9 माह में अस्पताल प्रशासन नहीं खोज पाया संचालक

राजकीय आरके जिला चिकित्सालय का मामला
बंद पड़ी है एक करोड़ लागत की धर्मशाला
सर्दी में शरण पाने के लिए भटक रहे मरीज के परिजन

राजसमंद. मरीज तथा उनके तीमारदारों को अस्पताल परिसर में ही रुकने की सुविधा उपलब्ध करवाने के मकसद से बनी धर्मशाला पिछले 9 माह से ताले में कैद है। ऐसे में सर्दी, गर्मी और बारिश के मौसम में मरीज सिर छुपाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाते हैं या फिर महंगे होटलों में रात बिताने के लिए मजबूर हैं। इसमें सबसे ज्यादा परेशानी गरीब मरीजों के परिजनों को है, कईबार कड़ाके की ठंड में भी उन्हें खुले आसमान तले रात गुजारनी पड़ती है। मामला राजकीय आरके जिला चिकित्सालय में बनी धर्मशाला का है।

Dhramshala in Rajsamand
नौ माह से पड़ा है ताला
राजसमंद के जिला चिकित्सालय में वर्ष 2014 में करीब १ करोड़ रुपए की लागत से चिकित्सालय परिसर में धर्मशाला का निर्माण करवाया गया। इसके बाद कुछ दिन इसका संचालन हुआ। शुरुआत में सस्तीदर पर धर्मशाला में ही मरीजों को कैंटिन सुविधा दी गई। लेकिन पिछले करीब ९ माह से कैंटीन का संचालन बंद है। जिसके चलते मरीजों को परेशान होना पड़ रहा है।


परिजनों को नहीं मिल रही शरण
दिवेर से आए मरीज के तीमारदार रतनलाल ने बताया कि उसके मौसा के बीमार होने पर उसे रात को अस्पताल में रुकना पड़ा था, अस्पताल के आस-पास कोई कमरा या रुकने की जगह नहीं मिलने से रात को कांकरोली में एक होटल लेना पड़ा। एक अन्य मरीज के परिजन रूपेश ने बताया कि उसकी मां बीमार हुई थी, तब उसे अस्पताल में परिसर में रुकने की कोई सुविधा नहीं मिल पाई, जिसके चलते जैसे-तैसे उसे रात गुजारनी पड़ी थी।


आलीशान बनी है धर्मशाला
राजकीय आरके जिला चिकित्सालय परिसर में धर्मशाला बनी है। जिसमें करीब २० लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। सभी कमरों में पंखे, कूलर व बेड लगे हैं। धर्मशाला के बाहरी हिस्से में कैंटीन बनी हुई है।


संस्था मिलते ही देंगे...
करीब नौ माह से धर्मशाला बंद है, इसके संचालन के लिए हम किसी संस्था को ढूंड रहे हैं, जैसे ही कोई मिलेगा, इसका संचालन शुरू किया जाएगा।
-डॉ. एचसी सोनी, पीएमओ, राजकीय जिला चिकित्सालय, राजसमंद

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned