हेलीकॉप्टर में साथ, मातृकुण्डिया में बैनर-पोस्टर से पायलट गायब

मातृकुण्डिया में कांगे्रस की किसान महापंचायत की प्रचार सामग्री में नहीं दिखा पायलट का चेहरा

By: jitendra paliwal

Updated: 28 Feb 2021, 10:18 AM IST

रेलमगरा (राजसमंद). मातृकुण्डिया में शनिवार को आयोजित कांगे्रस के किसान सम्मेलन में पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट मंच पर तो थे, लेकिन प्रचार-सामग्री में तरजीह मिलती नहीं दिखी। बैनर-पोस्टर में कहीं भी सचिन पायलट का चेहरा दिखाई नहीं दे रहा था, वहीं मंच पर भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व पायलट उनकी कुर्सी पास-पास नहीं लगी थी। बीच में राजस्थान प्रभारी अजय माकन बैठे थे। उनके बगल में पायलट की कुर्सी लगाई गई।
सभा की तमाम तैयारियां गहलोत सरकार के केबिनेट मंत्रियों की देखरेख में हुई थीं। ऐसे में सचिन पायलट को खास तवज्जो नहीं मिलने की भी खासी चर्चाएं रहीं। कांग्रेस की महापंचायत के मंच के पीछे लगे बैनर तथा पाण्डाल में लगे पोस्टरों एवं सभास्थल के बाहर कटआउट्स में पूर्व उप मुख्यमंत्री पायलट कहीं नहीं थे।

हालांकि जयपुर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन व शिक्षा मंत्री एवं प्रदेशाध्यक्ष गोविन्दसिंह डोटासरा के साथ एक ही हेलीकॉप्टर में बैठकर सभास्थल पहुंचे थे। सभी नेता मातृकुण्डिया में सभास्थल के समीप बने हैलीपेड पर उतरकर वाहन से मंगलेश्वर महादेव के दर्शनों के लिए पहुंचे। बाद में उन्होंने शहीद जगदीश वैष्णव की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। इसके बाद सभी नेता सभास्थल तक पहुंचे। सभी दिग्गज नेताओं ने एक साथ पहुंचकर कांग्रेस के मध्य चल रही गुटबाजी समाप्त होने के संकेत तो दिए, मगर सहाड़ा, राजसमंद और वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्रों के केन्द्र में मातृकुण्डिया में आयोजित इस किसान सम्मेलन के मंच पर लगे मुख्य पोस्टर से सचिन पायलट का फोटो गायब होने से कांग्रेसजन व आम लोगों में सुगबुगाहट चलती रही। मंच से अपने संबोधन में गहलोत और पायलट ने हालांकि एक-दूसरे को लेकर किसी तरह का कोई बयान देने से बचते हुए मोदी सरकार पर ही हमला बोला। पायलट ने कहा कि भारत सरकार के तीन काले कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने जो आंदोलन छेड़ा है, उसे गांधीवादी तरीके से आगे बढ़ाते हुए किसान सरकार को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर देगा।
ये रहे उपस्थित : राजसमन्द प्रभारी मंत्री उदयलाल आंजना, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, जनजाति मंत्री अर्जुनसिंह बामनिया, मोटर गैराज मंत्री राजेन्द्रसिंह यादव, खेल मंत्री अशोक चांदना, एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक चौधरी, भीम विधायक सुदर्शनसिंह रावत, माण्डल विधायक रामलाल जाट, कांग्रेस के राजसमन्द जिलाध्यक्ष देवकीनंदन गुर्जर, पूर्व विधायक सुरेन्द्रसिंह झाड़ावत, मावली प्रधान पुष्कर डांगी, कपासन प्रधान भैरूलाल चौधरी, पूर्व सांसद डॉ. गिरिजा व्यास, विधायक पदमाराम मेघवाल, रामलाल मीणा सहित कई नेता उपस्थित थे।

भाजपा ने लगाया सरकारी तंत्र के दुरुपयोग का आरोप
रेलमगरा. भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने सम्मेलन में सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर नरेगा श्रमिकों को जबरन सम्मेलन में ले जाने का आरोप लगया। राज्यपाल के नाम रेलमगरा उपखण्ड अधिकारी को सौंपे ज्ञापन में कांग्रेस के स्थानीय पदाधिकारियों व नेतागणों पर सरकारी प्रभाव का उपयोग कर पंचायतों से कार्यरत नरेगा श्रमिकों को बसों में भरकर पहुंचाने का आरोप जड़ा। किसान सम्मेलन में वास्तव में किसान नहीं आने से नरेगा श्रमिकों को लाए। इस दौरान नंदलाल सिंघवी, जीवनलाल सोनी, शंकर सुथार, बोथलाल जाट, चतरसिंह राजावत, विष्णु शर्मा, नवलसिंह राणावत, सीताराम कुमावत, भंवरसिंह, प्रहलाद जोशी व अन्य उपस्थित थे। इधर, विधानसभा उपचुनाव के भाजपा प्रभारी वीरेन्द्र सिंह चौहान ने मातृकुंडिया में भीड़ जुटाने के लिए राजस्थान की हुकूमत द्वारा सारी नैतिकताएं ताक पर रखने का आरोप लगाया। उन्होंने आरोप जड़ा कि उपचुनाव से पूर्व सरकारी तंत्र का दुरुपयोग किस तरह होता है, यह मातृकुंडिया में देखा गया। किसान महापंचायत पर उन्होंने कहा कि जिले के हुक्मरानों और कर्मचारियों पर भारी दबाव था कि जैसे भी हो, भीड़ जुटानी है। मनरेगा मजदूरों को ट्रैक्टरों व बसों में भरकर लाया गया। चौहान ने कहा कि अच्छा होता, इस तीर्थस्थल की सुध लेते और सड़कों पर 2 साल में पड़े गड्ढे भर दिए होते। चौहान ने तंज कसा कि हवा में उडऩे वाली सरकार जमीन पर जनता के दर्द को क्या जानेगी।

बैलगाडिय़ों, ट्रैक्टरों में पहुंचे समर्थक
कार्यकर्ताओं को लाने के लिए बसों के इंतजाम किए थे। कई समर्थक बैलगाडिय़ों एवं ट्रैक्टर रैली के साथ पहुंचे। चित्तौडग़ढ़ जिले के मेवदा गांव से एक दर्जन बैलगाडिय़ों के साथ कार्यकर्ता पहुंचे। राजसमन्द के गिलूण्ड एवं जगपुरा से चार दर्जन ट्रेक्टरों से कार्यकर्ता पहुंचे। मुख्य सड़क पर बैलगाडिय़ों एवं ट्रैक्टरों का रैला आने से एकबारगी तो जाम की स्थिति बन गई, जिससे पुलिस प्रशासन को मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभालना पड़ा। राजसमन्द जिले के जूणदा गांव से कई काश्तकार लकड़ी से बने हल लेकर कार्यक्रम में पहुंचे। युवा कांग्रेस कार्यकर्ता विधानसभा उपचुनाव प्रभारी पुष्पेंद्र भारद्वाज के सान्निध्य में व विधानसभा अध्य्क्ष हरजेंद्र सिंह चौधरी के साथ पहुंचे। 40-50 ट्रैक्टरों में बैठ रैली निकालते, नारेबाजी करते हुए गए।

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned