सीईओ ने पीले चावल दे लोगों से कहा— कचरा सही स्वच्छता अपनाएं

ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के जागरूकता सप्ताह का आगाज, 22 मार्च तक जागरूकता सप्ताह में होंगे विविध कार्यक्रम

 

By: jitendra paliwal

Published: 17 Mar 2021, 12:09 PM IST

राजसमन्द. ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के लिए जागरूकता सप्ताह की मंगलवार को जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी निमिषा गुप्ता ने लोगों को पीले चावल बांटकर शुरुआत की। सीईओ ने पिपलांत्री ग्राम पंचायत में घर-घर जाकर लोगों से स्वच्छता के घटकों का पालन करने की अपील की। अभियान के दूसरे चरण में श्रेष्ठ कार्मिक को सीईओ के साथ चाय पीने का मौका भी मिलेगा। सीईओ का यह एक नवाचार है, जिसे अभियान को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू किया जा रहा है।

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के जिला समन्वयक नानालाल सालवी ने बताया कि प्रथम चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर व हर व्यक्ति को साफ शौचालय उपलब्ध कराने एवं ग्रामीण क्षेत्रों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) करने की प्राथमिकता तय की थी, जबकि दूसरे चरण में गांवों को ओडीएफ बनाए रखने व ठोस एवं तरल कचरे के प्रबंधन की व्यवस्था सुनिश्चित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। मिशन में इसे ओडीएफ प्लस का नाम दिया है। मनरेगा, 15वां वित्त आयोग एवं अन्य योजनाओं में दिए गए वित्तिय प्रावधानों के अनुरूप डीपीआर तैयार कर जिलेभर के 280 गांवों में अपशिष्ट प्रबध्ंान की योजना बनाई जा रही है। जिला अधिकारियों ने फिल्ड विजिट में पाया कि गांवों में बनाए गए सामुदायिक शौचालयों ताले हैं और वे लोगों के उपयोग में नहीं आ रहे हैं। अभियान के जागरूकता सप्ताह में उन्हें खुलवाकर आम लोगों के उपयोग के लिए चालू करवाया जाएगा। मंगलवार को स्वच्छता जागरूकता सप्ताह की शुरुआत के दौरान राजसमन्द ब्लॉक के विकास अधिकारी भुवनेश्वर सिंह चौहान एवं कार्मिक भी मौजूद थे।

तारीखवार होंगी गतिविधियां
16 मार्च को पंचायतों में लोगों को पीले चावल बांटकर गीले एवं सूखे कचरे अलग-अलग इक_ा कर सही जगह निस्तारण करने का संकल्प दिलाया एवं स्वच्छता के घटकों का पालन करने की अपील की।
17 मार्च - प्रभात फेरी कर लोगों को गीले एवं सूखे कचरे के बारे में जानकारी दी जाएगी। ऑडीएफ प्लस सर्वे में ऑनलाईन किए गए डाटा का सत्यापन एवं एसएलडब्यूएम के तहत स्वीकृत कार्यों को शुरू करना।
18 मार्च - नाली सफाई अभियान एवं पंचायत समिति का सोशल मीडिया अकाउंट बनाकर सभी गतिविधियों के फोटोग्राफ शेयर कर लोगों को जागरूक करना।
19 मार्च - गांवों में देवरों के भोपाओं, मंदिरों के पुजारियों एवं धर्मगुरुओं के साथ ग्रामीणों की ग्राम पंचायत स्तर पर बैठकें।
20 मार्च - 'शौचालयों का ताला खोलोÓ अभियान
21 मार्च - नरेगा श्रमिकों को स्वच्छता की शपथ दिलाना, जानकारी देना, विलेज वाटर हेल्थ सेनिटेशन एंड न्यूट्रेशन कमेटी की बैठक करना एवं आम लोगों को ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन की लघु फिल्म दिखाना।
22 मार्च - ब्लॉक स्तर पर एसएलडब्यूएम में चयनित पंचायतों की समीक्षा बैठक एवं उत्कृष्ट कार्य करने वाली पंचायतों व कार्मिकों को सम्मानित करना।

टी विद सीईओ
स्वछता जागरूकता सप्ताह में बेहतर काम करने पर श्रेष्ठ ब्लॉक कॉर्डिनेटर, जेटीए एवं पंचायत कार्मिकों को सम्मानित किया जाएगा। कार्मिकों को अभियान की सफलता के प्रति प्रेरित और प्रोत्साहित करने के लिए श्रेष्ठ कार्मिक को टी विद सीईओ (सीईओ के साथ चाय) का भी मौका मिलेगा। सीईओ यह नवाचार एसबीएम के दूसरे चरण की जानकारी आमजन तक पहुंचाने के उद्देश्य से अमल में लाईं हैं।

भीम. यहां विकास अधिकारी डॉ. रमेशचंद्र मीणा ने कस्बे के तहसील रोड पर चाय की थड़ी, दुकानों पर जाकर पीले चावल दिए। लोगों को कचरे को सड़क पर नहीं बिखेरकर डस्टबिन में डालने के लिए प्रेरित किया। ग्राम विकास अधिकारी महेंद्र भंवरिया, योगेश, देवाराम सहित ब्लॉक स्तरीय कर्मचारी मौजूद थे।

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned