तीन तलाक पीड़िता को नहीं मिला न्याय, मिली तो सिर्फ तारीख पे तारीख, देखें वीडियो

Highlights:

-रामपुर में 16 वर्ष पहले एक युवती को तीन तलाक दे दिया गया

-जिसके बाद से वह लगातार न्याय के लिए भटक रही है

-आरोप है कि पुलिस बयान लेने आई और पैसे की मांग की

रामपुर। जनपद की तीन तलाक पीड़िता को 16 वर्ष बाद अब जिला न्यायालय से भी न्याय की उम्मीद नहीं है। वह कहती हैं कि पुलिस की धीमी चाल से तंग आकर उसने अब अपने शौहर के खिलाफ जो केस दर्ज करवाया था उसे चलाना नहीं चाहती। कोर्ट में तारीख पर तारीख मिलती है और पैसा खर्च होता है। पैसा कमाने वाला शौहर तो पहले से ही जुदा हो गया। ऐसी स्थिति में उसे रहने-खाने और जीविका चलाने के लिए कोई पैसे का इंतजाम नहीं है।

यह भी पढ़ें : 1857 में ब्रिटिश हुकूमत का विद्रोह करने वाले भारतीय सैनिकों को कैदी बनाकर रखा गया था यहां

ऐसी स्थिति में उनसे अपने मायके में रहकर बूढ़े मां-बाप के साथ अपनी जिंदगी अकेले ही गुजारने का फैसला लिया है और खुद से वादा किया है कि भविष्य में कभी दूसरा निकाह नहीं करेगी। वह कहती हैं कि पहले शौहर ने धोखा दिया है तो अब नहीं लगता कि दूसरा शौहर अच्छे से रख पाएगा। दरअसल, रामपुर में 16 वर्ष पहले एक युवती को तीन तलाक दे दिया गया। जिसके बाद से वह लगातार न्याय के लिए भटक रही है।

यह भी पढ़ें: देश के सबसे स्मार्ट एक्सप्रेस-वे पर Traffic Police की खुली पोल, वाहन चालक कर रहे बड़ा खेल, देखें वीडियो

तीन तलाक पीड़िता कहती है कि वह कोर्ट में कई साल तारीखों पर गई और थाने में गई। लेकिन न्याय की उम्मीद तब मर गई जब पूरे पूरे दिन कोर्ट में खड़ा होना पड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि पूरा दिन कोर्ट में खड़े होने के बाद अगले महीने की तारीख मिली। ऐसा कई साल तक हुआ और जब देखा कि उसी मामले में पुलिस उन्हीं के बयान लेने आई और पैसे की मांग की गई तो लगा कि बिना पैसे न्याय नहीं मिलेगा।

वह बताती है कि सरकार की तरफ से ना तो कोई सरकारी वकील मिला और ना ही पैरवी करने के लिए कोई सरकारी सुविधा। ऐसी स्थिति में उन्होंने सोचा कि अब इस केस को आगे न लड़े और ऊपरवाले पर ही छोड़ दिया जाए कि उसके शौहर को सजा दे। अब वह अपने घर पर बूढ़े मां-बाप के साथ रहेगी और अपना गुजारा करेगी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned