नहर से बर्बाद हो गया हजारों लीटर पानी, खेत सूखे

टेल क्षेत्र के किसान कर रहे हैं सिचाई के पानी की प्रतीक्षा

Rajsamand: Water crisis for farming

By: Aswani

Updated: 08 Dec 2019, 10:25 PM IST

कुंवारिया. सिंचाई विभाग की लापरवाही के चलते राजसमंद झील के पानी की बर्बादी रुक नहीं पा रही है। तहसील क्षेत्र के रूपाखेड़ा गांव के निकट रविवार सुबह नहर का पानी ओवरफलो होकर बाहर छलकने लग गया। इससे काफी मात्रा में पानी बर्बाद हुआ। झील का पानी रूपाखेड़ा के पास नहर से छलककर बाहर निकल बहने की सूचना पर सिंचाई विभाग की टीम मौके पर पहुंची। नहर में आ रही रुकावटों को दूर करके पानी का बहाव सुचारू करवाया। ग्रामीण शंकरलाल जाट, पंचायत समिति सदस्य कालूराम जाट ने बताया कि नहर में फोरलेन निर्माण के दौरान गिरा मलबा पानी के बहाव में काफी अधिक रुकावट पैदा कर रहा है। किसानों ने बताया कि कुंवारिया मेला परिसर के समीप घाटी मोड़ में स्थित खाइनुमा नहर में फोरलेन निर्माण के दौरान गिरा मलबा साफ नहीं करवाया गया। मलबा पानी के वेग को बाधित कर रहा है। पानी अपेक्षित गति से टेल क्षेत्र में नहीं पहुंच रहा है। Water crisis for farming


बुवाई कर चुके टेल के किसान चिंतित
फियावड़ी व कुंवारिया ग्राम पंचायत के सैकड़ों किसान नहर के पानी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। ऐसे में खेतों में बुवाई कर चुके किसान काफी चिंतित है। किसान छगनलाल, रामचन्द्र, रतनलाल, सोहनलाल, हीरालाल सालवी, बाबूलाल आदि ने बताया कि सिंचाई के लिए नहरों के माध्यम से छोड़े गए पानी को एक पखवाड़े से भी अधिक समय बीत गया है, ेलेकिन टेल क्षेत्र में अभी तक पानी नहीं पहुंच पाया है। ऐसे में किसान काफी चिंतित है। किसानों ने बताया कि निर्धारित समय में सिंचाई का पानी नहरों के माध्यम से खेतों तक पहुंचने की आस में खेतों की साफ-सफाई कर हकाई व सूखे में ही बुवाई कर दी। ऐसे में समय पर पानी नहीं मिला तो बीज के खराब होने का अंदेशा बना हुआ है। किसान रतनलाल खटीक ने बताया किआमलियों के बाग क्षेत्र में सैकड़ों बीघा भूमि में किसानों ने सूखे में बुवाई कर दी है।

Aswani Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned