बारिश के मौसम में कारगर साबित हो रहा 'वर्क फ्रॉम होम', 30 फीसदी से ज्यादा कर्मचारी घर से ही कर रहे काम ...

घर पर काम करने से भारी बारिश में आफिस जाने की आवश्यकता ही नहीं पड़ रही

By: Nitin Dongre

Published: 14 Jun 2020, 08:40 AM IST

राजनांदगांव. शहर में बढ़ती कोरोना महामारी से बचाव के लिए लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में घर पर काम करना ही खुद को और परिवार पर संक्रमण न फैले इसलिए वर्क फ्रॉम होम ही एक अच्छा माध्यम है। अब मानसून शुरू हो गया है और कर्मचारियों को मानसून लगते ही समझ आ गया कि घर पर ही कार्य करना जरूरी है। अधिकतर देखा यह जाता है कि झमाझम होती बारिश में लोग घर पर ही रह जाते हैं। उन्हें कहीं आने-जाने में भी दिक्कत होती है। ऐसे में आफिस जाना भी है तो छाते या रैनकोट के माध्यम से जाते हैं। ऐसे में 'वर्क फ्रॉम होम' तेज बारिश के समय में अच्छा प्रारूप साबित हो रहा है। अब कर्मचारी घर पर ही रहकर आफिस का कार्य आसानी से कर सकते हैं। ज्ञात हो कि अधिकतर कार्य कम्प्यूटर के माध्यम से ही किए जाते हैं।

पत्रिका का 'वर्क फ्रॉम होम' बरसात के लिए सही साबित हो रहा है। घर में काम करने से छोटी-मोटी दिक्कत तो होती है किंतु एक दूसरे से समन्वय बिठाकर दूर की जा रही है। कभी-कभी घर में काम करते रहते हुए बारिश के समय बत्ती गुल हो जाती है तो परेशानी होती है। बाहर फैली महामारी से बचने और बारिश से बचने के लिए यही अच्छा माध्यम है हालांकि काम देर से होता है लेकिन स्वास्थ्य के लिए तो यही अच्छा है।

30 फीसदी से ज्यादा कर्मचारी हुए वर्क फ्रॉम होम

लॉकडाउन में रियायत के बाद शासकीय व निजी कार्यालयों में कोरोना प्रोटोकाल बन गया है। इसका पालन करने सरकारी कार्यालयों में 30 फीसदी कर्मचारियों को 'वर्क फ्रॉम होम' कराया जा रहा है। इसके लिए विभागों ने बकायदा रोस्टर तैयार किया हुआ है। इसी शेड्यूल और प्रोटोकॉल के हिसाब से कर्मचारी काम कर रहे हैं। इससे कार्यालय में बिजली, पानी, वाहन और ईंधन सहित अन्य कार्य पर खर्च कम हो गया है।

खर्च से भी मिल रहा छुटकारा

अधिकांश शासकीय कार्य ऑनलाइन किए जा रहे हैं। शासन द्वारा कर्मचारियों को समय-समय इसके लिए प्रशिक्षण भी दिया जाता है। ऐसे में अधिकांश काम कंप्यूटर से होने लगे हैं, तो कर्मचारी अपने घर में एक कंप्यूटर सिस्टम से आसानी से काम कर सकता है। वाहनों के उपयोग कम होने से पर्यावरण को भी फायदा होगा। कार्यालय में कागज के उपयोग कम हो जाएंगे। इसके अलावा कार्यालय के संशाधनों पर खर्च से छुटकारा मिलेगा।

बेहतर हो रहा है काम

घर पर रहकर भी बेहतर काम किया जा सकता है। कर्मचारियों को परेशानी इस बात की होती है, जब कभी कार्यालय में रखे दस्तावेज से मिलान या फिर अन्य अवश्यकता पडऩे पर होती है। ज्यादातर कार्य घर पर किए जा रहे हैंं।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned