FOLLOWUP : ठगी की वारदातों का शतक बनाया, मगर अब तक सिर्फ दो बार ही पकड़े

FOLLOWUP : ठगी की वारदातों का शतक बनाया, मगर अब तक सिर्फ दो बार ही पकड़े

Laxman Singh Rathore | Publish: Mar, 14 2018 11:19:49 AM (IST) Rajsamand, Rajasthan, India

एटीएम कार्ड बदलने के बाद उनके बैंक खाते से नकदी निकालने वाले गिरोह

 

देवगढ़. एटीएम मशीन पर पैसे निकलवाने के लिए जाने वाले लोगों को चकमा देकर एटीएम कार्ड बदलने के बाद उनके बैंक खाते से नकदी निकालने वाले गिरोह ने अब तक वारदातों का शतक बनाया, मगर अब तक सिर्फ दो बार ही पकड़े गए। पुलिस ने शातिर गैंग के चारों आरोपित को न्यायालय में पेश किया, जहां से तीन दिन के रिमांड पर भेज दिया।
पुलिस के अनुसार एटीएम कार्ड बदल कर लोगों के बैंकों से रुपए पार करने वाले अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह के सरगना राजथल, नारनौद हिसार (हरियाणा) निवासी संदीप पुत्र रामकरण संासी के साथ उसके भतीजे रिंकू पुत्र सतपाल सांसी, मामा पावड़ा, बरवाला हिसार (हरियाणा) निवासी सुरेश पुत्र टेलुराम एवं जीजा रेवर, गड़ी जिंद (हरियाणा) निवासी शमशेर पुत्र इंद्रसिंह सांसी को देवगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को पुलिस ने सभी आरोपित को न्यायालय में पेश किया, जहां से 16 मार्च तक रिमांड पर रखने के आदेश दिए। अब पुलिस द्वारा देवगढ़ के साथ राजसमंद जिले में एटीएम कार्ड बदल कर ठगी की तमाम वारदातों के बारे में गहन पूछताछ की जाएगी। खास बात यह है कि आरोपितों ने राजस्थान के साथ हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, पंजाब, झारखंड व बिहार तक सौ से ज्यादा वारदातों को अंजाम दिया, मगर अब तक सिर्फ वे दो बार पुलिस के हाथ चढ़े हैं। बताया कि दो साल पहले उत्तराखंड राज्य के काशीपुर थाना पुलिस चकमा देकर लोगों से ठगी के मामले में गिरफ्तार किया था। उसके बाद अब देवगढ़ थाना पुलिस के हत्थे चढ़े।


ठगी के शिकार ने दी रिपोर्ट
एटीएम बदल ठगी का गिरोह देवगढ़ थाना पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद ठगी के शिकार लोग भी थाने पर पहुंचने लग गए। मंगलवर को एक शिक्षक ने 70 हजार रुपए की ठगी के मामले में थाने में रिपोर्ट दी। साथ ही दो युवकों की तत्परता से पुलिस द्वारा ठग गैंग की गिरफ्तारी से कई लोगों को पे्ररणा मिली है।


हर दो माह में बदलते हैं कार
ठग गिरोह के सदस्य हर दो माह में कार बदल लेते हैं। इनके पास अलग अलग बैंकों के 17 से 18 एटीएम कार्ड हर वक्त रखते हैं। कार एटीएम मशीन के आस पास ही खड़ी करते और पैसे निकालने के बहाने मशीन के बाहर खड़े रहते, जहां पर हर पैसे निकालने वाले लोगों को फांसने में जुट जाते।


9 मार्च को ही घर से निकली गैंग
पुलिस के अनुसार ठग गिरोह 9 मार्च को हरियाणा से कार में रवाना हुए और दूसरे दिन 10 मार्च को अजमेर जिले के किशनगढ़ में वारदात को अंजाम दे दिया। फिर ब्यावर, बिलाड़ा में ठगी कर पाली जिले के बर्र पहंचे, जहां ठगी की कोशिश विफल हो गई और वापस रिटर्न होकर ब्यावर की एक होटल में रात्रि विश्राम किया। 11 मार्च सुबह उठ कर कार से रवाना होकर भीम होते हुए सीधे देवगढ़ बस स्टैंड स्थित एटीएम मशीन के पास कार खड़ी कर एटीएम कार्ड से पैसे निकलवाने वाले उपभोक्ता का इंतजार करने लगे। दो युवक पैसे निकलवाने आए, तो खुद को बैंक अधिकारी बताते हुए एक युवक का एटीएम कार्ड लेकर एटीएम मशीन से 8500 रुपए निकाले और नकद राशि के साथ एटीएम कार्ड भी दिया, मगर बदल कर थमा दिया। युवक ने एटीएम कार्ड बदलने का विरोध करते हुए एतराज जताते हुए आरोपित से खुद का एटीएम कार्ड ले लिया। साथ ही दूसरे युवक ने तत्काल देवगढ़ थाने में सूचना दे दी। देवगढ़ पुलिस ने तत्काल नाकाबंदी करवा कर आरोपित की तलाश शुरू कर दी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned