तालाब में पानी भरने जेसीबी से काट दिया नहर का पार, सिंचाई विभाग ने नगर पंचायत को थमाया नोटिस

अधिकारी अगर संज्ञान में ले तो काटने वाले के ऊपर हो सकता है एफआईआर

By: Nakul Sinha

Updated: 23 Apr 2020, 04:18 PM IST

राजनांदगांव / गंडई पंडरिया. गंडई के तालाबों में पानी की कमी हो जाने के कारण नगर पंचायत गंडई ने सिंचाई विभाग को आवेदन देकर बांध खोलकर नहर के माध्यम से पानी भरने के लिए गत दिन आवेदन दिया था। जिसके बाद सिंचाई विभाग ने नहर में पानी छोड़ दिया था। नगर पंचायत नहर के गेट को बांधकर तालाब में पानी ले जाने का व्यवस्था करता परंतु ऐसा न कर नहर के पार को ही जेसीबी के माध्यम से काट कर पानी भरने में लग गया। मामले की जानकारी सिंचाई विभाग को लगते ही इस बाबत नगर पंचायत के अधिकारी को 18 अप्रैल को नोटिस भेजकर तत्काल मरम्मत कराने का लेख किया है।

निकाय के अधिकारी ने 3 कर्मचारियों को खुद के पैसों से नहर का मरम्मत कराने निकाला नोटिस
सिंचाई विभाग द्वारा नोटिस मिलते ही नगर पंचायत गंडई के सीएमओ खुमान कश्यप ने भी अपने मातहत में 20 अप्रैल को निकाय के 3 कर्मचारियों जिसमें कमल किशोर नेताम, शिव ठाकुर एवं दयालु साहू को नोटिस जारी कर कहा कि बिना कार्यालय को विश्वास में लिए नहर चैन क्रमांक 52 को काटकर तालाब में पानी का भराव किया जा रहा है जिसके कारण नगर पंचायत का छवि धूमिल हो गया है अत: अपने स्वयं के खर्च में नहर का मरमम्त कराकर जानकारी से अवगत कराए।

जेसीबी से नहर काटने का गणित कुछ और ही
वहीं सूत्रों की माने तो नहर के पार को जेसीबी से काटने का गणित कुछ और ही है। मिली जानकारी अनुसार नगर के किसी मछुवारे ने मछली पकडऩे और तालाब को जल्दी भरने के लिए जेसीबी से ही नहर पार को कटवा दिया है।

क्या कहते है अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि
सब इंजीनियर सिचाई विभाग, आर के कोसरिया ने कहा कि नगर पंचायत को नोटिस जारी कर छतिपूर्ति एवं मरम्मत करवाने कहा गया है। सीएमओ नगर पंचायत गंडई, खुमान सिंह कश्यप का कहना है कि पंडरिया स्थित तलाब ठेकेदार मछुवारे ने नहर पार को जेसीबी से कटवा दिया है ऐसी जानकारी मिला है पर व्यवस्था बनाने का जिम्मा नप के तीन कर्मचारियों का था इसलिए मरम्मत कराने और मामले से अवगत कराने नप के तीनो कर्मचारियों को नोटिश दिया गया है उनके जवाब आने के बाद आगे की कार्यवाही किया जायेगा। पार्षद वार्ड क्र.1 गंडई, भिज्ञेश यादव ने कहा कि सबसे पहले नहर के पार को इस तरह किसी विभागीय अधिकारी के अनुमति के काटना दंडनीय अपराध है। लोग अपने स्वार्थ के लिए ऐसे घटना को अंजाम दिया है इस पर प्रशासनिक कार्रवाई होना चाहिए।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned