दो माह से श्रमिकों को नहीं मिली पगार, आर्थिक परेशानियों से गुजर रहे, प्रशासन से की न्याय की मांग...

सिलिपर प्लांट श्रमिकों का प्रबंधक द्वारा किया जा रहा शोषण

By: Nitin Dongre

Updated: 01 Jul 2020, 07:29 AM IST

डोंगरगढ़. नगर की यूनीवेब्स स्लीपर प्लांट में प्रबंधक व ठेकेदार 20 सालों से काम कर रहे मजदूरों की छुट्टी कर उनके स्थान पर दूसरे श्रमिकों से काम ले रहे हैं। इससे नियमित कर्मचारियों की चिंता बढ़ गई है। उन कर्मचारियों के सामने रोजगार व परिवार के पालन-पोषण की समस्या आ गई है। इस समस्या को लेकर कर्मचारियों ने एसडीएम व श्रम अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर न्याय दिलाने की मांग रखी है।

प्रबंधक व ठेकेदार द्वारा डायमेंशन विभाग में लोडिंग-अनलोडिंग कार्य करने वाले श्रमिकों के कार्य करने की बात कही तथा 4-4 श्रमिकों को बारी बारी से रखने की बात कही गई जिसका श्रमिकों ने विरोध किया और समझौता नहीं हो पाया। श्रमिकों ने उक्ताशय की शिकायत कलेक्टर से की, जिस पर पूर्व श्रम अधिकारी द्वारा डोंगरगढ़ पहुंच कर प्रतिवेदन बनाकर महोदय को सौंपा। श्रम अधिकारी द्वारा न ही श्रमिकों को बैठक में बुलाया गया न ही श्रमिकों से कोई बात की। प्लांट में बैठकर प्रबंधक ठेकेदार के साथ बात कर एक पक्षीय कार्यवाही की है। उक्त प्रबंधक ठेकेदार द्वारा श्रमिकों को रोजाना बुलाकर तथा मेमो देकर काम पर आने को कहा गया और जब श्रमिक प्लांट पहुंचते तो उन्हें काम नहीं है कहकर वापस भेज देते हैं और यह क्रम अनवरत पिछले एक माह से चल रहा है।

प्रबंधन व ठेकेदार की होगी जिम्मेदारी

श्रमिकों ने बताया कि विगत 20 सालों में चार ठेकेदार बदल चुके हैं एवं वर्तमान में ठेकेदार चंद्रशेखर अंबादे है। वहीं श्रमिकों ने अपने संगठन युनीवेब्स स्लीपर प्लांट रेल मजदूर संघ के माध्यम से कहा है कि यदि किसी श्रमिक ने कोई गलत कदम उठाया तो पूरी जवाबदारी युनीवेब्स स्लीपर प्लांट प्रबंधक ठेकेदार एवं प्रशासन की होगी। श्रमिकों ने कहा कि हम सभी श्रमिको को यथावत काम पर रखने एवं मई जून का वेतन दिलवाये जिससे उनका परिवार का पालन पोषण हो सके।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned