरीक्षक आर्शिवाद रहटगावकर के नेतृत्व में टीम गठित कर मामले की सुक्ष्म रो सुक्ष्म बिन्दुओं की जांच की गई।

पौने दो करोड़ रुपए दिए
मृतक के बैंक खाते का बारीकी से अध्ययन किया गया और सुसाईड नोट में उल्लेख सभी व्यक्तियों व मोबाईल नम्बरों के बारे में पता लगाया गया। मृतक द्वारा सर्वाधिक राशि करीब 1 करोड़ 77 लाख रूपए मानसी यादव के बैंक खाते में डाला गया था। ऐसे में पुलिस टीम द्वारा मानसी यादव की सरगर्मी से तलाश की जा रही थी।

रायपुर में पकडी़ गई
मानसी का पता अपूर्ण होने से और अलग-अलग जगह पता बदल कर रहने से पुलिस को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था। पुलिस की अलग अलग टीम रायपुर, दिल्ली, मेरठ (उप्र), भेजी गई। बैंक खाते में दिए पते पर भी मानसी सालों से नहीं रह रही थी। सभी जगह पुलिस ने अपने मुखबीर लगा कर रखे थे। इस बीच पुलिस टीम को मुखबीर के माध्यम से सूचना मिली कि डंगनिया रायपुर स्थित मानसी यादव के बहन मधु यादव के घर में मानसी यादव सालों बाद तीज मनाने आई है। सूचना पर तत्काल टीम द्वारा घेराबंदी कर मानसी यादव को पकड़ा गया।

पूछताछ में सामने आई यह बात
पुलिस की पूछताछ में मानसी यादव ने बताया कि करीब 8 वर्ष पूर्व फोन के रांग नम्बर लगने से मृतक संजीव जैन से उसकी जान पहचान हुई। बातचीत के दौरान जब मानसी को पता चला कि मृतक अत्यधिक पैसे वाला है तब उसने मृतक को अपने प्रेम जाल में फंसाया। इस दौरान कई बार वो मेरठ (ससुराल) और रायपुर (मायके) से राजनांदगांव आई व कई बार मानसी ने मृतक को अपने पास रायपुर व मेरठ बुलाया। इस दौरान इनके बीच अनेकों बार शारीरिक संबंध बना। मृतक द्वारा मानसी को लगातार पढ़ाई के नाम पर, नौकरी लगने के नाम पर व मकान खरीदने के नाम पर रकम दिया जाता था।

इस तरह धोखा देती रही
मृतक द्वारा पैसा वापस मांगने पर मानसी द्वारा बैंक से लोन लेकर रकम वापस करने की बात कह कर अपने पति ललित सिंह को मोहित शर्मा और अपने देवर कौशल सिंह को निखिल जैन व आशीष बनाकर मृतक से बात कराया गया। मानसी के पति व देवर दोनों द्वारा मृतक से लगातार मोहित शर्मा व निखिल जैन बैंक अधिकारी बन कर मृतक से लोन दिलाने के नाम पर प्रोसेसिंग फीस के रूप में लाखों रूपये मानसी एवं भिन्न-भिन्न व्यक्तियों के बैंक खातों में डलवा कर ठगे गये।

दी जाती थी धमकी
मृतक जब भी मानसी को पैसा देने में आनाकानी करता था तो मानसी के साथ ही उसके पति ललित व देवर कौशल सिंह द्वारा मानसी व मृतक संजीव जैन के बीच बने अवैध संबंध को उसकी पत्नी व परिवार वालों को बताकर उसकी इज्जत बरबाद कर देने की धमकी देते थे।

एक की तलाश जारी
आरोपियों द्वारा संजीव जैन को प्रेमजाल में फांस कर पहले इमोशनल ब्लैकमेल कर मानसी को नौकरी लगवाने के नाम पर, फिर बैंक मैनेजर बनकर लगभग 2 करोड़ रूपये ठग लिए गए। मानसी के अलावा उसको पति ललित सिंह को भी पुलिस टीम द्वारा गिरसतार कर लिया गया है। एक अन्य की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। पुलिस मृतक रांजीव जैन के आत्महत्या में स्थानीय संलिप्तता की भी जांच कर रही है। पुलिस ने शेष आरोपियों को भी जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का दावा किया है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned