scriptThe 'Lal' of drinking water in the lake, the crops flowing with the st | झील में पीने के पानी के 'लाले', चोरी के पानी से लहलहा रही फसलें | Patrika News

झील में पीने के पानी के 'लाले', चोरी के पानी से लहलहा रही फसलें

- झील में डीजल सेट लगाकर हो रहा पानी चोरी,जिम्मेदार मौन, झील के पेटे में कई बीघा में लहलहा रही फसलें

राजसमंद

Published: March 05, 2022 03:25:42 pm

राजसमंद. राजसमंद झील में बारिश कम होने से पीने के पानी के लाले पड़ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर झील के पानी से फसलें लहलहा रही है। इसके बावजूद जिम्मेदार मौन साधे बैठे हैं।
राजसमंद में इस बार मानसून की बारिश कम होने के कारण नाममात्र का पानी बचा है। स्थिति यह है कि शहर में नियमित रूप से पेयजल सप्लाई नहीं तक नहीं हो रही है। पानी की कमी के कारण झील के चहुंओर जमीन दिखाई देने लग गई है। इसके बावजूद झील के पेटे में डीजल पंप लगाकर चोरी के पानी से फसलें लहलहा रही है। झील में लगे पंप सेट आदि दूर से दिखाई नहीं दे इसके लिए उन्हें कपड़े और टायर आदि से ढककर रखा जाता है। इसके कारण यह दूर से दिखाई नहीं देते हैं। इसके बावजूद जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।
48 घंटे में हो रही पानी की सप्लाई
राजसमंद झील से शहरी क्षेत्र में पेयजल सप्लाई होती है। पानी की कमी के कारण पिछले दो-तीन माह से 48 घंटे में पानी की सप्लाई हो रही है। अब गर्मी आने के कारण पानी की डिमांड बढऩे लगी है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि लोगों को पीने का भरपूर पानी नहीं मिल रहा है और झील के चोरी के पानी से कई बीघा में फसलें लहलहा रही है।


झील में पीने के पानी के 'लाले', चोरी के पानी से लहलहा रही फसलें
राजसमंद झील में कुएं की टूटी दीवार से मिलता पानी और उसमें लगे दो डीजल पंप सेट
कुएं की मुड़ेर तोड़ झील में मिलाया
झील के पेटे में कई स्थानों पर कुएं है। काश्तकार झील में पानी कम होने पर उन कुएं में पानी के पंप लगाकर फसलों की पिलाई आदि करते हैं, लेकिन एक कुएं पर दीवार टूटी होने के कारण झील का पानी उसतक पहुंच रहा है। वह लबालबा भरा हुआ है। कुएं में मछलियां नहीं आए इसके लिए जाल झील के पानी और कुएं के पानी के बीच में जाल भी बांध रखा है। यहां पर दो डीजल सेट लगाकर खेतों में फसलों की पिलाई की जा रही है। इसकी खासियत यह है कि दूर से देखने पर यह कुआं दिखाई देता है, लेकिन पास में जाकर देखने पर कुएं की दीवार टूटी हुई दिखाई देती है।
गेहूं की लहलहा रही फसल
झील में पानी कम होने के कारण पेटे में कई बीघा में गेहूं की फसल बोई गई थी। अब यह फसल आगामी 15 दिनों में पककर तैयार हो जाएगी। फसलों में नियमित रूप से पानी की पिलाई की जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारतपहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातचांदी के गहने-सिक्के की भी हो सकती है हॉलमार्किंगमहाराष्ट्र के पालघर में 25 फीट गहरी खाई में गिरी बस, कई लोग हुए घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.