video : माइंस में खड़ी पोकलैंड मशीन, डंपर फूंके

- खमनोर के पास उनवास में हुई घटना, मालिक ने कहा- राजनीतिक द्वेषता से किया नुकसान
- एक दिन पहले खान मालिक के खिलाफ सरपंच व ग्रामीणों ने दी थी अवैध ब्लास्टिंग रोकने की रिपोर्ट

By: Rakesh Gandhi

Published: 03 Jun 2020, 07:46 PM IST

खमनोर (राजसमंद). उनवास में पत्थर की एक खान पर बुधवार सुबह कुछ लोगों ने मजदूरों के कमरों, आफिस, गोदाम में तोड़फोड़ कर वहां खड़ी पोकलैंड मशीन, डंपरों में आग लगा दी। कमरों में पड़ा सामान जलकर खाक हो गया। माइंस मालिक का आरोप है कि कुछ प्रतिद्वंद्वियों ने राजनीतिक द्वेषता के चलते लोगों को उकसाकर यह घटना करवाई है। एक दिन पहले सरपंच व ग्रामीणों ने माइंस मालिक के खिलाफ अवैध ब्लास्टिंग का आरोप लगाते हुए खमनोर पुलिस थाने में रिपोर्ट दी थी। पुलिस इस मामले की गहन जांच में जुट गई है।
उनवास गांव के पास चल रही एक माइंस पर बुधवार सुबह 8 बजे यह घटना हुई। कुछ लोग माइंस पर पहुंचे और मजदूरों के रहने के कमरों में तोड़-फोड़ की। बर्तन, गैस चूल्हा, टंकी, बेलन-चकला, आटा, दाल, चावल, प्याज, मिर्च-मसाले सहित काफी सामान बिखेर दिया। वहीं पक्की दीवारों, टीनशेड से बने दो कमरों में आग लगा दी। एक और कमरे में माइंस पर चलने वाले संसाधनों की मशीनरी सर्विस एवं पार्ट्स से जुड़े आइटम पड़े थे। श्रमिक आवासों के पास खड़े तीन डंपरों को भी आग के हवाले कर दिया, इनमें दो डंपर पूरी तरह जलकर खाक हो गए। एक डंपर के केवल टायर जले।
माइनिंग एरिया में खड़ी एक पोकलैंड मशीन में भी आग लगा दी, जिससे मशीन का केबिन का काफी हिस्सा जलकर नष्ट हो गया। इसके अलावा परिसर में पड़े टायरों के ढेर, आफिस में पड़े टेबल, कुर्सी सहित फर्नीचर भी बाहर लाकर तोड़ा और उसमें आग लगा दी। घटना में लाखों रुपए का नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। घटना की जानकारी मिलने पर खमनोर थाने से एएसआई रामसिंह यादव, अर्जुनसिंह मय जाब्ता घटनास्थल पहुंचे। करीब 12 बजे नाथद्वारा नगरपालिका की दमकल की गाड़ी भी पहुंची। गाड़ी पहुंचने तक अधिकांश संसाधन और कमरों में रखा सामान जलकर खाक हो चुका था। कमरों और खाक हो चुके संसाधनों से धुंआ उठ रहा था।
कर्मचारी ने ईमेल से भेजी रिपोर्ट, दर्ज नहीं
माइंस पर बुधवार को आगजनी व तोड़फोड़ की घटना के बाद सुपरवाइजर मोहनसिंह पुत्र भैरूसिंह ने ईमेल के जरिये खमनोर पुलिस थाने में भेजी रिपोर्ट में बताया कि मंगलवार को सोनू पुत्र गोपालदास वैष्णव व अन्य के खिलाफ भी ई-मेल के जरिये थाने में एक रिपोर्ट भेजी थी, जिससे गुस्सा होकर सोनू अपने पिता गोपादास वैष्णव, सुंदरलाल पुत्र मोतीलाल मेघवाल, गोविंद दास पुत्र भंवरलाल वैष्णव, श्यामलाल पुत्र भंवरलाल श्रीमाली, रूपलाल पुत्र भंवरलाल गमेती व 7-8 अन्य लोग माइंस पर पहुंचे। सुपरवाइजर ने रिपोर्ट में बताया कि घटना में शामिल लोग पेट्रोल, केरोसिन व डीजल के केन लेकर आए और उसे जिंदा जलाने की कोशिश की। वह डरकर भाग गया। इसके बाद आरोपियों ने तोड़फोड़ और आगजनी की।

सरपंच ने दी थी अवैध ब्लास्टिंग की रिपोर्ट
उनवास सरपंच गीता देवी श्रीमाली व ग्रामीणों ने मंगलवार देर शाम को माइंस मालिक के खिलाफ रिपोर्ट दी थी। रिपोर्ट में सरपंच व ग्रामीणों ने बताया कि आबादी के पास अवैध ब्लास्टिंग की जा रही है। बड़े-बड़े पत्थर आबादी में आकर गिर रहे हैं। माइंस संचालक को ब्लास्टिंग नहीं करने को कहा तो ग्रामीणों को डराया-धमकाया जा रहा है। आरोपों पर माइंस मालिक विजयसिंह का कहना है कि कई वर्षों से माइंस का नियमों को ध्यान में रखकर संचालन किया जा रहा है। माइंस के मामले में लगाए जा रहे आरोप गलत है। राजनीतिक द्वेषता के कारण माइंस पर नुकसान किया है।
-------
माइंस की घटना की सूचना पर दमकल मंगवाकर आग बुझवाई, मगर अभी तक रिपोर्ट नहीं मिली है। रिपोर्ट मिलने पर मामला दर्ज कर जांच व कार्रवाई की जाएगी।’
- सुरेशचंद्र पालीवाल, एसएचओ, पुलिस थाना खमनोर

Rakesh Gandhi Editorial Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned