गुजरात के संकल्प से लहराएंगी कुंभलगढ़ की वादियां, राजस्थान पत्रिका बना जन्मभूमि का ऋण चुकाने में माध्यम

राजस्थान में 11 हजार पौधे रोपने का लक्ष्य लेकर वापी से पर्यावरण चेतना यात्रा रवाना

By: laxman singh

Published: 24 Jul 2018, 11:49 AM IST

सूरत. दक्षिण गुजरात की औद्योगिक नगरी वापी को वर्षों पहले कर्मभूमि बनाने वाले राजस्थानी कारोबारी ने राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान से प्रेरित होकर अपनी जन्मभूमि को हरियाली चादर ओढ़ाने का संकल्प किया। राजसमंद जिले में कुंभलगढ़ की वादियों को हरा-भरा बनाने का उद्देश्य लेकर सोमवार को निर्मल मेवाड़ पर्यावरण चेतना यात्रा लेकर रवाना हुआ।
मूलत:कुंभलगढ़ तहसील के नानजी गुर्जर इस मुहिम के जरिए गुजरात और राजस्थान को अनूठे तरीके से जोडऩे का भी काम कर रहे हैं। आशापुरा मानव कल्याण ट्रस्ट के सानिध्य में भारी-भरकम रथ को लेकर निकले वापी के कारोबारी गुर्जर पन्नाधाय, महाराणा प्रताप, मेवाड़ निर्मल बनाओ सूत्र के साथ निकले हैं। इस संदेश को वे हजारों लोगों के बीच भी साझा करेंगे। नानजी ने दावा किया कि यह पहला प्रयास है, जिसमें दो प्रांतों को पर्यावरण से जोड़ा जा रहा है। सूरत में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में शिक्षण समिति की उपाध्यक्ष शशिकला यादव, श्रीनाथ यूथ क्लब के अध्यक्ष हरीश गुर्जर, लाफ्टर गुरु कमलेश मसालेवाला, दिव्यांग क्रिकेटर लक्ष्मण बिडारे समेत अन्य लोग मौजूद थे।
ऐसा रहेगा यात्रा का मार्ग और कार्यक्रम
वापी के जलाराम मंदिर से निकले नानजी का सोमवार सुबह सूरत के अश्विनीकुमार में महाप्रभुजी बैठक परिसर में श्रीनाथ यूथ क्लब समेत अन्य संगठनों ने स्वागत किया। यहां से यात्रा अहमदाबाद रवाना हुई और मंगलवार को उदयपुर पहुंचेगी। बुधवार को राजसमंद जिला कलक्ट्रेट परिसर में यात्रा का स्वागत होगा और 27 जुलाई को कुंभलगढ़ की ग्राम पंचायत कालिंजर में पौधारोपण समारोह का आयोजन किया जाएगा।
जन-जन के बीच पहुंचेगा सकारात्मक संदेश
कुंभलगढ़ में जिला कलक्टर, सांसद, विधायक समेत अन्य मेहमानों की मौजूदगी में 11 हजार फलदार व औषधीय पौधे ग्रामीणों को बांटे जाएंगे। यह ग्रामीण कालिंजर व तालोत पंचायत के होंगे। दोनों पंचायत के प्रत्येक व्यक्ति को भविष्य में रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से दो-दो पौधे दिए जाएंगे। ये पूरे परिवार के लोग सहयोग करते हुए इन पौधों का संरक्षण कर इन्हें बड़े करेंगे। बताया गया कि इस वर्ष शुरुआत के बाद यह अभियान वर्ष-दर-वर्ष एक पंचायत से दूसरी पंचायत तक बढ़ता ही जाएगा।
बेहतर करने की कोशिश है
& कुंभलगढ़ तहसील क्षेत्र के किसानों को नींबू, पपीता, करुंदा, आम समेत अन्य फलदार पौधे राजस्थान पत्रिका के इस अभियान के दौरान बांटे जाएंगे। पन्नाधाय, महाराणा प्रताप की ऐतिहासिक भूमि को हरा-भरा व रोजगारपरक बनाने के उद्देश्य से यह अभियान छेड़ा गया है।
नानजी गुर्जर, अध्यक्ष, आशापुरा मानव कल्याण ट्रस्ट

laxman singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned