नर्स ने अस्पताल के मालिक और कोतवाल पर लगाया रेप का आरोप, सीसीटीवी ने खोल दी पोल

Highlights:

-मामला रामपुर के स्वार रोड किनारे बने के प्राइवेट अस्पताल का है

-सीसीटीवी फुटेज में किसी तरह की वारदात नहीं आई सामने

-नर्स ने लिखित रूप से किसी तरह की कार्रवाई नहीं करने की मांग की

By: Rahul Chauhan

Published: 07 Apr 2021, 10:14 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

रामपुर। हमारे देश में महिलाओं की पूजा की जाती है। कोई देवी के रूप में पूजा करता है तो कोई मां के रूप में। लेकिन कुछ ऐसी महिलाएं हैं, जिनके किस्से सुनकर हर किसी को गुस्सा आ जाये। ताजा मामला रामपुर जनपद के स्वार रोड किनारे बने स्वामी विवेकानद अस्पताल का है। जहां पर काम करने वाली एक नर्स ने अस्पताल के चेयरमैन समेत कोतवाली गंज कोतवाल पर रेप जैसे संगीन आरोप लगाकर हंगामा खड़ा कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने सबसे पहले वहां लगे सीसीटीवी की डीवीआर अपने कब्जे में ली और मामले की जांच शुरू की। इस बीच आरोप लगाने वाली नर्स से जब सीओ सिटी ने कुछ सवाल पूछे तो खुद को घिरा देख वह सभी आरोपों से मुकर गई और पूरी सच्चाई बता डाली।

यह भी पढ़ें: 26 साल से फरार गैंगरेप के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई ऐसी सजा, जानकर आप भी करेंगे तारीफ

पुलिस के मुताबिक नर्स ने बताया कि पचास लाख की रकम के लेनदेन को लेकर उसके और अस्पताल के चेयरमैन विनोद यादव के बीच कहासुनी हो गई। उसी कहासुनी को लेकर नर्स ने विनोद यादव के रिश्ते के भाई जोकि गंज कोतवाली के कोतवाल हैं, दोनों पर रेप का आरोप लगाया। साथ ही अपने कपड़े फाड़कर कई जगह चोटें भी मार लीं। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मौके पर लगे सीसीटीवी फुटेज देखी तो उसमें इस तरह की कोई घटना सामने नहीं आई। जिसके बाद नर्स ने अपने आरोपों से इनकार करते हुए लिखित पत्र देकर कोई कार्रवाई नहीं करने की मांग की।

यह भी पढ़ें: कार में हेलमेट नहीं पहनने पर काट दिया एक हजार रुपए का चालान

ये है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक कई साल पहले नर्स अपना अस्पताल चलाती थी। जिसे हाल ही में विनोद यादव ने तकरीबन एक करोड़ की कीमत में खरीद लिया। साथ ही नर्स को अपने ही अस्पताल में नौकरी पर रख लिया। बताया गया है कि अस्पताल के लिए पचास लाख रुपये देने बाकी थे। उन्हीं पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ। उस विवाद में कोतवाली गंज कोतवाल को भी महिला ने घसीट लिया। मामले में पुलिस का कहना है कि उक्त नर्स द्वारा लिखित पत्र देकर किसी तरह की कार्रवाई नहीं किए जाने की मांग की गई है। रेप के आरोप सिद्ध नहीं हो सके।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned