पेन छुड़वाकर हाथ में पकड़ा दिए 'पत्थर' से काम

कोरोना के साइड इफैक्ट : मां-बाप की कमाई ठप होने पर बच्चों को करना पड़ रहा है रोजी-रोटी का जुगाड़, एक हजार बच्चों में कोई होटल पर रोटियां बना रहा तो कोई सॉप स्टोन की फैक्ट्री में धूल फांक रहा

By: jitendra paliwal

Published: 27 Oct 2020, 11:15 AM IST

केस-1
खमनोर ब्लॉक में एक ढाबे पर मिले 14 साल के राघव (परिवर्तित नाम) के हाथ आटे से भरे हैं। पास में भट्टी चल रही थी। केलवाड़ा के किसी गांव से 50 किमी दूर आकर यह सुबह सात से रात 12 बजे तक रोजाना काम करता है। पापा का अहमदाबाद में आइसक्रमी का धंधा था। लॉकडाउन में ठप होने से घर लौट आए। अब बच्चे को पढ़ाई छुड़वाकर काम पर भेज दिया।

केस-2
13 साल का देवेन्द्र (परिवर्तित नाम) उदयपुर से आकर राजसमंद जिले में एक होटल पर काम कर रहा है। पिता नहीं है। मां जैसे-तैसे घर-गुजारा चला रही थी, लेकिन कोरोनाकाल में काम मिलना बंद हो गया। बच्चे को पढ़ाई छोड़कर मज़बूरी में होटल पर काम के लिए जाना पड़ा। उसे महीने की 3000 रुपए तनख्वाह मिलती है। बच्चे ने नम आंखों से कहा, मैं यहां से चला जाऊंगा तो हम भूखे मर जाएंगे।

केस-3
देवेन्द्र (13 वर्ष) मध्यप्रदेश से परिवार सहित केलवा क्षेत्र की एक सोप स्टोन की फैक्ट्री में काम करने आया। लॉकडाउन में सरकारी स्कूल की पढ़ाई छूट गई। पिता के साथ वह भी फैक्ट्री में काम करता है। पाउडर प्रसंस्करण इकाई में जोखिमपूर्ण काम है। उसकी सेहत को भी खतरे में डाल दिया गया है। यहां न तो पढ़ाई हो रही है, न ही उसके भविष्य का कोई अता-पता है।

राजसमंद. कोरोना महामारी के शुरुआती दौर में लगे लॉकडाउन के साइड इफैक्ट अब दिखने लगे हैं। सरकारी स्कूलों में पढ़ाई ठप है तो अब निर्धन परिवारों के बच्चों को उनके मां-बाप ने काम पर लगा दिया है। अपनी व परिवार की दो वक्त की रोटी का जुगाड़ वे खुद कर रहे हैं।
ये हालात चौंकाने वाले हैं। शिक्षा का समान अधिकार देने का दावा करती सरकार और उसके बनाए कानून भी इन बच्चों की तालीम की हिफाजत नहीं कर सकी है। सरकारी स्कूल में पढ़ रहे थे, लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई का कोई इंतजाम नहीं होने से उनके और नियमित पढ़ाई कर रहे बच्चों के लिए बड़ी खाई बनने वाली है। पढ़ाई छुड़वाकर अभिभावकों ने उन्हें कमाई के लिए भेज दिया है। किसी को 5 किलोमीटर तो किसी को 50 किमी दूर।

जतन संस्थान के उप निदेशक रणवीर और चाइल्ड लाइन के डिस्ट्रिक्ट को-ऑर्डिनेटर संजय राव बताते हैं कि जिलेभर में होटल-ढाबों पर सैकड़ों बच्चे काम कर रहे हैं। उनकी टीम श्रम व पुलिस विभाग की मदद से सर्वे और समझाइश भी कर रही है, ताकि बच्चों को खतरनाक कामों से हटाकर पढ़ाई व रचनात्मक कार्यों में लगाया जा सके। हालांकि उनके परिवारों की गुजर-बसर एक बड़ी चुनौती और सवाल है।

पाउडर प्लांट्स में मध्यप्रदेश के बच्चे
जानकारी मिली कि केलवा, करेड़ा, बामनटुंकड़ा व आसपास के क्षेत्रों में पाउडर प्लांट्स में मध्यप्रदेश, बिहार, उत्तरप्रदेश के कई परिवार आए हैं, जिन्होंने 12 से 18 साल उम्र तक के बच्चों को भी झोंक रखा है। ढाबों और पाउडर प्लांट्स में कुल मिलाकर एक हजार से ज्यादा बालक-बालिकाएं पढऩे की उम्र में जोखिम भरे काम कर रहे हैं। कोई आग व भट्टी के पास गरम तेल से खेल रहा है तो कोई बड़े-बड़े पत्थरों के बीच पसीना बहा रहा है।

समझाइश की जा रही है
पिछले दस दिन में हमने सर्वे किया। जहां भी बच्चे मिले, उनके माता-पिता और नियोक्ता से समझाइश की है। अब किसी जगह से शिकायत आने पर ही विभाग द्वारा कार्रवाई करने का प्रावधान है। समाज कल्याण, पुलिस विभाग, चाइल्ड लाइन की मदद से कोशिश कर रहे हैं।
प्रदीप यादव, श्रम कल्याण अधिकारी, राजसमंद

पढ़ाई की मॉनिटरिंग होनी चाहिए
बच्चों की पढ़ाई की नियमित मॉनिटरिंग होनी चाहिए। सरकार ही बच्चों की पढ़ाई सुनिश्चित करे। हर स्कूल की प्रबंधन कमेटियां यह तय करे कि पढ़ाने वाले और पढऩे वाले भी पढ़ें। पढ़ाई के बाद जब तक प्रश्न नहीं किए जाएंगे, अध्यापन कार्य पर नियंत्रण नहीं रखा जा सकेगा। थोड़ा अभिभावकों, स्कूल और कम्युनिटी को भी संवेदनशील बनाना पड़ेगा। केवल आदर्शवादिता की बातों से काम नहीं चलेगा।
डॉ. गायत्री राठौड़, विभागाध्यक्ष, मानव विकास एवं पारिवारिक अध्ययन, सामुदायिक एवं व्यावहारिक विज्ञान महाविद्यालय, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned