हाेटल से छापा मारकर छुड़ाई गई थीं 67 लड़कियां, अब आर्इ ये बड़ी खबर

हाेटल से छापा मारकर छुड़ाई गई थीं 67 लड़कियां, अब आर्इ ये बड़ी खबर

Santosh Kumar Trivedi | Updated: 05 Jul 2018, 02:43:50 PM (IST) Rajsamand, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news/

राजसमंद। राजसमंद शहर के राजमहल होटल के पास से बाल कल्याण समिति एवं प्रशासन द्वारा छुड़ाई गई शत शत बच्चियों को बालिका गृह में रखा गया है जिनसे मिलने के लिए गुरुवार सुबह दर्जनों परिजन पहुंच गए, मगर पुलिस ने न्यायिक अधिकारियों व प्रशासन की अनुमति के बाद ही मिलने की बात कहते हुए रोक दिया।

 

बालिका गृह के बाहर अतिरिक्त पुलिस जाप्ता तैनात
बालिका गृह के बाहर अतिरिक्त पुलिस जाप्ता तैनात कर दिया गया है जबकि बाल कल्याण समिति द्वारा तहकीकात जारी है। परिजनों व शिक्षकों का कहना है कि बालिकाओं को आध्यात्मिक ज्ञान के साथ ही नियमित शिक्षण कराया जा रहा है, जहां प्राथमिक शिक्षा के बाद रूचि के अनुसार बच्चियों को उच्च शिक्षा के लिए दाखिला दिलाया जाता है। राजसमंद में पहुंचे परिजनों ने भी बताया कि स्कूल में कोई अनैतिक गतिविधि नहीं हो रही है और ना ही कोई नैतिक मूल्यों का हास हुआ है।

 

होटल पर छापा, 67 किशोरियां मिली
राजसमंद शहर में पीर बावजी स्थानक के पास होटल पर बुधवार अपराह्न तीन बजे जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देश पर बाल कल्याण समिति व चाइल्ड लाइन के सदस्यों ने पुलिस के साथ छापा मारा और 67 किशोरियों को बालिका गृह में शिफ्ट कर दिया।

 

होटल के पीछे भवन में आध्यात्मिक ज्ञान देने के बहाने आध्यात्मिक गऊमुख स्कूल संचालित किया जा रहा था। न स्कूल का शिक्षा विभाग में पंजीयन मिला और न ही आध्यात्मिक गऊमुख समिति (एनजीओ) के पास जेजे एक्ट के तहत किशोरियों को रखने का लाइसेंस।

 

एक दर्जन किशोरियां नेपाल की

एक दर्जन किशोरियां नेपाल की है, जबकि अन्य 60 किशोरियां आठ राज्यों की है। बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल के आदेश पर सभी बच्चियों को राजसमं के पन्नाधाय बालिका गृह स्थानान्तरित कर दिया गया। 10 महिला शिक्षिकाओं को भी बालिका गृह में ही भेज दिया गया।

 

देर रात सभी बच्चियों का मेडिकल करा लिया गया। संदिग्ध गतिविधि मिलने पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव नरेंद्र कुमार के निर्देश पर बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल, समाज कल्याण अधिकारी मान्धातासिंह, चाइल्ड लाइन के मरूधरसिंह, आसरा विकास संस्था के भोजराजसिंह राठौड़ द्वारा पुलिस उप अधीक्षक राजेंद्रसिंह के नेतृत्व में पुलिस जाब्ते के साथ छापा मारा गया।

प्रारंभिक जांच के मुताबिक राजमहल होटल में कथित आध्यात्मिक गुरुमुख स्कूल में 67 बच्चियों को आध्यात्मिक ज्ञान दिया जा रहा था। इनकी उम्र 12 वर्ष से 17 वर्ष के बीच बताई जा रही है। बाल कल्याण समिति की प्रारंभिक जांच में कई बच्चियों के माता पिता नहीं होने की बात भी सामने आई और अन्य ज्यादातर बच्चियों के परिजनों की सहमति से आध्यात्मिक ज्ञान सीखने आना बताया है, मगर इसका कोई अधिकृत दस्तावेज स्कूल की शिक्षिकाएं नहीं बता पाई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned