मदर-डे के दिन बदनसीब मां ने खो दिया अपना इकलौता बेटा, इसके बाद जो किया उसकी हो रही है तारीफ

  • बेटे की मौत के बाद भी मां ने नहीं खोया हौसला

By: Iftekhar

Published: 10 May 2020, 12:15 PM IST

 

रामपुर. एक तरफ जहां आज दुनिया भर के लोग अपनी मां के साथ मदर्स-डे मना रहे हैं। वही रामपुर की एक बदनसीब मां अपने बेटे की मौत की खबर अपने रिश्तेदारों को फोन कॉल के जरिए दे रही हैं। जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने उनके बेटे को मृत घोषित कर दिया है। बुजुर्ग महिला का दूसरा कोई और बेटा नहीं है। 2 बेटियां थीं, जिनकी शादी हो गई। वह अपने-अपने पतियों के साथ अलीगढ़ और मेरठ में रहती हैं। इनके पति कई साल पहले दुनियां से रुख्सत हो चुके हैं । बुजुर्ग महिला के पास अगर कोई बुढ़ापे का सहारा था तो उसका बेटा था। अब इस बेटे की मौत के बाद बुजुर्ग महिला बेसहारा हो गई है, लेकिन इस मुसीबत के वक्त भी बुजुर्ग महिला ने जिस तरह रोने और छाती पीटने की जगह हिम्मत से काम लिया। वह काबिल-ए-तारीफ है।

यह भी पढ़ें- देश के इस हाईटेक शहर में कोरोना से अब मरने लगे लोग, अब तक 2 की मौत और 216 संक्रमित

बुजुर्ग महिला ने बताया कि मेरे बेटे को शराब की लत थी। सुबह शाम शराब पीता रहता था। मोहल्ले में ही जनरल मर्चेंट की उसकी दुकान थी। रोजाना की तरह कल भी दुकान पर गया था। इस दौरान दुकान पर ही शराब पी। बुजुर्ग महिला ने बताया कि जिस दिन से शराब की दुकान खुली है, उसी दिन से शराब कुछ ज्यादा ही पी रहा था। मना करने पर मानता नहीं था। कई बार इतना पी लेता था कि उठता काफी देर देर में था। कल भी शरीब पीकर पड़ा था। बुदुर्ग ने बताया कि मैंने यही सोचा कि नशे में होगा, इसी वजह से हमने इसे जगाया नहीं, लेकिन जब सात-आठ घंटे से नहीं उठा, तब हमें चिंता हुई। इसके बाद हमने इसे देखा तो इसका शरीर अकड़ा हुआ था और मुंह से झाग आ रहे थे। इसके अलावा कुछ खून भी मुंह से निकल रहा था।

यह भी पढ़ें- 48 दिन से दारुल उलूम देवबंद में फंसे हैं 2000 देशी-विदेशी छात्र, ईद नजदीक आने पर अब टूट रहा सब्र का बांध

यह देखने के बाद सबसे पहले हमने पुलिस को फोन किया। पुलिस ने एंबुलेंस को बुलाया। एंबुलेंस ने यहां से उठाकर जिला अस्पताल की इमरजेंसी ले गई। जहां पर इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. दशरथ ने बुजुर्ग महिला के सामने उसके बेटे को देखकर मृत घोषित कर दिया। बुजुर्ग महिला अपने बेटे की मौत की खबर सुनकर हैरान परेशान हो गई, लेकिन उनका हौसला नहीं डिगा। वह इस हालत में भी अपने रिश्तेदारों को फोन करके अपने बेटे की मौत की खबर बांटने लगी रही। इसे देखकर हर कोई हैरत में था कि 75 साल की बुजुर्ग महिला अपने जवान बेटे की मौत की खबर दूसरे रिश्तेदारों को बता रही है।

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned