बांस कटाई की 7 माह से नहीं मिली मजदूरी, पौधारोपण करने गए डीएफओ सहित अधिकारियों को ग्रामीणों ने घेरा ...

अधिकारियों ने दस दिन में भुगतान का दिलाया भरोसा

By: Nitin Dongre

Updated: 07 Jul 2020, 07:46 AM IST

खैरागढ़. वनमंडल अंतर्गत ब्लाक के गातापार जंगल और लक्षणा इलाकें के बांस कूप में बांस कटाई की मजदूरी राशि का सात माह बाद भी भुगतान नहीं होने से परेशानी गातापार और लक्षणा के ग्रामीणों ने मुनगा पौधारोपण में बैगाटोला पहुंचे डीएफओ, एसडीओ और रेंजर के वाहनों का ही घेराव कर दिया। अधिकारियों सहित वनकर्मियों की समझाइश पर बांस कटाई करने वाले मजदूरों को जल्द मजदूरी देने का आश्चासन मिला, लेकिन मजदूर इसको लिखित में देने को अड़े रहे। एसडीओ की समझाइश और जल्द भुगतान किए जाने की बात पर ग्रामीण शांत होकर वापस लौटे।

गातापार जंगल सर्किल के चार तथा लक्षणा सर्किल के तीन कूपों में अक्टूबर नवंबर में हुई बांस कटाई की मजदूरी राशि का भुगतान विभाग ने अभी तक नहीं किया है। दोनों सर्किलों के सात कूपों में लगभग डेढ़ सौ ग्रामीण मजदूरों की 5 लाख रूपए से अधिक की मजदूरी राशि का भुगतान नहीं हो पाया है, जिसको लेकर दोनों सर्किलों के ग्रामीणों ने नाराजगी है। ग्रामीणों ने बताया कि मजदूरी भुगतान के लिए अधिकारियों को कई बार मांग की गई लेकिन जल्द भुगतान का आश्चासन पिछले सात माह से मिल रहा है भुगतान नहीं हो पाया। सोमवार को दोनों सर्किलों के ग्रामीण मजदूरी भुगतान को लेकर खैरागढ़ वनमंडल कार्यालय आने निकले थे।

राशि भुगतान की रखी मांग

बैगाटोला पहुंचने के दौरान ग्रामीणों को गांव में मुनगा पौधारोपण कार्यक्रम में डीएफओ रामअवतार दुबे, एसडीओ एएल खुंटे सहित रेंजर एस के साहू के आगमन की सूचना मिली तो ग्रामीण विरोध जताने और मजदूरी की मांग को लेकर वही रूक गए। कार्यक्रम के लिए पहुंचे अधिकारियों के वाहनों को रोककर ग्रामीणों ने घेराव कर मजदूरी राशि दिलाए जाने की मांग की।

माह दो माह में हो जाता है भुगतान इस बार सात माह से अटका

अधिकारियों को रोककर ग्रामीणों ने मजदूरी भुगतान त्वरित किए जाने की मांग की एसडीओ एएल खुंटे ने ग्रामीणों को देरी की वजह बताते जल्द कार्यवाही कर राशि भुगतान का आश्चासन दिया गया, लेकिन ग्रामीण इसे लिखित में देने की मांग करनें लगे। एसडीओ खुंटे ने फिर कार्यवाही की जानकारी देते सप्ताह भर में राशि भुगतान हो जाने की बात कही। इसके बाद ग्रामीण शांत हुए।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned