कहां तो दोनों वक्त का भोजन भी मुश्किलों से नसीब और कहां फूलों से स्वागत

( Jharkhand News) महीनों तक घर-परिवार से दूर और जेबें लगभग खाली। खाने-पीने का कोई अता-पता नहीं, ऐसी हालत ( Labour arrival Jharkhand ) के बाद किसी यदि किसी का मेहमान की तरह फूलों से ( Welcome with flowers ) स्वागत-सत्कार किया जाए तो ऐसे लोग खुद को खुशनसीब ही समझेंगे। ऐसे ही किस्मतवाले रहे झारखंड के 905 मजदूर ( Lock down ) ट्रेन ने आखिरी पड़ाव रामगढ़ जिले के बरकाकाना पहुंचे।

By: Yogendra Yogi

Published: 04 May 2020, 10:18 PM IST

रामगढ़(झारखंड)रवि सिन्हा: ( Jharkhand News) महीनों तक घर-परिवार से दूर और जेबें लगभग खाली। खाने-पीने का कोई अता-पता नहीं, ऐसी हालत ( Labour arrival Jharkhand ) के बाद किसी यदि किसी का मेहमान की तरह फूलों से ( Welcome with flowers ) स्वागत-सत्कार किया जाए तो ऐसे लोग खुद को खुशनसीब ही समझेंगे। ऐसे ही किस्मतवाले रहे झारखंड के 905 मजदूर। लॉक डाउन ( Lock down ) की हालत में एक-एक दिन गिन-गिन कर गुजार रहे इन श्रमिकों का खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब ट्रेन ने आखिरी पड़ाव रामगढ़ जिले के बरकाकाना पहुंची। घर-परिवार से मिलन की खुशी में श्रमिका अपना सारा दुख-दर्द भूल गए।

नागौर में फंसे हुए थे
राजस्थान के नागौर से विशेष ट्रेन के माध्यम से 905 प्रवासी कामगार सोमवार को रामगढ़ जिले के बरकाकाना रेलवे स्टेशन पहुंचे। जिला प्रशासन की ओर से सभी को सुरक्षित उनके घर पहुंच भेज दिया गया। इसके अलावा दो और श्रमिक स्पेशल ट्रेन धनबाद और देवघर जिले के जसीडीह स्टेशन पहुंची। केरल से चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन सोमवार दोपहर धनबाद रेलवे स्टेशन पहुंची।

पहुंचने पर फूलों से स्वागत
मौके पर मौजूद पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों ने फूल देकर उनका स्वागत किया। वहीं भोजन-पानी का पैकेट उपलब्ध कराया गया और स्टेशन के बाहर खड़ी बसों के माध्यम से सभी प्रवासी श्रमिकों को उनके घर वापस भेज दिया गया। इससे पहले उनसभी की मेडिकल स्क्रीनिंग की गयी। प्रशासन की ओर से वापस लौटने वाले सभी प्रवासी श्रमिकों को होम क्वारंटाइन में रहने का निर्देश दिया गया है। धनबाद स्टेशन पर प्रवासी श्रमिकों के पहुंचने को लेकर रेलवे जंक्शन पर तमाम व्यवस्था की गई थी। स्टेशन पर जिले के उपायुक्त अमित कुमार, सिटी एसपी आर. रामकुमार और तमाम पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों ने मजदूरों का फूल देकर स्वागत किया। बाद में उनकी थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई।

घरों पर किया क्वारेंटाइन
स्वास्थ्य जांच के बाद एक मजदूर बीमार पाया जाता है, उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया। इसके लिए पहले से ही एंबुलेंस की व्यवस्था भी कर दी गई थी। केरल से आने वाले सभी प्रवासी श्रमिकों को को उनके गृह जिले में भेजने का प्रबंध जिला प्रशासन ने बसों के माध्यम से की थी। इस संबंध में सिटी एसपी आर राम कुमार ने बताया कि सभी पुलिस वालों को उनकी ड्यूटी समझा दी गई है और कड़ी सुरक्षा के बीच सभी प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह जिला भेजा रहा है। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी सख्ती से पालन सुनिश्चित कराया गया। तीसरी स्पेशल ट्रेन बेंगलुरू से जसीडीह पहुंची, जहां से देवघर जिला प्रशासन ने जांच के बाद सभी प्रवासी श्रमिकों को होम क्वारंटाइन के लिए घर भेज दिया गया।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned