कुंभलगढ़ व नाथद्वारा में शुरू होंगे वेलनेस सेन्टर

- 50-100 बीघा भूमि की तलाश
- पर्यटकों को सुलभ होगी पंचकर्म, योग आदि सेवाएं

By: Rakesh Gandhi

Published: 26 Aug 2020, 09:37 AM IST

राजसमंद. प्रदेश में मेडि-टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए 28 वेलनेस सेन्टर खोलने की योजना है। इनमें से दो सेन्टर राजसमंद जिले में खोले जाएंगे। आयुर्वेद विभाग की प्रमुख सचिव वीणा प्रधान ने पिछले दिनों इस संबंध में जिले का दौरा किया और उन स्थानों पर भी गईं, जहां ये सेन्टर खोले जाने की संभावना बन सकती है।
इस मेडि-टूरिज्म सेन्टर में आयुर्वेद की बहिरंग व अंतरंग चिकित्सा, विशेषज्ञ चिकित्सा यथा पंचकर्म, क्षारसूत्र आदि यूनानी व होम्योपैथी चिकित्सा की ओपीडी योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा वेलनेस सेन्टर का संचालन, हर्बल गार्डन आदि की सेवाएं दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में पर्यटन स्थलों की कमी नहीं है, लेकिन पर्यटकों को ठहराव राजसमंद समेत कुछ जिलों में नहीं हो पाता है। ऐसे में इस तरह के वेलनेस सेन्टर खोलने से पर्यटकों का ठहराव तो बढ़ेगा ही, साथ ही भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति को भी बढ़ावा मिलेगा।

यहां शुरू होंगे वेलनेस सेन्टर
ये सेन्टर राजसमंद जिले के कुंभलगढ़ व नाथद्वारा के साथ ही पुष्कर, माउंटआबू, खाटू श्यामजी (सीकर), देशनोक-कोलायत (बीकानेर), घाटा मेहन्दीपुर (करौली), आमेर, उदयपुर, सालासर (चूरू), सरिस्का (अलवर), मण्डफिया (चित्तौडग़ढ़), रामदेवरा, जीणमाता (सीकर), नाकोड़ा, लोकार्गल, रणकपुर, पूछरी का लोठा (भरतपुर), नाहरगढ़ (बारां), कोटा आदि शामिल हैं।

50-100 बीघा भूमि की तलाश
प्रत्येक वेलनेस सेन्टर के लिए 50 से 100 बीघा भूमि की तलाश की जा रही है। इस संबंध में उन्होंने संबंधित उपखण्ड अधिकारी को पत्र भी भेजा है। इस भूमि पर योग सेन्टर, स्पा, पंचकर्म सेन्टर, हर्बल गार्डन आदि स्थापित होंगे, ताकि यहां आने वाले पर्यटक व अन्य को आयुर्वेद से जुड़ी सभी सुविधा एक ही स्थान पर सुलभ हो सके। इसके अलावा प्राकृतिक चिकित्सा की सुविधा भी जुटाई जाएगी।

औषधालय सेवाओं के सुदृढ़ीकरण के निर्देश
डॉ प्रधान ने इस दौरान कुम्भलगढ़, वरदडा, मोरचा, उसरवास, कोशिवाड़ा, नाथद्वारा, देलवाड़ा औषधालयों-चिकित्सालयों का निरीक्षण कर अतिरिक्त निदेशक उदयपुर एवं उपनिदेशक राजसमन्द को औषधालय सेवाओं के सुदृढ़ीकरण के निर्देश दिए। साथ ही नाथद्वारा चिकित्सालय में पंचकर्म, क्षारसुत्र चिकित्सा को शीघ्र शुरू करने को कहा। उन्होंने देलवाड़ा स्थित औषधालय के लिए तत्काल चिकित्सक को व्यवस्था में लगाने के आदेश दिए। इस दौरान उपस्थित कुम्भलगढ़ उपखण्ड अधिकारी परसराम, आयुर्वेद विभाग उदयपुर के अतिरिक्त निदेशक डॉ. हीरालाल पानेरी, आयुर्वेद विभाग राजसमन्द के उपनिदेशक डॉ. वीरेन्द्र महात्मा को भूमि के आवंटन के संबंध में शीघ्र कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए।

Rakesh Gandhi Editorial Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned