स्वयं का मूल्यांकन करते समय आप तुलना किससे कर रहे है यह आपके सोच को प्रदर्शित करता है

स्वयं का मूल्यांकन करते समय आप तुलना किससे कर रहे है यह आपके सोच को प्रदर्शित करता है

Nakul Sinha | Publish: Sep, 08 2018 11:07:39 AM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

तहसील साहू संघ डोंगरगांव का वार्षिक सम्मेलन व सामाजिक परिचर्चा

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. स्वयं का मूल्यांकन करते समय आप तुलना किससे कर रहे है यह आपके सोच को प्रदर्शित करता है, स्वयं के कमियों को जान कर दूर करने का प्रयास करने की प्रवृति व्यक्ति को सफल होने में सहायक होता है, उक्त बातें डोंगरगांव विधायक दलेश्वर साहू ने तहसील साहू संघ डोंगरगांव के वार्षिक सम्मेलन व सामाजिक परिचर्चा कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कीआसंदी से व्यक्त किए।

सामाजिक संगठन पर हुई चर्चा
कार्यक्रम की अध्यक्षता छग प्रदेश साहू संघ के उपाध्यक्ष डॉ. निरेन्द्र साहू ने सामाजिक संगठन का विस्तार से जानकारी देते हुए समाजिक संगठन की एकता बनाए रखते हुए सामाजिक संगठन को समय देने वाले लोगों को पदाधिकारी बनने का सलाह दिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए दुर्ग जिले के जिला अध्यक्ष अयोध्या प्रसाद साहू ने कहा कि इस तरह के आयोजन के लिए तहसील साहू संघ डोंगरगांव की प्रशंसा भी किए। उन्होंने समाज के लोगों के आर्थिक शैक्षणिक व राजनैतिक विकास पर सुझाव भी दिए। कार्यक्रम को नगर पंचायत अध्यक्ष संध्या साहू, संरक्षक भावदास साहू, प्रमुख सलाहकार पीडी साहू के अलावा खुले परिचर्चा में शिवराम साहू परिक्षेत्रीय अध्यक्ष, अलखराम साहू, बालकृष्ण गंजीर ने भी अपने अपने विचार रखे।

कुप्रथा को समाप्त करने का आह्वान
तहसील अध्यक्ष अमरनाथ साहू ने स्वागत भाषण का पठन किया। इस अवसर उन्होने समाज के विकास में बाधक कुरितियों कुप्रथा को समाप्त कर समय के साथ चलने का आह्वान किया। हर स्तर पर सामाजिक संविधान का पालन किए जाने पर बल दिया। सामाजिक प्रतिवेदन व आगामी कार्ययोजना संघ के सचिव हेमंत साहू ने प्रस्तुत किया तथा वार्षिक आय व्यय की जानकारी कोषाध्यक्ष रामप्रकाश साहू ने प्रस्तुत की। सभी ग्राम संगठन के लिए आय व्यय की प्रति उपलब्ध कराई।

शिक्षक दिवस पर हुए कई आयोजन
बाजार अतरिया. सरस्वती शिशु मंदिर बाजार अतरिया में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में भैय्या-बहनों द्वारा सभी आचार्य व दीदी का तिलक लगाकर स्वागत किया तथा प्रधानाचार्य द्वारा आशीर्वाद स्वरूप शिक्षक दिवस पर अपना उद्बोधन दिया। साथ ही भैय्या-बहनों द्वारा भाषण व भजन प्रस्तुत की गई।

Ad Block is Banned