आठ साल की मासूम अकडऩ की शिकार, बूढ़ी दादी के कंधों पर पोषण का भार

आठ साल की मासूम अकडऩ की शिकार, बूढ़ी दादी के कंधों पर पोषण का भार

Aswani Pratap Singh | Updated: 14 Jul 2019, 01:24:33 PM (IST) Rajsamand, Rajasthan, India

लापता हैं मानसिक कमजोर माता-पिता, गरीबी की ऊंची दीवार भी बाधक

अश्वनी प्रतापसिंह @ राजसमंद. कहते हैं सुख और दुख एक ही सिक्के पहलू है, कभी इंसान को सुख मिलता है तो कभी दुख, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनका दुख अंतिम क्षणों तक पीछा नहीं छोड़ता। ऐसी ही अवस्था से गुजर रही हैं जिले के देलवाड़ा की कालीवास पंचायत के रेबारियों की ढाणी निवासी प्रतापी बाई (75) पत्नी स्व. रत्ता गमेती। डबडबाई आंखों से प्रतापी कहती है उसका जीवन संघर्ष करते-करते ही बीत गया, १२ वर्ष पूर्व पति की मौत हो गई, एक बेटा कमजोर दिमाग का होने से उसकी चिंता बनी रही अब बुढ़ापे में पोती का दर्द उससे सहा नहीं जाता। उसके कमजोर कंधे आखिर कब तक उसका बोझ उठा पाएंगे।


यह है मामला
प्रतापी के दो पुत्र हैं, दोनों की शादी हो चुकी है। बड़ा लड़का पूनीराम गमेती मेहनत मजदूरी करता है तथा अपने परिवार को लेकर प्रतापी से अलग रहता है। दूसरे बेटे का नाम पप्पू है, वह कथिततौर पर दिमाग से कमजोर है। उसकी पत्नी सुशीला की हालत भी कुछ वैसी ही है। पप्पू के एक आठ वर्ष की बेटी है अंशी, जो जन्म से ही पोलियो ग्रसित बताई जाती है, हालांकि उसे क्या बीमारी है इसकी अभीतक जांच नहीं हुई है। पप्पू और उसकी पत्नी करीब चार माह से अंशी को दादी प्रतापी के पास छोड़कर लापता हैं। ऐसे में नित्यक्रिया से लेकर उसके पालन-पोषण की सारी जिम्मेदारी प्रतापी के बूढ़े कंधों पर है। अब उसे यह चिंता भी सताती है कि उसकी मौत के बाद अंशी का क्या होगा।


उपचार के लिए नहीं है पैसे
प्रतापी की आर्थिक स्थिति काफी खराब है। अन्त्योदय कार्ड से खाने केलिए राशन मिलता है तथा विधवा पेंशन से जैसे-तैसे अन्य खर्च चलाती है। ऐसे में अंशी के उपचार केलिए न तो उसके पास पैसे हैं और न ही वह उसे ले जाने में सक्षम है।


नहीं पिलाई पोलियो की दवा
बस्ती वालों का आरोप है कि यहां नियमित रूप से पोलियो की दवा नहीं पिलाई जाती। इससे अंशी पोलियो ग्रसित हुई है। अगर उसे समय पर दवा की खुराक दी गई होती तो वह स्वस्थ्य होती।


चार माह से माता-पिता लापता
प्रतापी का कहना है कि अंशी के माता-पिता मानसिक रूप से कमजोर हैं, पिछले चार माह से यहां नहीं आ रहे, कोई कहता है कि ससुराल में है, कोईकहता है उदयपुर में हैं। ऐसे में वह काफी परेशान है।


सारा दिन पड़ी रहती है अंशी
प्रतापी ने बताया कि उसका शरीर पोलियो ग्रसित हैं। वह अपने बूते उठ बैठ भी नहीं पाती। कहीं ले जाना हो तो कंधे पर उठाना पड़ता है। प्रतापी बड़ी मुश्किल से उसे नित्यक्रिया करवा पाती है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned