हाइकमान की मुहर से पहले कांग्रेस के इस दिग्गज ने किरण माहेश्वरी के सामने किया नामांकन, दावेदारों की बढ़ गई धड़कने

www.patrika.com/rajasthan-news

By: rohit sharma

Published: 15 Nov 2018, 02:35 PM IST

राजसमंद।

rajasthan election 2018 के चुनावी मौसम के चलते जहां बीजेपी ने टिकट सूची जारी करने में दो दांव खेल लिए, वहीं कांग्रेस की पहली सूची पर लगातार दो दिनों से संशय बरकरार चल रहा है। लगातार तीन दिन से चल रहे टिकट मंथन के बाद अभी तक कांग्रेस की सूची जारी नहीं हो पाई। वहीं कांग्रेस के नेताओं ने बिना सूची जारी किए नामांकन भी भरने शुरू कर दिए हैं।

 

 

जयपुर से दिल्ली तक कांग्रेस के प्रत्याशियों की घोषणा को लेकर जहां जद्दोजहद चल रही है। वहीं कांग्रेस के नेता, विधायकों ने अलग-अलग विधानसभाओं से 12 तारीख से ही नामांकन भरने शुरू कर दिए थे। वहीं अब तक करीब 17 से 18 नेताओं ने अब तक नामांकन दाखिल कर दिया है। सबसे पहले कांग्रेस के नेता पूर्व राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव हरीश चौधरी ने बिना सूची आए नामांकन दाखिल कर दिया था।

 

 

एक तरफ मंगलवार शाम तक सूची को लेकर प्रदेशभर में इंतजार चल रहा था, इस बीच जिले की गुड़ामालानी सीट से पूर्व राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी और बायतु विधानसभा क्षेत्र से अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव हरीश चौधरी ने मंगलवार सुबह नामांकन भी दाखिल कर दिया। कांग्रेस के हजारों कार्यकर्ताओं के साथ दोनों ने अपने-अपने उपखण्ड मुख्यालय पहुंचकर रिटर्निंग ऑफिसर को नामांकन पत्र सौंपा।

 

 

इस पर हेमाराम चौधरी का कहना है कि पार्टी ने पहले ही कह दिया था कि आपको चुनाव लडऩा है। जब फाइनल हो जाएगा तो सिम्बल जमा करवा दिया जाएगा। वहीं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव ने कहा कि शुभ मुहुर्त के हिसाब से आवेदन भर दिया है। पार्टी जो तय करेगी वही मान्य होगा। ब्लॉक कार्यकर्ताओं ने सर्वसम्मति से निर्णय किया तो आवेदन भर दिया।

 

वहीं बुधवार को भी कुछ इसी तरह का वाकया देखने को मिला। कांग्रेस से विधानसभा प्रत्याशी की घोषणा से पहले ही बुधवार को राजसमंद में पूर्व जिला प्रमुख नारायणसिंह भाटी ने बतौर कांग्रेस प्रत्याशी के नाम निर्देशन पत्र रिटर्निंग अधिकारी प्रवीण कुमार के समक्ष प्रस्तुत कर दिया।

 

 

भाजपा की किरण माहेश्वरी के सामने कांग्रेस से भाटी के नामांकन दाखिल करने के साथ ही राजनीतिक गलियारे में चर्चाओं का दौर तेज हो गया। राजसमंद विधानसभा में कांग्रेस से टिकट के लिए भाटी के अलावा पूर्व सभापति आशा पालीवाल, सुंदरलाल कुमावत, हरिसिंह राठौड़, दिग्विजयसिंह राठौड़, दिनेश बाबेल, गुणसागर कर्णावट कतार में लगे हुए हैं। पार्टी से टिकट के नाम की घोषणा से पहले ही पूर्व जिला प्रमुख भाटी बुधवार सुबह ठीक सवा 11 बजे कुछ समर्थकों के साथ रिटर्निंग अधिकारी राजसमंद कार्यालय पहुंचे, जहां नामांकन प्रस्तुत कर दिया।

 

इधर, पार्टी के अन्य प्रत्याशियों के साथ ही आम कार्यकर्ताओं में भी खलबली मच गई। उनके कार्यालय पर दिनभर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जमघट लगा रहा, मगर टिकट को लेकर कोई स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई।


दावेदारों की बढ़ गई धड़कने

भाटी के नामांकन से अन्य दावेदारों की धड़कने गई और अब तक की तैयारियों को लेकर माथे पर चिंता की लकीरें खींच गई। हालांकि हाइकमान द्वारा टिकट की घोषणा नहीं होने एवं राजसमंद से टिकट के पैनल में कई लोगों के नाम होने की जानकारी लेने में जुटे रहे। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व में भी असमंजस की स्थिति बनी रहने और हाइकमान से संपर्क नहीं होने से दिनभर ऊहापोह के हालात बने रहे।

 


कोई भी भर सकता है नामांंकन

लोकतंत्र में कोई भी व्यक्ति चुनाव लड़ सकता है। पूर्व जिला प्रमुख भाटी द्वारा कांग्रेस के नाम से निर्देशन भरा है, तो मेरी ओर से शुभकामनाएं है कि उन्हें पार्टी से टिकट मिले। अगर पार्टी सिम्बल नहीं देगी, तो निर्वाचन विभाग द्वारा स्वत: नामांकन निरस्त कर दिया जाएगा। इसमें पार्टी की अनुशासनहीनता की कोई बात नहीं है।

- देवकीनंदन गुर्जर, जिलाध्यक्ष कांग्रेस राजसमंद

 


बाद में नहीं है शुभ मुहूर्त

पार्टी का निर्णय सर्वोपरि है और पार्टी जिसे भी टिकट देगी। मैं उसके साथ रहूंगा। मेरे नाम व राशि के लिहाज से आज ही शुभ मुहूर्त था। इसीलिए सुबह सवा ग्यारह बजे नामांकन भरा है।

- नारायणसिंह भाटी, कांग्रेस दावेदार

rohit sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned