अस्पताल की लापरवाही के विरोध में ग्रामीणों ने चार घंटे किया प्रदर्शन, लापरवाही पर दो कार्मिक एपीओ

राजसमंद जिले के भीम अस्पताल में घायल की मौत होने का मामला

By: laxman singh

Published: 18 Aug 2017, 10:06 PM IST

भीम. कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में समय पर चिकित्सा सुविधा नहीं मिलने से एक व्यक्ति की मौत के आरोपों को लेकर शुक्रवार को मृतक के परिजनों ने कार्यवाही की मांग करते हुए सीएचसी में दोपहर तक हंगामा किया। चिकित्सकों के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए आरोपी चिकित्साकर्मियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने की मांग की। जिला प्रमुख की समझाइश पर मामला शांत हुआ, वहीं मामले में दो नर्सिंग कर्मियों को एपीओ किया गया।


राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ पर भोपों की डोली के समीप गुरुवार को सडक़दुर्घटना में घायल एक व्यक्ति की चिकित्सकों की लापरवाही के चलते मौत होने के मामले को लेकर मृतक के पुत्र डाउराम ने उपखण्ड अधिकारी बीएल जनागल एवं पुलिस वृत्त निरीक्षक ज्ञानेन्द्रङ्क्षसह राठौड़ को लिखित में रिपोर्ट पेश की। इसमें आरोप लगाते हुए बताया कि चिकित्सकों की लापरवाही से उसके पिता की मौत हो गई। रिपोर्ट में बताया कि डॉ. प्रेमशंकर मीणा, नर्सिंगकर्मी रबिका सोलेमन आदि चिकित्साकर्मियों द्वारा इलाज में लापरवाही बरतने से उसके पिता की अकाल मौत हुई तथा चिकित्साकर्मियों द्वारा परिजनों के साथ अभद्र व्यवहार का आरोप भी लगाया गया। इसको लेकर अर्जुनलाल सालवी, मोहनलाल पडियार, प्रकाश सालवी, देवीलाल नगोडा, राजूराम, रमेश कुमार, मोहनलाल, दूदाराम, मोटाराम, भैरूलाल, उमेश कुमार, नारायणलाल सहित कई ग्रामीणों ने आरोपी चिकित्साकर्मियों पर लापरवाही एवं समय पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं कराने का आरोप लगाते हुए सीएचसी परिसर में नारेबाजी के साथ प्रदर्शन करने लगे।


माहौल गर्माने की सूचना पर उपखण्ड अधिकारी बीएल जनागल, तहसीलदार गजेन्द्र गोयल, पुलिस उप अधीक्षक गोपालसिंह राठौड़, सीआई ज्ञानेन्द्रङ्क्षसह राठौड़, सरपंच गिरधारी सिंह रावत, ब्लॉक सरपंच संघ अध्यक्ष जयेन्द्रसिंह रावत, गोपालसिंह पीटीआई, प्रकाश लालवानी आदि मौके पर पहुंचे। इन्होंने सीएचसी प्रभारी डॉ. इंद्रपाल परिहार से घटनाक्रम की जानकारी ली तथा रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए। बाद में घटना की सूचना मिलने पर जिला प्रमुख प्रवेश कुमार सालवी भी मौके पर पहुंचे तथा मृतक के परिजनों को दोषी कर्मचारियों के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही कराने का भरोसा दिलाते हुए समझाइश कर पोस्टमार्टम कराने को तैयार किया। साथ ही प्रशासन को दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश दिए। इसके बाद परिजनों की रजामंदी पर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों के सुपुर्द किया। वहीं, परिजनों की रिपोर्ट के आधार पर संबंधित चिकित्साकर्मियों के विरुद्ध परिवाद दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Hospital negligence, road jam at rajsamand, rajsamand police, rajsamand

दो नर्सिंग कर्मी कार्यमुक्त
इसके बाद सीएचसी प्रभारी डॉ. परिहार ने एक आदेश जारी करते हुए बताया कि स्टाफ नर्स सोलेमन व मेल नर्स राजेन्द्रसिंह को सडक़ दुर्घटना में घायल के उपचार का प्रथम दृष्ट्या दोषी मानते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय राजसमंद में उपस्थिति देने के लिए कार्यमुक्त कर दिया। साथ ही डॉ. मीणा के जांच में दोषी पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्यवाही करने के बारे में बताया।


यह है मामला
भीम थाना क्षेत्र में गुुरुवार को एनएच 8 पर भोपों की डोली के समीप दुर्घटना में दल्लाराम (50) पुत्र निम्बाराम घायल हो गया था। जिसकी बाद में उपचार के दौरान मौत हो गई थी।

laxman singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned