scriptPanther, bear, wild cat and other wildlife were seen here throughout t | Wildlife Census 2022 : यहां दिनभर खूब दिखे पैंथर, भालू, जंगली बिल्ली व अन्य वन्यजीव | Patrika News

Wildlife Census 2022 : यहां दिनभर खूब दिखे पैंथर, भालू, जंगली बिल्ली व अन्य वन्यजीव

-पैंथर, भालू, जरख, सांभर, नीलगाय, बूटार, जंगली सूअर, जंगली मुर्गा सहित कई वन्य जीव वाटर हॉल पर प्यास बुझाने पहुंचे, 40 प्राकृतिक व कृत्रिम वाटर हॉल पर 34 एवं 6 वॉच टावर के माध्यम से 80 गणक बने वन्यजीव गणना के साक्षी

राजसमंद

Published: May 18, 2022 10:54:53 am

राजसमंद/कुंभलगढ़. पूर्णिमा की धवल रोशनी की रात सोमवार को कुंभलगढ़ राष्ट्रीय उद्यान में प्रात: आठ बजे वार्षिक वन्यजीव गणना शुरू हुई, जो मंगलवार प्रात: आठ बजे तक चली। कभी हिंसक जानवरों की गुर्राहट तो कभी पक्षियों की चहचहाट के बीच वन्यजीवों की गणना को कुंभलगढ़ के 40 कृत्रिम एवं प्राकृतिक वाटर हॉल पर 34 मचान एवं 6 वॉच टॉवर के माध्यम से लगभग 80 गणकों ने अंजाम दिया।
इससे पूर्व रेंजर किशोरङ्क्षसंह एवं वनपाल सत्येन्द्र चौधरी ने मय जाप्ते के आरेट से ठंडी वेरी तक मुख्य वनपथ सहित अन्य वनपथों पर गश्त की। विभाग द्वारा चिन्हित 40 प्राकृतिक व कृत्रिम वाटर ***** पर वन्य जीवों की आखों देखीं गणना का कार्य 16 मई मंगलवार सुबह 8 बजे तक चला। राष्ट्रीय उद्यान की बोखाड़ा, सादड़ी, देसूरी व कुंभलगढ़ सहित चारों रेंज व सामाजिक वानिकी की झीलवाड़ा रेंज सहित रावली टॉडगढ़ की भीम, रावली, जोजावर व बीजागुड़ा रेंज में भी इस कार्य को सफलता पूर्वक अंजाम दिया गया।
रहा डर का माहौल
गणना के दौरान राजसमंद से आए छोटी ओदी वाटर हॉल पर गणकों ने बताया कि शाम ढलने के साथ ही विरान जंगल से रात के अंधेरे में मन को विचलित करने वाली वन्य जीवों आवाजें आने लगी। कई बार तो लगा जैसे कोई हिंसक जानवर आपस में लड़ रहे हंै। तो कई बार नजदीक ही गुर्राने की आवाजों ने इस कदर डरा दिया की रोम-रोम में सिहरन दौड़ गई। वहीं, कोठार वड़ वाटर हॉल पर बैठे हसन खां एवं सलीम शेख ने देर शाम पैंथर एवं भालू को जब काफी नजदीक से देखा तो सांसे ठहर सी गई। लेकिन, कुछ ही पल में वह नजरों से ओझल भी हो गए। वहीं, देर रात दो जरख देखे गए। इस दौरान पैंथर की गुर्राहट सुन मन रोमांचित हो उठा। डर एवं बैचेनी के बाद सुबह होते-होते पक्षियों की चहचहाट से मन में को सुकून मिला। उन्होंने बताया कि रातभर कई दुर्लभ प्रजाति के रात्रिचर जानवरों को वाटर हॉल पर प्यास बुझाते हुए देखा। इससे मन में किसी भी अनहोनी की आशंका के बीच अजीब रोमांच भी था।
इन्हंोंने भी देखे वन्यजीव
ईधर, रंगवेरी वाटर हॉल पर बैठे सिकंद खान एवं वनपाल महेन्द्रसिंह ने तीन भालू एवं साथ देखे। वहीं, बिज्जू एवं सांभरों का झुण्ड देखा गया। पृथ्वीराज की छतरी, भंवर वल्ला एवं काली ओदी, रातडिया, सामरिया कुंड, माउड़ी खेत, सादड़ी रेंज के हंजावाव वाटर हॉल, देसूरी रेंज स्थित हरिओम आश्रम के निकट गणकों ने आरती के समय ही पैंथर परिवार देखा। रावती एनिकट वाटर हॉल पर वनकर्मियों ने रातभर में पैंथर, जरख, भालू, सूअर व सांभर सहित नील गायें देखी। जरडू वाटर टब, बांस की बडली, भंवरवल्ला, सामरिया कुंड एवं रिछावेरा वाटर हॉल पर वनकर्मियों सहित गणकों ने रातभर प्यास बुझाते कई जानवरों को देखा।
इन स्थानों पर बैठे गणक
यूं तो 40 वाटर हॉल पर मचान बनाए गए, लेकिन मुख्य रूप से अभयारण्य के प्रारंभ में स्थित मीठी बोर, माउड़ी खेत, रिछा बेरा, रंग बेरी, छोटी ओदी, गोदाम का बड़, ठंडी वेरी, कोठार वड़, रातडिया, भंवरवल्ला, पृथ्वीराज की छतरी सहित सभी मुख्य वाटर हॉल पर बने मचानों पर 2-2 की संख्या में गणक एवं एक-एक ईको गाइड को बैठाया गया।
नजदीक से देखा वन्यजीवों का जीवन
वन्यजीवों के जीवन को नजदीक से जानने के लिए उत्सुक गणना में शामिल कई गणकों ने गणना के दौरान वन्यजीवों की अठखेलियों सहित उनके जीवन को काफी नजदीक से देखने का लुत्फ उठाया। विश्वनीय वन व गणक सूत्रों के मुताबिक वाटर हॉल पर 24 घण्टे के दौरान अपनी प्यास बुझाने के लिए आए पैन्थर, भालू, जरख, सियार, साम्भर, चौंसिगा, नीलगाय, भेडिय़ा, लोमड़़ी, रेप्टाईल एवं पक्षी वर्ग की विविध दुर्लभ एवं विलुप्त प्राय: जाति के विभिन्न वन्यजीवों को प्यास बुझाते देखा गया।
रातभर में दिखे 428 वन्यजीव
वनविभाग के अनुसार गणना वाली रात मुख्य रूप से 42 पैंथर, 59 भालू, 217 सांभर, 79 जंगली सूअर एवं 31 जरख देखे गए।
गश्त पर हैं अधिकारी
रेजर किशोरसिंह, वनपाल सत्येन्द्र चौधरी सहित वन अधिकारी मय जाप्ते के कुंभलगढ़, देसूरी, सादड़ी एवं झीलवाड़ा रेंज की गश्त करते रहे।
,
वन क्षेत्र के विभिन्न वॉटर हॉल पर प्यास बुझाने पहुंचे भालू,वन क्षेत्र के विभिन्न वॉटर हॉल पर प्यास बुझाने पहुंचे पैंथर
आंकड़े आने में लगेंगे 10 दिन
वन विभाग की ओर 12 रेंज में की गई वन्यजीव गणना में भालू, पैंथर और चौसिंगा सहित कई वन्यजीव दिखाई दिए। वन विभाग की ओर सूचनाओं को एकत्र किया जा रहा है। इसमें 8-10 दिन का समय लगेगा। इसके बाद इन्हें राज्य सरकार के पास भेजी जाएगी। वहां से वन्यजीव गणना के आंकड़े जारी किए जाएंगे।
प्री-मॉनसून की बारिश से नहीं हुई थी गणना
अब सभी वन्यजीव गणना करने वाले कार्मिकों को दी गई शीट को एकत्र कर उन्हें कम्यूटर में फीड करने का कार्य किया जा रहा है। इसके बाद इनकी गणना कर शीट तैयार की जाएगी। इस कार्य में 8 से 10 दिन का समय लगने की उम्मीद है। इसके बाद इसे मुख्यालय भेजी जाएगी। वहां से सरकार को भेजा जाएगा। इसके बाद वन्यजीव की वास्तविक स्थिति जारी की जाएगी। उल्लेखनीय है कि वन विभाग की ओर से पिछले साल ताऊते तूफान और प्री-मानसून बारिश के कारण वन्यजीव गणना नहीं हो पाई थी। प्रतिवर्ष बुद्धपूर्णिमा की चांदनी रात में वन्यजीव गणना की जाती है। रात्रि में प्रकाश अधिक होने से रात्रि में भी लाइट आदि की व्यस्था नहीं करनी पड़ती है। कई वर्षो से इस दिन ही वन्यजीव गणना हो रही है।
फिर शुरू हुई सफारी की सवारी
वन विभाग की ओर से वन्यजीव गणना के चलते सोमवार सुबह 8 बजे से मंगलवार को सुबह 8 बजे तक कुंभलगढ़ में सफारी की सवारी बंद रहेगी। दोपहर बाद इसे फिर से शुरू किया जाएगा। बुधवार से नियमित रूप से सफारी का संचालन जारी रहेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में नई सरकार की कवायद हुई तेज, दिल्ली में आज देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हो सकती है मुलाकातMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र के सियासी संकट के बीच BJP की शिकायत पर एक्टिव हुए राज्यपाल, MVA सरकार के फैसलों की मांगी डिटेल्स1 जुलाई से महंगाई के नए कदम, जुलाई में भी जेब कटने का सिलसिला रहेगा जारी, हो रहे हैं 7 बड़े बदलावGST Council की 47वीं बैठक चंडीगढ़ में शुरू, दिख सकता है भरपूर एक्शन: Petrol-Diesel को जीएसटी में लाने समेत कई अहम फैसलों पर नजरपटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला - 'अगर पीड़िता ने नहीं किया विरोध, तो इसका मतलब ये नहीं की रेप के लिए सहमति दी'कौन हैं सोनिया गांधी के PA पीपी माधवन, जिन पर लगा रेप का आरोप?पीएम मोदी को ढूंढते हुए आए अमरीकी राष्ट्रपति बाइडन, पीछे से दी थपकी, देखिए Videoलंबी चुप्पी के बाद सचिन पायलट का अशोक गहलोत पर सबसे बड़ा हमला: अब नहीं चूकेंगे...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.