Video : टिड्डी दल का देवगढ़ में धावा, किसानों की चिंता बढ़ी

- नगर में लोगों ने बजाई ढोल-थाली व फटाके फोड़े

By: Rakesh Gandhi

Published: 05 Jun 2020, 07:43 PM IST

देवगढ़. प्रदेश के कई जिलों में कहर ढाने के बाद टिड्डी दल देवगढ़ नगर में पहुंच गया और काफी देर तक अपना डेरा जमाए रखा। शुक्रवार दोपहर में देवगढ़ के आसमान पर मंडराते रहे इस खतरे को टालने की कोशिशें भी खूब हुई। हालांकि कुछ समय बाद टिड्डी दल को देवगढ़ से आमेट व कामलीघाट की तरफ रुखसत होते देखा गया। हालांकि नगर में यह दल अलग-अलग टुकड़ियों में बंटा हुआ था। भीलवाड़ा एवं लसानी के रास्ते अलग-अलग दलों के रूप में देवगढ़ में दाखिल हुए टिड्डी दल ने अचानक शुक्रवार दोपहर सवा तीन बजे नगर की ओर रुख कर लिया, जो करीब 40 मिनिट तक या ओर अधिक समय तक नगर में मंडराता रहा ओर उसके बाद यहां से चला गया।
लसानी व भीलवाड़ा की तरफ से आई ये टिड्डी दल कई ग्रामीण क्षेत्रों में होते हुए देवगढ़ नगर की तरफ पहुंची। पूरे नगर के मोहल्लों, बाजार क्षेत्र में भी टिड्डे उड़ान भरते देखे गए। जिस वक्त यह दल शहर के आसमान पर उड़ान भर रही थी ऐसा लग रहा था जैसे कोई परत जम गई हो। हर कोई कौतूहल भरी निगाहों से निहार रहा था और कोशिश कर रहा था कि आफत की यह उड़ान उनके मोबाइल कैमरों में कैद हो जाए। पूरे नगर के लोग सड़कों और घरो की छतों पर पहुंच गए और कई लोगों ने ढोल-थालियां बजाई तो कुछ ने पटाख़े फोड़े, ताकि टिड्डी दल यहां अपना डेरा नही डाल सके। कृषि वैज्ञानिकों का दावा है कि टिड्डी दल रात में उड़ान नहीं भरते, बल्कि किसी भी मुफीद जगह जैसे पेड़, या फसलों में आराम फरमाते हैं। वैसे तो इस दल से शहर में किसी भी प्रकार का खतरा नहीं हुआ है, लेकिन किसानों के लिए बड़ा संकट पैदा कर सकता है। खेतों पर खासकर हरी सब्जियों या प्रारंभिक फसल को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं।

Rakesh Gandhi Editorial Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned