राजसमंद की मंजू के परिवार को मिली मदद

पत्रिका की खबर का असर : भामाशाह व समाजसेवी संस्थाएं आई आगे

By: jitendra paliwal

Published: 28 Feb 2021, 10:23 AM IST

केलवा. पंचायत क्षेत्र के चारना की खाली में मुखिया के कैंसर से पीडि़त होने से बिस्तर पर लेट जाने से परिवार के समक्ष हुई गुजारे की दिक्कत पर भामाशाह और समाजसेवी संस्थाओं ने इस परिवार की मदद के लिए अपने हाथ बढ़ाए हैं।
इस परिवार के मुखिया कैंसर से पीडि़त होने के बाद करीब एक साल से बिस्तर पर पड़ जाने व उसकी पत्नी मंजू देवी की भी दिमागी हालत सही नहीं होने से पति-पत्नी व 4 बच्चों के इस परिवार के समक्ष रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया था। इस परिवार की स्थिति को गंभीरता से लेते हुए राजस्थान पत्रिका के 26 फरवरी के अंक में पति 1 साल से बिस्तर में पड़ा, मंजू कैसे पाले 4 बच्चों का पेट, शीर्षक के साथ प्रमुखता से खबर प्रकाशित की गई थी। खबर प्रकाशित होने के बाद समाजसेवी भामाशाह तनसुख बोहरा द्वारा कैंसर रोग से पीडि़त फतेहलाल के इलाज के लिए तुरंत चारना की खाली पहुंचकर 25000 रुपए का आर्थिक सहयोग एवं खाद्य सामग्री दी गई। वहीं, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की टीम द्वारा लोक कल्याणकारी योजना खाद्य सुरक्षा में नाम जोडऩे के लिए विभाग को पत्र लिखा। इसके साथ ही शनिवार को बाल समिति की अध्यक्ष भावना पालीवाल, अनीता पालीवाल, रेशमा, प्रवीण आदि ने भी परिवार को खाद्य सामग्री प्रदान की। साथ ही रोगी को उदयपुर अस्पताल में इलाज करवाने में सहायता की पेशकश की। पीडि़त परिवार को किसान गु्रप के डायरेक्टर भोलीराम सिंधल ने 11 हजार रुपए की आर्थिक सहायत दी। इसके साथ ही अनिल मीणा सरदारगढ़ चौकी इंचार्ज, मोहन सिंघल, सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य देवीलाल रजक, रमन चौधरी, विक्रमसिंह ने भी आर्थिक सहयोग किया। इसके साथ ही 7100 रुपए का भामाशाहों ने गुप्त रूप से भी सहयोग किया। व्यापार मंडल अध्यक्ष रमेश चपलोत ने बताया कि व्यापार मंडल द्वारा हर माह राशन सामग्री की व्यवस्था की जाएगी। ग्राम विकास अधिकारी अर्जुनसिंह राठौड़ ने पीडि़त परिवार की आर्थिक मदद कर पंचायत की ओर से मदद की बात कही।

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned