Video : ठेकेदार से लिखकर दिया, तब महिलाओं ने दी दुकान की चाबी

- कुकरखेड़ा में एकजुट महिलाओं द्वारा शराब का ठेका बंद कराने का मामला

By: Rakesh Gandhi

Published: 27 Jul 2020, 08:32 AM IST

भीम.
कुकरखेड़ा में शराबबंदी को लेकर लामबंद महिलाओं ने तीसरे दिन शनिवार को भी गांव में अधिकाधिक लोगों को शामिल करने के लिए जनसंपर्क किया। साथ ही सभी महिलाएं ग्राम पंचायत कार्यालय में एकत्रित हुई, जहां शराब की दुकान चलाने वाला ठेकेदार भी पहुंचा और यह लिखकर दिया कि उनकी तरफ से अब कभी भी अवैध ब्रांचें नहीं चलाई जाएगी, तब महिलाओं ने बंद कराए शराब ठेके की चाबी वापस ठेकेदार को सौंपी। साथ ही महिलाओं ने स्पष्ट चेतावनी दी कि अब अगर अधिकृत ठेके के अलावा अन्य जगह शराब बेची जाएगी, तो उग्र आंदोलन करेंगे व उसमें होने वाले नुकसान के लिए वे खुद जिम्मेदार होंगे।

महिलाओं ने तरेरी आंखें
जानकारी के अनुसार कुकरखेड़ा पंचायत मुख्यालय के साथ सदारण, पावटिया व सुनार कुडी में अवैध रूप से शराब की बिक्री नहीं हुई। इसके लिए महिलाओं ने सभी जगह जांच की। साथ ही अवैध शराब बेचने वालों को शराब नहीं बेचने के लिए भी चेताया गया। फिर आंदोलन की अग्रिम रूपरेखा को लेकर सभी महिलाएं ग्राम पंचायत कार्यालय में एकत्रित हुई, जहां यह तय किया गया कि भविष्य में कुकरखेड़ा पंचायत क्षेत्र में अवैध शराब की बिक्री किसी भी स्थिति में नहीं होने दी जाएगी। साथ ही अधिकृत शराब की दुकान बंद कराने के लिए ग्रामवासियों के हस्ताक्षर कर जिला कलक्टर को ज्ञापन देने और हस्ताक्षर सत्यापन करवाकर जल्द मतदान के माध्यम से दुकान बंद कराने की कार्रवाई करने का निर्णय किया गया। इस दौरान सरपंच ख्यालीदेवी के साथ ही दीपिका देवी, चन्द्रादेवी, जशोदादेवी, बसंता देवी, हीरा देवी, शांतादेवी, मिठूदेवी, लक्ष्मीदेवी, श्रवणसिंह, नाथूसिंह, जयसिंह, दूधसिंह, जगदीशसिंह, रविन्द्रसिंह, राजकिशोरसिंह आदि मौजूद थे।

अवैध शराब बिकी, तो फिर बंद कराएंगे
अधिकृत ठेके की चाबी इसी शर्त पर दी गई है कि वे अवैध ब्रांचों पर शराब नहीं बेचेंगे। अगर दोबारा कहीं भी अवैध शराब की बिक्री होगी, तो फिर अधिकृत ठेके को ही बंद करवा जाएगा। ठेकेदार द्वारा लिखित इकरार किया है कि उनके द्वारा ब्रांचों से शराब नहीं बेची जाएगी।
- दीपिका देवी, कार्यकर्ता शराबबंदी आंदोलन

नहीं चलेगी अवैध ब्रांचें
महिलाओं की मांग के अनुसार ठेकेदार द्वारा यह इकरार किया है कि अब अवैध ब्रांचें नहीं चलाएंगे। लिखित इकरार पत्र पर हस्ताक्षर करने के बाद महिलाओं ने अधिकृत शराब दुकान खोलने के लिए चाबी वापस दी।
- ख्यालीदेवी रावत, सरपंच कुकरखेड़ा

Rakesh Gandhi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned