Ground Report: रामपुर के सपा सांसद व विधायक जेल में, पार्टी कार्यकर्ता हुए गायब, वोट देने वाली जनता को पूछने वाला कोई नहीं

Highlights

  • मुख्तार अब्बास नकवी और जया प्रदा हैं दिल्ली में
  • भाजपा के मंत्री और नेता पहुंच रहे लोगों के बीच में
  • कांग्रेस की पूर्व सांसद भी कर रही लोगों की मदद

By: sharad asthana

Updated: 21 May 2020, 01:10 PM IST

रामपुर। जिले की सियासत में दिग्गज नेताओं की एक लंबी फेहरिस्त है। इन दिनों रामपुर (Rampur) के लोग कोरोना काल का दंश झेल रहे हैं। उनकी परेशानी में यह दिग्गज नेता कितने उन लोगों के लिए मददगार साबित हो रहे हैं, जो लोग चुनाव के समय में उनके नाम के जयकारे लगाकर उनकी चुनावी रैली में सोभा बढ़ाते हैं और फिर सर्दी—गर्मी में लाइन में लगकर अपना कीमती वोट देकर अपना विधायक या सांसद चुनते हैं, उनकी पत्रिका ने पड़ताल की।

ये हैं रामपुर के दिग्गज नेता

रामपुर में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के दिग्गज नेता आजम खान (Azam Khan) हैं। वह वर्तमान में सांसद हैं। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (BJP) से मुख्तार अब्बास नकवी केंद्रीय मंत्री हैं। इसके अलावा भाजपा की नेत्री जया प्रदा (Jaya Prada) दो बार रामपुर की सांसद (MP) रही हैं। रामपुर में चुनाव के दिनों में लोगों के बीच रहती हैं, लेकिन इन दिनों वह अपने घर दिल्ली (Delhi) में लॉकडाउन (Lockdown) का पालन कर रही हैं। इसके अलावा रामपुर की पूर्व सांसद बेगम नूरबानो हैं। उनके बेटे काजिम अली खान उर्फ नावेद मियां भी विधायक रह चुके हैं। रामपुर के लोग इन्हीं नेताओं में से किसी को चुनकर विधानसभा और पार्लियामेंट भेजते हैं।

पार्टी की तरफ से नहीं मिल रही मदद

सबसे पहले हम बात करते हैं सांसद आजम खान की। इन दिनों आजम खान अपनी विधायक पत्नी तंजीफ फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम खान के साथ सीतापुर (Sitapur) की जिला जेल में बंद हैं। उनके जेल में बंद होने के बाद से पूरी समाजवादी पार्टी के लोग चुप बैठे हुए हैं। हर बुरे दौर में जब आजम खान बाहर होते थे तो उनकी पार्टी के कार्यकर्ता और वह स्वयं लोगों की मदद को आगे आते थे। अब कोरोना काल में ना तो उनकी पार्टी से कोई मदद रामपुर के लोगों के लिए की गई है और ना ही उनके द्वारा कोई बड़ी रकम जिले की आवाम के लिए दी गई है। हां, जेल में रहते हुए उन्होंने खुद 2 लाख की रकम कोविड-19 से लड़ने के लिए दी है। उन्होंने अपनी निधि का कोई पैसा ना तो राहत के लिए बने फंड में दिया है और ना ही कोई प्रस्ताव बनाकर मुख्य विकास अधिकारी को भेजा है।

बेटे व पत्नी के साथ जेल में हैं आजम

सांसद आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा नगर की विधायक हैं। उन्होंने भी अपनी निधि से कोई पैसा जिले के गरीब लोगों की मदद के लिए दिया है। न ही उन्होंने कोई कदम उठाया है। आजम के बेटे अब्दुल्ला आजम खान की बात करें तो उनकी विधायक सीट ही खतरे में हैं। जिले के गरीब लोगों के लिए उनके माता-पिता ही कुछ कर सकते हैं पर वे फिलहाल जेल के भीतर रहकर कोई बड़ी मदद नहीं कर पा रहे हैं। उनकी गैरमौजूदगी में सपा नेता व कार्यकर्ता गायब हो चुके हैं। इस बारे में सपा जिलाध्यक्ष अखिलेश कुमार से बात की गई तो उन्होंने बात को टाल दिया।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस की 500 बसें तो वापस गईं लेकिन 80 हजार मजदूर और स्टूडेंट्स भेजे गए घर

img-20200520-wa0034.jpg

भाजपा के ये नेता कर रहे मदद

भाजपा (BJP) के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) भी अपने स्तर पर कोई बड़ी मदद नहीं कर पा रहे हैं। वह भी दिल्ली (Delhi) में हैं। हां, भाजपा जिला अध्यक्ष अभय गुप्ता, जल शक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख और पूर्व मंत्री शिव बहादुर सक्सेना के बेटे आकाश हनी लोगों की मदद को आगे आ रहे हैं। पुलिस के लोगों की भी मदद कर रहे हैं। बिलासपुर विधानसभा से विधायक जल शक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख अपनी विधानसभा में लोगों के बीच में दिखते हैं। जिला अध्यक्ष अभय गुप्ता रोजाना सुबह-सुबह घर से निकलते हैं और लोगों की मदद करते हैं। वह खाना खिलाने से लेकर लोगों को तमाम चीजें उपलब्ध करा रहे हैं।

जया प्रदा से हैं उम्मीदें

रामपुर की पूर्व सांसद और फिल्म अभिनेत्री जयाप्रदा की बात करें तो जयप्रदा इन दिनों रामपुर से दूर दिल्ली में हैं। जया प्रदा के चाहने वाले लोग उम्मीद कर रहे हैं कि अगर वह उनके पास नहीं आ रही हैं तो उनकी मदद तो करा सकती हैं। बरहाल अभी तक जया प्रदा की तरफ से कोई मदद रामपुर के उन गरीब लोगों के लिए नहीं की गई है, जिन्होंने दो बार उन्हें यहां का सांसद बना कर संसद में भेजा है।

कांग्रेस के नेताओं की तरफ से मदद है जारी

कांग्रेस की बात करें तो रामपुर की पूर्व सांसद बेगम नूर बानो और उनके बेटे काजिम अली खान उर्फ नवेद मियां समेत पार्टी के नेता अरशद अली गुड्डू खान समेत नोमान, मामून शाह और कई नेता लगातार लोगों की मदद कर रहे हैं। उनकी मदद अब भी लगातार जारी है।

यह भी पढ़ें: Meerut: आज कंप्लीट लॉकडाउन, घर से बाहर निकले तो भरना होगा 1 हजार रुपये का जुर्माना

naved.jpg

बसपा नेता बिना अनुमति जुटे हैं जनसेवा में

बहुजन समाजवादी पार्टी (BSP) की तरफ से दर्जा प्राप्त मंत्री रहे सुरेंद्र सिंह सागर ने कहा कि उन्होंने 13 अप्रैल को सिटी मजिस्ट्रेट को एक प्रार्थना पत्र दिया था। उन्होंने गरीब लोगों की मदद करने के लिए अनुमति मागी थी। सिटी मजिस्ट्रेट ने यह कहकर अनुमति नहीं दी कि आपको जो भी मदद करनी है, आप कंट्रोल रूम को सारा सामान उपलब्ध करा दें। हम उसे अपने स्तर से उपलध कराएंगे। सुरेंद्र सिंह सागर ने उनकी बात को दरकिनार करते हुए जिले के अलग-अलग हिस्सों में खुद ही जाकर के लोगों को कच्चा भोजन उपलब्ध करवा दिया। उन्होंने बताया कि काशीराम कॉलोनी में रहने वाले लोगों और आसरा आवास में रहने वाले लोगों की लिस्ट बनाकर हमने उनकी मदद की है। अब तक 10 कुंटल चावल, आलू, प्याज, तेल आदि चीजें उपलब्ध करवाई हैं। अब भी लोगों की मदद करने की कवायद जारी है।

Congress
Show More
sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned