यास्मिन के नक्शे कदम आगे बढ़ रही है मीनाक्षी

पत्रिका स्थापना दिवस व अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष
बदलाव की नायिकाएं : बॉडी बिल्डिंग में राजसमंद का एक उभरता हुआ नाम

By: Rakesh Gandhi

Updated: 07 Mar 2020, 08:20 PM IST

राजसमंद. मीनाक्षी रैगर, ये नाम फिलहाल नया जरूर है, लेकिन सबकुछ सही रहा तो निकट भविष्य में ये एक जाना पहचाना नाम होगा। इलेक्ट्रिकल इंजीनियर मीनाक्षी अभी बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता के लिए खुद को तैयार कर रही है।

खेल के मैदान में उतरना आज भी एक ग्रामीण परिवेश की लड़की के लिए आसान नहीं है। पहले परिवार और फिर समाज की प्राथमिकता में भी ये सब नहीं होता। लड़कियों को आज भी खेल मैदान से दूर रखा जाता है। जिले की रेलमगरा तहसील के छोटे से गांव की भावना जाट आज तेज पैदल चाल में राष्ट्रीय स्तर पर नाम रोशन कर रही है। उसका टोक्यो ओलम्पिक के लिए भी चयन हो चुका है। इसके अलावा भी कई महिला खिलाड़ी हैं जो इस जिले का नाम रोशन कर रही हैं। यदि लड़कियों को अवसर मिले तो वे बहुत कुछ कर सकती है। देश के खेल का नक्शा बदल सकती है। आज भी गांवों में प्रतिभाएं भरी पड़ी है, जरूरत सिर्फ उन्हें प्रोत्साहन देने की है।

मूलत: मोही गांव की मीनाक्षी ने भी अब नौकरी के साथ खेल को जीवन में अपना लिया है। जबसे देश की जानी पहचानी यास्मिन चौहान को बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिताओं में प्रदर्शन करते हुए देखा है, तब से मीनाक्षी ने खुद को इस फील्ड में उतारने का फैसला कर लिया। वह अब तक कुछ सीढिय़ां चढ़ भी चुकी है तथा खुद को पूरी तरह फिट रखने के साथ ही खान-पान पर भी पूरा ध्यान रख रही है।
मीनाक्षी की डगर आसान नहीं रही। हर माता-पिता अपने बच्चों का अच्छा ही चाहते हैं। बिल्कुल इसी तरह उसके पिता भी चाहते हैं कि उनकी लाडली पढ़-लिखकर अपना घर बसा ले और खुश रहे। पर उनकी लाडली का मन तो यास्मिन की राह पर दौड़ रहा है। काफी विपरीत परिस्थितियों के बाद भी उसने अपनी डगर नहीं छोड़ी और कठिन मेहनत के बूते इसी साल जनवरी में मीनाक्षी ने जोधपुर में आयोजित राजस्थान बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतने में कामयाबी हासिल की। ये तो उसका पहला मैडल है और उसका मानस तो अभी बहुत कुछ फतह करने का है। पांच बहनों व एक भाई में सबसे बड़ी मीनाक्षी इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के तौर पर एक कोरपोरेट कम्पनी में कार्यरत है और अपने पैरों पर खड़ी है। उसकी तमन्ना है कि अपने माता-पिता के प्रति पूरा सम्मान दिल में रखते हुए वह जीवन में कुछ कर अपने परिवार, समाज व देश का नाम रोशन करे। साथ ही अपने परिवार का हाथ बंटाए।

Rakesh Gandhi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned