आर्थिक भरपाई का मौका, समय बढ़े तो लगे ग्राहकी का चौका

कोरोनाकाल में आया है पहला त्योहारी सीजन, व्यापारियों को है बाजार की मंदी उबरने की उम्मीद

By: jitendra paliwal

Published: 18 Oct 2020, 11:20 PM IST

राजसमंद. कोरोनाकाल में 24 मार्च से लगे करीब दो माह के लॉकडाउन में शहर और जिले का कारोबार रुग्ण हो गया था। इस 'बीमारीÓ ने ऐसा तोड़ा कि अक्टूबर तक आते-आते आर्थिक स्थितियां पूरी तरह ठीक नहीं हुई हैं। शहर के बाजार में पसरी आर्थिक मंदी को कुचलने का अच्छा अवसर अब त्योहारी सीजन लेकर आया है। कारोबारियों में उत्साह है, थोड़ा डर है और व्यापार का वक्त कम होने की कसक भी। व्यापारी मांग कर रहे हैं कि कारोबार का समय बढ़ाकर रात नौ बजे तक किया जाए, ताकि नुकसान की भरपाई कर सकें।

दुर्गाष्टमी, दशहरा, धनतेरस और दिवाली सभी बड़े त्योहार आने वाले हैं। लॉकडाउन में पिटे व्यापार को अब इसी सीजन से उम्मीद है। दुकानों का किराया, कर्मचारी की तनख्वाह और अन्य खर्चे जेब से भर रहे हैं। प्रशासन को सोचना चाहिए कि व्यापार का समय बढ़ाकर सुबह नौ से रात नौ बजे तक किया जाए। नियमों की पालना हमारी जिम्मेदारी है।
प्रकाश सोनी, अध्यक्ष, जिला खाद्यान्न व्यापार मण्डल

त्योहारी सीजन शुरू हो चुका है। सब जानते हैं कि पिछले छह माह से व्यापार-धंधे हिचकोले खाते हुए चल रहे हैं। व्यापारियों को इस दौर में बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। महामारी का दौर था, इसलिए सबकुछ सहा, प्रशासन का भी बखूबी साथ निभाया। अब हमारा वक्त आया है, तो कुछ आस भरपाई की बंधी है। कुछ निश्चित शर्तों के साथ मार्केट का समय बढ़ाया जाना चाहिए।
दीपक सोनी जैन, अध्यक्ष, श्री वस्त्र व्यापार सेवा संस्थान, कांकरोली

आगामी त्योहारों को मद्देनजर प्रशासन से अनुरोध है कि गाइडलाइन के अनुसार शहर में ज्यादा देर व्यापार की छूट मिले। ऐसा वातावरण बनाया जाए कि व्यवसायी को भी किसी प्रकार का आर्थिक नुकसान न हो और आम जनता भी इस बीमारी से सुरक्षित रहे। लॉकडाउन से अभी तक व्यापारी वर्ग ने प्रशासन का पूरा सहयोग किया है, आगे भी करेंगे। हम आर्थिक मंदी से उबरना चाहते हैं।
प्रहलाद वैष्णव, समस्त व्यापार मंडल सोसाइटी, राजसमंद

कोविड-19 महामारी की वजह से लॉकडाउन और अनलॉक की प्रक्रिया तक जिला प्रशासन व शहरी निकाय के अधिकारियों का पूरा सकारात्मक सहयोग मिला। त्योहारी सीजन होने की वजह से व्यापारिक प्रतिष्ठानों की साफ-सफाई, रंगाई-पुताई एवं नए माल के स्टॉक को सुव्यवस्थित ढंग से रखने, ग्राहकों के शाम के समय ही आने और खरीदारी करने जैसे विषयों को देखते हुए बाजार का समय सुबह 8:00 से शाम 9:00 बजे तक का करना चाहिए।
राजकुमार शर्मा, अध्यक्ष राजसमंद ट्रेड एसोसिएशन, कांकरोली

नवरात्रा प्रारम्भ होने के साथ ही बाज़ार में रौनक बढ़ी है। दशहरा-दीपावली और शादी के सीजन आने से सभी व्यापारी तैयारियों में लगे हुए हैं। सभी व्यापारी कोरोना के प्रति जागरूकता के साथ एवं पूरी सतर्कता के साथ व्यापार कर रहे हैं। 'नो मास्क-नो व्यापारÓ का संदेश भी हमने अपना रखा है। बाज़ार में पूरी जागरूकता से कारोबार चल रहा तो समय भी बढ़ाना चाहिए।
नवीन चौरडिय़ा, संगठन मंत्री, सर्राफा संघ, राजसमंद

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned