भैंस-बकरी लूट के 11 मुकदमों में भी शामिल किया गया सपा सांसद आजम खान का नाम

Highlights

- सीतापुर जेल में बंद समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान की मुश्किलें फिर बढ़ीं

- 11 मुकदमों में नाम शामिल होने के बाद दर्ज मुकदमों की संख्या पहुंची 102

- पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों के बयानों के आधार पर आजम का नाम किया शामिल

By: lokesh verma

Published: 16 Dec 2020, 11:32 AM IST

रामपुर. सीतापुर जेल में बंद समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब रामपुर के डूंगरपुर प्रकरण में लोगों के घर उजाड़ने और भैंस-बकरी लूट के मुकदमों में भी आजम खान का नाम शामिल कर लिया गया है। डूंगरपुर प्रकरण से जुड़े इन 11 मुकदमों के साथ अब आजम खान पर कुल 102 मुकदमे दर्ज हो गए हैं। बता दें कि इससे पहले तक उनके खिलाफ 91 मुकदमे दर्ज थे।

यह भी पढ़ें- भाजपा सरकार को अखिलेश यादव ने दिखाया आइना कहा, सपा कार्यकर्ताओं को नहीं किसानों को किया गिरफ़्तार

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में सत्ता बदलते ही आजम खान की घेराबंदी शुरू हुई थी, जो उनके जेल जाने के बाद भी जारी है। धोखाधड़ी के आरोप में सीतापुर जेल में बंद सांसद आजम खान का नाम अब गंज कोतवाली में दर्ज चर्चित डूंगरपुर कांड में शामिल कर लिया गया है। आरोप है कि डूंगरपुर में लोगों के जबरन घर खाली करवाते हुए वहां लूट की गई थी। इतना ही नहीं आरोपी पीड़ितों लोगों के घर से कीमती सामान के अलावा उनकी भैंस और बकरियां भी लूट ली गई थीं। पीड़ितों का आरोप है कि आजम खां के कहने पर ही उनके साथ यह सब किया गया था। डूंगरपुर प्रकरण में गिरफ्तार आरोपियों के बयानों के तहत पुलिस ने विवेचना के बाद सांसद आजम खान का नाम भी इन मुकदमों में शामिल कर लिया है।

इस संबंध में एसपी रामपुर शगुन गौतम ने बताया कि डूंगरपुर प्रकरण के 11 मुकदमों में आरोपियों के बयानों के बाद आजम खान नाम विवेचना में शामिल किया गया है। पुलिस जल्द ही कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करेगी।

जब देशभर में चर्चा का विषय बना आजम खान की भैंस चोरी होने का मामला

बत दें कि डूंगरपुर प्रकरण सात वर्ष पहले हुआ था। उस दौरान प्रदेश की सपा सरकार में आजम खान कैबिनेट मंत्री थे। उसी दौरान आजम खान की 7 भैंस गायब हो गई थीं। आजम खान की भैंस चोरी होने के मामले के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया था। अधिकारी सभी कामकाज छोड़ आजम की भैंस ढूंढने में लग गए थे। भैंस गायब होने के इस मामले में आजम खान ने एक चौकी इंचार्ज और दो कांस्टेबल को निलंबित भी कर दिया था। उनका कुसूर सिर्फ ये था कि उन्होंने भैंस ढूंढने में देरी की। हालांकि बाद में एक-एक करके सभी भैंस को ढूंढ लिया गया था। यह प्रकरण देशभर में चर्चा का विषय बन गया था।

यह भी पढ़ें- योगी सरकार का बड़ा फैसला, आज से 31 जनवरी तक इस विभाग में सभी की छुट्टियां की गईं रद्द, ये है वजह

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned