तालाब की जमीन पर अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं, लोगों को भी मिलेगा रोजगार

रामपुर जिलाधिकारी ने एसडीएम व बीडीओ को दिए निर्देश। सरकारी तालाब खोजने में जुटे अधिकारी। तालाब में नरेगा के तहत लोगों को मिलेगा रोजगार।

By: Rahul Chauhan

Published: 20 May 2021, 02:00 PM IST

रामपुर। सरकारी तालाब की जमीन पर खेती करने वालों को सबक सिखाने के लिए रामपुर जिलाधिकारी रविंद्र मादड़ ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने ऐसे किसानों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं जो तालाब की जमीन पर कब्जा कर खेती कर रहे हैं। उन्होंने एसडीएम और बीडीओ को निर्देश दिया है कि वह तालाब की ऐसी जमीनों को चिन्हित करें, जहां पर सरकारी अभिलेखों में तलाब थे। वर्तमान में जिन लोगों ने कब्जा करके उस जमीन पर खेती योग्य जमीन बना ली, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें और तालाब की जमीन पर तालाब बनाएं। साथ ही जिन लोगों ने तालाब की जमीन पर अतिक्रमण किया है वहां से अतिक्रमण हटाकर तलाब बनाएं।

यह भी पढ़ें: कारोबारी को 1 महीने में तीसरी बार मिली धमकी, शादी के कार्ड में कारतूस भेज 25 लाख की फिरौती मांगी

जिलाधिकारी ने बताया कि पिछले साल रामपुर जनपद में सैकड़ों नए तालाब बने हैं। ज्यादातर लोगों ने तालाबों की जमीनों पर कब्जा किये हैं। पहले बहुत कब्जे हटे हैं और अब इसी प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए हमने एक सूची तैयार की है। जिसमें हर तहसील में जहां तलाब हैं, वहां तलाब अगर ठीक-ठाक होंगे तो जल स्तर ठीक-ठाक रहेगा और जल स्तर को बेहतर बनाए रखने के लिए तलाब बनाना बहुत जरूरी है। इसके लिए हम जनता को भी जागरूक करेंगे और लोगों से अपील करेंगे कि वह ज्यादा से ज्यादा प्रशासन का शासन का सहयोग करें।

यह भी पढ़ें: खुले में भीग रहा सैकड़ों क्विंटल गेहूं, जर्जर गोदाम बढ़ा रहे हैं मुसीबत

लोगों को मिलेगा रोजगार

बता दें कि जिन लोगों को काम करने के लिए बाहर जाना पड़ता था अब उन्हें काम उनके गांव में मिलेगा रामपुर के जिला अधकारी चाहते हैं कि नरेगा के द्वारा गांव का विकास हो। विकास का पहिया तेजी से आगे बढ़े और उसी को बढ़ाने के लिए वह खुद गांव में निकले हैं। तहसील स्वार के गांव में जाकर उन्होंने भ्रमण किया और ऐसे खेतों पर पहुंचे जहां पर लोगों ने तालाब की जमीन पर कब्जा करके खेत बना लिए। पूरे जनपद में कितने तालाब हैं, कहां तलाक को देंगे इन सब चीजों पर बड़े स्तर से काम किया जा रहा है। डीएम कि अगर यह पहल कारगर साबित होती है तो एक तरफ जल संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा तो दूसरी तरफ गांव में रहने वाले लोगों को रोजगार भी मिल जाएगा।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned