scriptRajsamand latest news | दुर्लभ बीमारी से दो-दो हाथ कर घर लौटा छह साल का बच्चा तो परिवार में छाईं खुशियां | Patrika News

दुर्लभ बीमारी से दो-दो हाथ कर घर लौटा छह साल का बच्चा तो परिवार में छाईं खुशियां

राजसमंद के खमनोर में गाडोलिया लोहार परिवार के बच्चे को आंख की पीड़ा से मिली निजात

राजसमंद

Published: March 29, 2022 10:00:39 am

खमनोर (राजसमंद). कस्बे में निवासित गाडोलिया परिवार का साढ़े छह वर्षीय बालक दिनेश आंख के रेटिना में कैंसर के जानलेवा व भयावह रोग से दो-दो हाथ कर 18 दिन में वापस घर आ गया है। दिनेश ने जैसे ही अपने घर में कदम रखा, परिवार की खोई हुई खुशियां लौट आईं।
दो साल पहले बाईं आंख के रेटिना में छोटी से फुंसी होने से आंख के बाहर आ जाने तक की विभत्स स्थिति बनने के बाद एक वक्त ऐसा भी आया, जब पूरे परिवार ने अपने घर के चिराग के जिंदा बचने की उम्मीद छोड़ दी थी, मगर खुद दिनेश ने बेहद विषम परिस्थितियों में जिजीविषा नहीं छोड़ी। कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त बालक ने रोग से लडऩे में बहुत हिम्मत दिखाई। करीब दो साल फुंसी बन उपजा रोग गत छह माह में इतना भयंकर रूप ले चुका था, मानो बालक की जान लेने पर ही तुल गया। अस्पताल में इलाज कराने की बजाय परिजनों के झाड़-फूंक, तंत्र-मंत्र के चक्कर में पडऩे से बहुत देर हुई। इसी बीच जागरूक लोगों ने बालक की बिगड़ती हालत देख परिजनों को प्रोत्साहित किया और 10 मार्च 2022 को इलाज के लिए उदयपुर भिजवाया। जनप्रतिनिधियों की चिकित्सा अधिकारियों से बातचीत, बाल कल्याण समिति व चाइल्ड लाइन की निरंतर निगरानी और डॉक्टरों से लगातार संपर्क के कारण बालक की सभी आवश्यक जाचें की गईं और 14 मार्च को सर्जरी की गई। बालक की रोगग्रस्त आंख (आई बॉल) निकाल दी गई। इसी से संक्रमण थम गया और बालक के स्वस्थ की प्रक्रिया शुरू हो गई। सर्जरी के दौरान लिए गए सैंपल की जांच में कैंसर की पुष्टि हुई। हालांकि अब बालक फिलहाल स्वस्थ और पहले से कहीं बेहतर महसूस कर रहा है। बालक दिनेश का लौटना परिजनों ही नहीं, हजारों शुभचिंतकों और दुआएं करने वालों के लिए भी सुखद पल है।
दुर्लभ बीमारी से दो-दो हाथ कर घर लौटा छह साल का बच्चा तो परिवार में छाईं खुशियां
दुर्लभ बीमारी से दो-दो हाथ कर घर लौटा छह साल का बच्चा तो परिवार में छाईं खुशियां
रोग जड़ से खत्म करने चलेगा इलाज
हालांकि रोग को पूरी तरह जड़ से खत्म करने के लिए अभी थोड़े समय इलाज चलेगा। सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष कोमल पालीवाल ने बताया कि उन्होंने डॉक्टरों से पोस्ट सर्जरी ट्रीटमेंट को लेकर भी बात की है। बालक को कीमो थैरेपी नहीं दी जाएगी। मगर, दवाइयां जारी रहेंगी। फिलहाल 20 दिन का ट्रीटमेंट देकर घर भेजा है। उम्मीद की जा रही है कि बालक डॉक्टरों की सलाह और दवाइयों से पूरी तरह स्वस्थ हो जाएगा। सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष सोमवार को बालक से मिलने उसके घर पहुंचे। भाजपा महिला मंडल अध्यक्ष कोमल सोनी, वार्ड पंच गोपाल माली बालक से मिले।
अंधविश्वास में घिरे, फिर पछताए परिजन
रोग की गिरफ्त में घिर चुके बालक के इलाज में परिजनों ने लापरवाही दिखाई थी, मगर वे जब बालक को लेकर अस्पताल पहुंचे और डॉक्टरों ने इलाज में जी-जान लगाई तो अंधविश्वास के फेर में अपनी की हुई गलतियों पर बहुत पछताए। उल्लेखनीय है कि परिवार में अब तक तीन पीढिय़ों में ये रोग वंशानुगत रहा और बालकों को लीलता चला गया। इससे पहले 3 जनों ने जान गंवाई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: RCB ने राजस्थान को जीत के लिए दिया 158 रनों का लक्ष्यपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.