BREAKING : ट्रक खाई में गिरा, पांच घंटे तक केबिन में फंसा चालक दर्द से कहराता रहा : देसूरी नाल में हादसा

देसूरी की नाल में फिर मार्बल से भरा ट्रक खाई में गिर गया, जिससे केबिन में पांच घंटे तक चालक फंसा रहा और दर्द से कहराता रहा।

By: laxman singh

Published: 22 Aug 2017, 12:49 PM IST

 चारभुजा. देसूरी की नाल में फिर मार्बल से भरा ट्रक खाई में गिर गया, जिससे केबिन में पांच घंटे तक चालक फंसा रहा और दर्द से कहराता रहा। बाद में पुलिस व प्रशासन ने रेस्क्यू कर उसे बाहर निकाला और गंभीर हालत में चारभुजा अस्पताल में प्राथमिक उपचार कर उदयपुर रेफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत अब भी गंभीर बनी हुई है। देसूरी की नाल में लगातार सडक़ दुर्घटनाएं बढऩे के बावजूद प्रशासन द्वारा रोकथाम के लिए कोई स्थायी प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। इसके चलते आमजन में प्रशासन व सरकार के प्रति आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

पुलिस के अनुसार एक ट्रक राजसमन्द से मार्बल भरकर जोधपुर के लिए रवाना हुआ, जो रविवार रात्रि 12 बजे पुलिस चौकी से गुजरा। आगे पंजाब मोड़ से पहले ही ट्रक के ब्रेक फेल होने का अहसास चालक को हो गया, जिस पर चाक गुरुसेवक (23) निवासी पंजाब ने मौका देखकर पंजाब मोड़ के पास जगह देखकर ट्रक को काबू करने की कोशिश की, मगर गाड़ी बेकाबू होकर खाई में गिर गई। हालांकि खाई महज 7 फीट ही गहरी थी। चालक केबिन में फंस गया। मौके पर पहुंची पुलिस, ग्रामीणों तथा तथा वनरक्षकों की टीम ने चालक को निकालने का प्रयास किया, लेकिन अंधेरा ज्यादा होने से काफी मशक्कत करनी पड़ी। तकरीबन पांच घंटे बाद उसे निकालने में कामयाबी मिली। उसे आरके जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डॅाक्टरों ने जांच में अंदरूनी चोटें ज्यादा होने से उदयपुर रैफर कर दिया।

जिसने भी सुना, वह दौड़ पड़ा
देसूरी की नाल में ट्रक के खाई में गिरने की खबर चौतरफा फैलने के साथ ही पुलिस, प्रशासन के साथ ही क्षेत्र से बड़ी तादाद में लोग मदद के लिए दौड़ पड़े। बाद में ग्रामीणों की मदद से पुलिस व प्रशासन ने रेस्क्यू कर खाई में गिरे ट्रक के केबिन में फंसे चालक को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। इस दौरान चारभुजा पुलिस के हैड कांस्टेबल नारायणलाल, रघुनाथ, बुधाराम सहित देसूरी वन विभाग के कार्मिक, ग्रामीण अर्जुन सिह मेवाडिय़ा, किशनसिंह मानावतों का गुड़ा, जसवंत सिंह आदि थे।

राजस्थान का सबसे बड़ा हादसा यही हुआ
देसूरी की नाल में 7 सितंबर 2007 को रामदेवरा जातरुओं से भरा ट्रेलर इसी जगह पलटा था, जिसमें 100 से ज्यादा लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। फिर भी अब तक प्रशासन व राज्य सरकार ने देसूरी की नाल में सडक़ हादसों की रोकथाम के लिए कोई ठोस व स्थायी प्रयास नहीं किए हैं।

laxman singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned