समूह में खेती कर महिला कृषकों ने संवारा भविष्य

एक माह में 20 से 25 हजार रुपए की कमाई
बागोल कलस्टर की कृषकों ने बोई तरोई, भिंडी और ग्वार की फसल

By: Aswani

Updated: 14 Jun 2020, 05:26 PM IST

राजसमंद. कहते हैं कि मन में अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई काम ना मुमकिन नहीं है। ऐसा ही कुछ करके दिखाया है बागोल कलस्टर की महिला समूह की महिलाओं ने। विश्वास से भरी ये महिलाएं आज अन्य महिला कृषकों के लिए आदर्श बन रही हैं।
दरअसल बागोल में कई महिला समूह चलते हैं, यहां के कुछ समूहों की महिलाओं ने खेती बाड़ी कर भविष्य संवारने का निश्चय किया। इसके बाद जानकारी जुटाकर कृषि विज्ञान केंद्र पहुंची और यहां उन्होंने खेती के गुरु सीखे और आज समूह की प्रत्येक महिला की आमदनी महीने में करीब २५ हजार रुपए है। अब इनसे अन्य महिला कृषक भी सीख ले रही हैं।


ऐसे की काम की शुरुआत
कृषि विश्वविद्यालय द्वारा एससी, एसटी उपयोजना का संचालन होता है। इस योजना के तहत पात्र महिला समूहों को कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा खेती का नवाचार सिखाया जाता है। साथ ही खेती करने के लिए उन्हें गुणवत्ता युक्त बीज उपलब्ध करवाया जाता है तथा उन्हें फसल में लगने वाले रोग, खरपतरवार आदि को नष्ट करने व खेती के आधुनिक गुर सिखाने के लिए दो दिवस का प्रशिक्षण दिया जाता है। ऐसे में बागोल की आराधना समूह की कुछ महिलाओं ने इस योजना ेके लिए आवेदन किया। जिस पर कृषि विज्ञान केंद्र ने उन्हें मजूंरी दी और दो दिन का प्रशिक्षण दिया।


ग्वार, भिंडी, तरोई से की कमाई
महिला कृषकों ने मार्च में अपने-अपने खेतों पर ग्वार, भिंडी और तरोई की आधुनिक खेती कृषि विज्ञान केंद्र के निर्देशन में की। अप्रेल माह के अंत तक महिला कृषकों की कमाई शुरू हो गई और अबतक उन्होंने २५ हजार रुपए महीने से ज्यादा की कमाई की है। बताया कि लॉकडाउन के दौरान भी उनकी कमाई में कोई फर्क नहीं पड़ा।


दो दिन का प्रशिक्षण दिया...
बागोल क्षेत्र के तीन समूहों की करीब 50 महिला कृषकों को हमने दो दिवसीय प्रशिक्षण दिया, इस दौरान उन्हें कैसे पौध रोपण करना हैं, कितनी दूरी रखनी और कब कौन सी दवा का छिड़काव करना है आदि का प्रशिक्षण कृषि विज्ञान केंद्र में ही दिया गया। साथ ही सभी समूह की महिला किसानों को तरोई, भिंडी, ग्वार के निशुल्क बीज विश्वविद्यालय एससी, एसटी उप योजना के तहत दिए। डेढ़ माह में महिलाओं ने ३० से ३५ हजार रुपए की कमाई की है।
--डॉ. पीसी रेगर, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष कृषि विज्ञान केंद्र, राजसमंद

Aswani Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned