कार में एक साथ इतनी रकम देख पुलिस के भी उड़ गए होश, फिर जो हुआ, देखें वीडियो

Highlights:

-इतनी मोटी रकम का कोई संतोषजनक जवाब पुलिस को नहीं दे सके

-जिसके चलते कोतवाली सिविल लाइंस पुलिस ने रुपये जब्त कर लिए

-पूरी रिपोर्ट बनाकर आयकर विभाग को सौंप दी गई

रामपुर। सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस ने कार से 33.66 लाख रुपया बरामद किया है। कैश को तीन लोग दिल्ली से लाए थे, लेकिन इतनी मोटी रकम का कोई संतोषजनक जवाब पुलिस को नहीं दे सके। जिसके चलते कोतवाली सिविल लाइंस पुलिस ने रुपये जब कर लिए और पूरी रिपोर्ट बनाकर आयकर विभाग को सौंप दी। अब आयकर विभाग जांच करेगा कि 33 लाख 66 हजार रुपए कहां से आए। साथ ही पुलिस ने कार को कब्जे में लेकर सीज कर दिया।

यह भी पढ़ें : जानिए, स्वास्थ्य मंत्री से हाथ जोड़कर क्यों बोला डॉक्टर- 'सर! मुझे नहीं बनना CMO’

दरअसल, पुलिस को कार में भारी मात्रा में कैश आने की सूचना मुखबिर ने दी। इस दौरान कार का नंबर भी बताया, जिस पर पुलिस अलर्ट हो गई। कोतवाल राधेश्याम के नेतृत्व में टीम अंबेडकर पार्क पहुंच गई और हाईवे पर वाहन चेकिंग शुरू कर दी। तभी चुंगी की ओर से उसी नंबर की कार आती दिखाई दी, जिसे पुलिस ने रुकवा लिया। पुलिस ने कार की तलाशी ली, जिसमें एक काला रंग का बैग मिला। बैग में रुपये भरे थे। पुलिस ने कैश के बारे में पूछताछ की, लेकिन ठीक जानकारी नहीं दे सके। पुलिस को पैसा टैक्स चोरी या कालाधन लगा।

यह भी पढ़ें: जंगल में युवक को इस हाल में देख लोगों की निकल गई चीख, देखें वीडियो

इस पर पुलिस कार समेत तीनों लोगों को थाने ले गई, जहां पैसे को उनके सामने गिना गया और मालखाने में दाखिल कर दिया। पुलिस ने इसकी जानकारी रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी है और आयकर विभाग को भी रिपोर्ट भेजी गई है। ताकि, पैसे की जांच पड़ताल की जा सके। कार में इमरान पुत्र शरीफ खां निवासी मुहल्ला पत्थर का थम सतूनेसंग, मजहर पुत्र जफर निवासी मुहल्ला घेर सलावत खां और तीसरा आरोपी शारिक पुत्र शाकिर खां निवासी बजोड़ी टोला सवार थे।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned