तारांकित प्रश्न पर नहीं बोलने देने पर विधायक ने जताई नाराजगी

- विधानसभा अध्यक्ष ने गरिमा को आघात पहुंचाया- किरण

By: Rakesh Gandhi

Published: 18 Feb 2020, 08:45 PM IST

राजसमंद. पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने आज प्रश्नकाल में उनके सूचीबद्ध तारांकित प्रश्न पर नहीं बोलने देने पर विधानसभा अध्यक्ष के निर्णय पर गहरा रोष व्यक्त किया। किरण ने कहा कि वे तीसरी बार विधायक बनी है। सीपी जोशी ने अध्यक्ष पद की गरिमा को गहरा आघात पहुंचाया है। सरकार को असहज करने वाले प्रश्नों को उठाने से रोकने का प्रयास अत्यंत निंदनीय है। सदन में ऐसा लगता है जैसे कांग्रेस पार्टी का कोई सम्मेलन चल रहा हो। अध्यक्ष का व्यवहार अत्यंत पक्षपातपूर्ण, मर्यादा एवं सम्मान की सीमा लांघने का रहता है।
किरण ने कहा कि आज उन्होंने जिला खनिज प्रतिष्ठानों की आय एवं विकास कार्य पर व्यय के बारे में सूचना मांगी थी। सरकार के पास इन न्यासों में 2755 करोड़ रुपए जमा है। वर्ष 2018-19 में भाजपा शासनकाल में 515 करोड़ रुपए के विकास कार्य हुए, जबकि वर्तमान वर्ष में मात्र 313 करोड़ रुपए के विकास कार्य हुए हैं। ये सभी कार्य पूर्व शासन में ही स्वीकृत हो गए थे। भाजपा शासन में वर्ष 2018-19 में 947 करोड रुपए के नवीन कार्य स्वीकृत किए गए थे, जबकि वर्तमान वर्ष में मात्र 64 करोड़ रुपए की स्वीकृति जारी की गई।
विधायक ने कहा कि डीएमएफटी को लेकर राजसमंद जिले की स्थिति तो अत्यंत विषम है। वहां वर्तमान वर्ष जहां न्यास को 187 करोड़ रुपए की आय हुई है एवं न्यास के पास कुल जमा 623 करोड़ रुपए है, लेकिन एक भी नवीन कार्य स्वीकृत नहीं हुआ। राजसमंद में पूर्व स्वीकृत सभी कार्यों पर भी रोक लगा दी गई। केवल पूर्व वर्ष में लगभग पूर्ण हो चुके कार्यों पर ही मात्र 30 करोड़ रुपए व्यय किए गए।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार जिला खनिज प्रतिष्ठानों के कार्य पर रोक लगाकर इनकी स्थापना उद्देश्य को ही असफल कर रही हैं। इतने महत्वपूर्ण विषय पर षडय़ंत्र पूर्वक उन्हें बोलने से रोका गया है। यह सदन के इतिहास पहली बार हुआ है कि सूचीबद्ध प्रश्न पर प्रश्नकर्ता को नहीं बोलने दिया गया। सीपी जोशी अध्यक्ष के स्थान पर कांग्रेस का हल्ला ब्रिगेड के नेता की तरह कार्य कर रहे हैं।

Rakesh Gandhi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned