VIDEO : आजम का बड़ा बयान- भाजपा नहीं इनसे है हमारा चुनाव, रामपुर में भय का माहौल बनाया

VIDEO : आजम का बड़ा बयान- भाजपा नहीं इनसे है हमारा चुनाव, रामपुर में भय का माहौल बनाया

Rahul Chauhan | Publish: Apr, 23 2019 06:31:14 PM (IST) | Updated: Apr, 23 2019 06:31:16 PM (IST) Rampur, Rampur, Uttar Pradesh, India

  • आजम खान भी अपना वोट डालने बूथ पर पहुंचे
  • इस दौरान उन्होंने मीडिया से मुखातिब होते हुए इशारों-इशारों में केंद्र व यूपी सरकार पर निशाना साधा

रामपुर। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में रामपुर में मतदान हुआ। इस दौरान लोगों ने अपने मत का प्रयोग कर अपने सांसद को चुनने का काम किया। वहीं आजम खान भी अपना वोट डालने बूथ पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने मीडिया से मुखातिब होते हुए इशारों-इशारों में केंद्र व यूपी सरकार पर निशाना साधा। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा चुनाव बीजपी से नहीं है। हमारा चुनाव यहां के डीएम से है। यहां आतंक और भय का माहौल बनाया हुआ है। डीएम ने रामपुर वालों को उकसाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी।

यह भी पढ़ें : वाेट देने के बाद बाेले आजम- गलत किया हाेता ताे कुतुब मीनार पर टांग देते माेदी

उन्होंने कहा कि हमारे अपने विश्वविद्यालय के बारे में हमारा अपना ये कहना है कि वो एशिया का सबसे सुंदर और खूबसूरत डिसिप्लेन विश्वविद्यालय है। पिछले 12 वर्षों में किसी भी थाने में यहां किसी को गाली तक देने की रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। जो कि खुद में ही गिनिज विश्व रिकॉर्ड है। इतनी शांति दुनिया की किसी विश्वविद्यालय में इतनी शांति नहीं है। शायद इसलिए ही हमारी दीवारें गिराई जा रही हैं।

 

वहीं ईवीएम पर सवाल उठाते हुए आजम ने कहा कि चुनाव शुरू होने के बाद 300 ईवीएम खराब हुईं। प्रत्येक जिला प्रशासन का काम होता है कि सभी चीजों पर ध्यान दें ताकि चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो सके। लेकिन हमारे जिले में जिलाधिकारी ने मीटिंग करने के बाद कहा कि योगी जी हमारे भगवान हैं और मैं उनका भक्त हूं। भक्त भगवान के लिए कुछ भी कर सकता है।

यह भी पढ़ें : सपा विधायक ने फेसबुक पर डाला ऐसा फोटो की अफसरों में मच गया हड़कंप

उन्होंने कहा कि मुझ पर आरोप तो कई लगाए गए हैं, लेकिन कोई भी आरोप सही नहीं है। पांच साल में मैंने सुई की नोक जितना भी गलत काम नहीं किया। कुछ गलत किया होता तो मोदी कुतुब मीनार पर टांग देते। मैं चुनाव नहीं लड़ना चाहता था, लेकिन मेरे पास दूसरा कोई विकल्प नहीं था। इसलिए मुझे चुनावी मैदान में उतरना पड़ा। मेरे खोले गए विश्वविद्यालय पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned