scriptUnique marriage took place here, 22 bride and groom arrived to get mar | Marriage : यहां पर हुई अनोखी शादी, शादी करने पहुंचे 22 दूल्हा दुल्हन | Patrika News

Marriage : यहां पर हुई अनोखी शादी, शादी करने पहुंचे 22 दूल्हा दुल्हन

तुलसी और सालगराम का भी हुआ विवाह, 108 कलश के साथ निकाली शोभायात्रा, लोगो ने बरसाए फूल

राजसमंद

Published: February 17, 2022 04:04:26 pm

राजसमंद (चारभुजा). संत रामधन की लोटन यात्रा के तहत बुधवार को तुलसी सालगराम विवाह के अलावा 22 जोड़ों का सामूहिक विवाह परंपरागत रस्मों के निर्वहन के साथ हुआ।
विवाह से पूर्व विभिन्न जिलों से आए दूल्हा-दुल्हनों की बारातें सुबह 5 बजे चारभुजा स्थित मोराना चौराहा मैदान पर पहुंची। यहां से एक किलोमीटर दूर भोपजी की भागल से विवाह स्थल तक 108 कलशों की शोभायात्रा निकाली गई, जिसमें महिलाएं मंगल कलश सिर पर धारण किए चल रही थी। शोभायात्रा सुबह 8 बजे विवाह समारोह स्थल पर पहुंची। जहां, मिलन समारोह आयोजित हुआ। शुभ मुहूर्त पर 9.15 बजे दूल्हों ने तोरण रस्म अदा की। भीम से आए पं. रामचंद्र एवं 11 पंडितों द्वारा मंत्रोचार किया गया। इसके बाद पाणिग्रहण संस्कार की शुरुआत हुई। वहीं, सालगराम जी की बरात लेकर दिवेर से आए डालचंद प्रजापत द्वारा जोड़े सहित हवन में आहुतियां दी। सबसे पहले तुलसी व सालगराम जी परिणय सूत्र में बंधे। इसके बाद 22 जोड़ों ने एक-दूसरे के गले में माला डाली तथा हस्त मिलाप विधि के साथ सात फेरे लेते हुए एक-दूजे के हुए। सभी को सामाजिक स्तर पर संकल्प दिलाया गया। कन्यादान के लिए समाजसेवियों द्वारा बढ़-चढ़कर कन्यादान कर धार्मिक परंपरा को पूर्ण किया।
संत रामधन की यह पांचवीं लोटन यात्रा है, जिसमें उन्होंने दिसंबर माह में भीम तहसील के मियाला रामदेव जी स्थान पर 20 जोड़ों का सामूहिक विवाह संपन्न करवाने के बाद चारभुजा में 23 जोड़ों का सामूहिक विवाह करवाया। इस दौरान संत ने कहा कि सेवा में कोई स्पर्धा नहीं होती। सेवा व्यक्ति को अर्थ और कामना की मर्यादा सिखाती है। अर्थ का उपयोग धर्म पर आधारित रहता है। उन्होंने कहा कि तन और मन तो साधन मात्र है सेवा हमेशा मन से होती है।

Marriage :  यहां पर हुई अनोखी शादी, शादी करने पहुंचे 22 दूल्हा दुल्हन
चारभुजा में सामूहिक विवाह में फेरों के लिए खड़े दूल्हा-दुल्हन
अलग से नहीं होगा आशीर्वाद समारोह
समारोह के तहत विदाई की रस्म शाम पांच बजे समारोह के साथ पूरी की गई। वहीं, आशीर्वाद समारोह में वर-वधु को भावी जीवन के लिए आशीर्वाद दिया गया। इसके साथ ही मंच से घोषणा की गई कि वर वधु विवाह पश्चात घर जाकर किसी तरह का आशीर्वाद (रिसेप्शन) समारोह का आयोजन नहीं करेंगे। इस दौरान जेठाराम कलिरिया, दिलीप कुमार, चुन्नीलाल, मोहनलाल, पूर्व उप जिला प्रमुख मदनलाल गुर्जर, स्थानीय सरपंच धर्मचंद्र सरगरा ने भी विचार रखे। अंत में आभार मंगलाराम जोधावत ने जताया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.