241 करोड़ की एक दर्जन योजनाओं का खाका तैयार, आज हो सकती है घोषणाएं

नगर परिषद का अनौपचारिक शपथ ग्रहण समारोह आज, जोशी, धारीवाल और आंजना राजसमंद विकास जनसंवाद में होंगे शामिल

By: jitendra paliwal

Updated: 17 Feb 2021, 11:29 AM IST

राजसमंद. नगर परिषद में 20 साल बाद सत्ता परिवर्तन के साथ ही उत्साहित कांग्रेस पार्टी ने शहर व आसपास के इलाकों में दर्जनभर बड़ी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने की तैयारी कर ली है। इनमें से कुछ वे घोषणाएं भी हैं, जो नगर परिषद चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी ने अपने विजन डॉक्यूमेंट में शामिल की थीं। कुछ योजनाएं पहले से बनी हुई हैं, तो कुछ प्रोजेक्ट्स के टेण्डर भी किए जा चुके हैं। करीब 241 करोड़ से ज्यादा लागत के इन प्रोजेक्ट्स पर नगर परिषद, सिंचाई विभाग, खान एवं उद्योग, पीडब्ल्यूडी और अन्य विभागों ने कसरत शुरू कर दी है। इधर, नगर परिषद कार्यालय के नए परिसर में बुधवार को नवनिर्वाचित बोर्ड का पहला बड़ा कार्यक्रम होगा। इसे अनौपचारिक रूप से शपथ ग्रहण समारोह बताया जा रहा है, जिसे 'राजसमंद विकास जनसंवादÓ नाम दिया गया है।

'जनसंवाद' की तैयारियां पूरी
नगर परिषद भवन प्रांगण में बुधवार दोपहर 12:15 बजे 'राजसमन्द विकास संवादÓ कार्यक्रम विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी की अध्यक्षता में होगा। जोशी दोपहर दो बजे तक समारोह में पहुंचेंगे। सभापति अशोक टांक ने बताया कि मुख्य अतिथि नगरीय विकास, आवासन एवं स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल तथा विशिष्ट अतिथि जिला प्रभारी एवं सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना सहित अन्य कई लोग होंगे। संवाद में डॉ. जोशी एवं अन्य अतिथि जनप्रतिनिधियों, वरिष्ठजनों व प्रबुद्धजनों से विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करेंगे। मंगलवार को दिनभर तैयारियां जोरों पर जारी रही। कार्यक्रमस्थल पर मंच एवं पाण्डाल निर्माण सहित अन्य तमाम इंतजामों को लेकर दिनभर काम चलता रहा।

1. 85 फीसदी इलाके में सिवरेज सिस्टम एवं 24 घंटे जलापूर्ति
परिषद क्षेत्र की 2011 में आबादी 67798 थी, जो वर्तमान में 81430 है। आरयूआईडीपी के तहत चौथे फेज में वॉटर सप्लाई के लिए स्काडा सिस्टम के लिए 197.41 करोड़ रुपए एवं शहर में शेष 85 प्रतिशत क्षेत्र में सिवर लाइन डालने एवं हाउस कनेक्शन के लिए 136.72 करोड़ रुपए की डीपीआर तैयार है।

2. 1200 सीटों का आधुनिक ऑडिटोरियम निर्माण
लोक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों, राजकीय कार्यक्रमों, लोक कलाकारों के कला प्रदर्शन एवं स्थानीय लोक
कलाओं के प्रोत्साहन के लिए 1200 सीटर ऑडिटोरियम, कॉन्फ्रेंस हॉल, पार्किंग, हॉर्टिकल्चर, टॉयलेट ब्लॉक्स एवं सुविधा के लिए 1476.26 लाख की डीपीआर तैयार की है।

3. सेवाली से द्वारिकाधीश मन्दिर तक सड़क
हाइवे से नौचौकी, हुसैनी मस्जिद, सलूस रोड, जूना आखाडा़ से कांकरोली स्थित पुष्टिमार्गीय वैष्णव सम्प्रदाय की तृतीय पीठ द्वारिकाधीश मन्दिर तक आने के लिए 30 करोड़ रुपए की लागत से झील में एलीवेटेड रोड एवं पार्किंग के निर्माण की योजना। मंदिर तक जाने का अभी एकमात्र रास्ता मुखर्जी चौराहा से होकर गुजरता है, जो काफी
संकड़ा है।

4. तालेड़ी में बनेगी केनाल
प्राचीन तालेड़ी नदी को केनाल का स्वरूप देकर जीर्णोद्धार दिया जाएगा। इसकी कुल लम्बाई
करीब 3 किमी प्रस्तावित है। चौड़ाई 10 मीटर होगी। निर्माण पर 6 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इससे आस-पास के गांव देवथड़ी, पोलियो की भागल, बागोटा, मुण्डोल, पुठोल, डिप्टी खेड़ा, पीपलांत्री, आरना, मोरवड़ क्षेत्र एवं स्वरूप सागर झील का ऑवरफ्लो पानी मिलकर बनास नदी में छोड़ा जएगा। नगरीय क्षेत्र में भवनों में सीपेज की समस्या खत्म होगी।

5. अन्नपूर्णा माता मंदिर पर सौंदर्यीकरण
अन्नपूर्णा माता मन्दिर एवं मार्ग पर सौंदर्यीकरण व लाइटिंग कार्य पर दो करोड़ का प्रस्ताव है। बंशियां बनाई जाएगी। पार्किंग व्यवस्था, उद्यान निर्माण व सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। मॉडर्न टॉयलेट, रेलिंग व पीटीएफई शीट से दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए छाया एवं पेयजल व्यवस्था होगी।

6. सिंचाई नहर का जीर्णोद्धार
42 गांवों के 10445 हेक्टेयर को सिंचित करती 10 किमी लम्बी नहर का अधिकांश हिस्सा पुराना है। अधिकांश स्थानों पर सिंचाई जल 40 प्रतिशत तक व्यर्थ बह जाता है। आसपास के भवनों में सीपेज की समस्या है। जल संसाधन विभाग ने केनाल सिस्टम पर 28 करोड़ व शहर में स्थित भाग पर 5 करोड़ का खर्च प्रस्तावित किया है।

7. झील की पाल की मरम्मत
सन् 1660 में राणा राजसिंह द्वारा बनवाई राजसमंद झील की पाल पुरानी हो चुकी है। यह कई जगह से क्षतिग्रस्त है। डाउन स्ट्रीम में बसे भवनों में सीपेज की अत्यधिक समस्या है। सिंचाई विभाग ने पाल की मरम्मत के लिए पॉइन्टिग रिपेयरिंग व अन्य संरचनात्मक ढांचे के निर्माण के लिए 15 करोड़ रुपए का प्रस्ताव बनाया है।

8. पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा
राजसमंद में धार्मिक एवं ऐतिहासिक पर्यटन के साथ इको टूरिज्म का सर्किट बनाना प्रस्तावित है। इससे रोजगार सृजन की सम्भावना है। राजसमन्द झील, द्वारिकाधीशजी मन्दिर, नौचौकी पाल, दयालशाह किला, अन्नपूर्णा माता मन्दिर क्षेत्र, रूठीराणी महल क्षेत्र होते हुए भी पर्याप्त संख्या में पर्यटक नहीं आते हैं। यहां पर्यटन गतिविधियां बढ़ाने के लिए उदयपुर, राजसमन्द, चित्तौडग़ढ़ जिले को मिलाते हुए धार्मिक एवं ऐतिहासिक पर्यटन सर्किट बनेगा।

9. झील में वॉटर स्पोट्र्स एक्टिविटी
शहर के पास 510 वर्गकिमी क्षेत्र में फैली मानव निर्मित मीठे पानी की झील में गोवा, अण्डमान निकोबार द्वीप की तर्ज पर वॉटर स्पोट्र्स एक्टिविटी नगर परिषद के स्तर पर प्रस्तावित है। वाटर स्पोट्र्स एक्टिविटी जैसे स्कूबा ड्राइविंग, पैरासिलिंग, कयाकिंग, बनाना राइड आदि के लिए नगरपरिषद ने निविदाएं भी मांग ली हैं।

10. राजसमंद में मार्बल मण्डी
जिलेके कोटड़ी, आमेट, मोरवड़, आगरिया पार्वती, मोरचणा, केलवा, वन्नी,
निर्झरना, आरणा, झांझर आदि क्षेत्रों में मार्बल खदानें व प्रसंस्करण इकाइयां हैं। करीब 12000 लोगों को यहां रोजगार मिलता है। नाथद्वारा से केलवा व केलवा से सरदारगढ़ तक 90-100 किमी दायरे में मौजूद है। ये सभी इकाइयां सरकारी-औद्योगिक भूमि या खातेदारी सम्परिवर्तित भूमि पर मौजूद हैं, लेकिन व्यवस्थित मण्डी नहीं है। मार्बल मण्डी की स्थापना के लिए किसी क्षेत्र में भूमि चयन किया जा सकता है।

11. आधुनिक स्टोन गैलेरी का निर्माण
राजसमंद के मार्बल व ग्रेनाइट की भारत में विशेष मांग रहती है। मार्बल एवं ग्रेनाइट को डिस्प्ले में ग्राहकों को दिखाने के लिए आधुनिक स्टोन गैलेरी बनाने से उन्हें भटकना नहीं पड़ेगा। यह प्रस्ताव है कि मार्बल एवं ग्रेनाइट उद्योगों को भी बढ़ावा देने के लिए एक स्टोन गैलेरी स्थापित की जाए।

12. ठोस कचरा निस्तारण व पुराने कचरे का निपटान
नगर परिषद के डम्पिंग यार्ड पर 22000 घन मीटर क्षमता के पुराने कचरा निस्तारण केन्द्र में शहर से प्रतिदिन एकत्रित होने वाले 27 टन कचरे के निस्तारण के लिए सीपीसीबी की गाइडलाइन एवं एनजीटी के आदेशानुसार निविदा आमंत्रित कर दी गई है। प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित होने से संग्रहित कचरे से कम्पोस्ट खाद एवं आरडीएफ उत्पादित होगी। बचे अपशिष्ट के लिए 111 लाख रुपए डीएमएफटी तथा प्रोसेसिंग प्लांट पर खर्च के लिए 437 लाख वीजीएफ स्कीम में सरकार से मिलेंगे।

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned