मॉब लिंचिंग मामले में पंचायत समिति सदस्य और मुखिया समेत आठ गिरफ्तार

मॉब लिंचिंग मामले में पंचायत समिति सदस्य और मुखिया समेत आठ गिरफ्तार

Shailesh pandey | Publish: Sep, 07 2018 06:44:14 PM (IST) Ranchi, Jharkhand, India

घटना के बाद गांव में 200 से अधिक पुलिस जवानों को तैनात किया गया है। गांव और उसके आस पास के इलाके में सुरक्षा का घेरा तैयार किया गया है

(रवि सिन्‍हा की रिपोर्ट)
रांची। झारखंड में पलामू जिले के पांडू थाना क्षेत्र के तिसिबार में मॉब लिंचिंग के मामले में पुलिस ने शुक्रवार सुबह पंचायत समिति सदस्य और मुखिया समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस गिरफ्तार सभी आरोपियों से पूछताछ कर रही है। घटना के बाद गांव में 200 से अधिक पुलिस जवानों को तैनात किया गया है। गांव और उसके आस पास के इलाके में सुरक्षा का घेरा तैयार किया गया है।

 

गिरफ्तारी के लिए छापेमारी


मॉब लिंचिंग के मामले में तिसिबार के मुखिया समेत दो दर्जन लोगों पर हत्या और पुलिस पर हमला करने के आरोप में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज की गई है। पलामू एसपी इंद्रजीत महथा समेत वरीय पुलिस अधिकारी मौके पर कैंप कर रहे हैं। एसपी इंद्रजीत महथा ने बताया कि मॉब लिंचिंग के सभी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है, पुलिस मामले में अलर्ट मोड पर है। मॉब लिंचिंग में मारे गए बबलू मुसहर के शव का पोस्टमार्टम हो गया है। शव को बिहार स्थित उसके पैतृक घर में भेजा जाएगा। वहीं घायल विकास और गुडू को पुलिस ने सुरक्षा मुहैया करवाई है।

 

रिश्‍ते के लिए आए थे


गौरतलब है कि बिहार का गुड्डू मुसहर अपने रिश्तेदारों के साथ शादी के लिए तिसिबार में लल्लू मुसहर के घर लड़की देखने आया था। इस दौरान बुधवार रात सभी लिंचिंग के शिकार हो गए। घटना में बबलू मुसहर की मौत हो गई, जबकि गुड्डू और विकास गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। इससे पहले मंगलवार की रात तिसिबार के कालेश्वर साव के घर में चोरी हुई थी। चोरों ने कालेश्वर साव, उनकी पत्नी और पोता को जख्मी कर दिया था।

 

चोरी की अफवाह फैली


पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है कि लल्लू के घर से अफवाह फैली कि उनके घर में आए मेहमानों ने चोरी की घटना को अंजाम दिया है। अफवाह फैलने के बाद पूरा गांव जमा हो गया और सभी को पकड़ कर गांव के मंदिर के पास लाया गया। मंदिर के पास तीनों की पिटाई भी की गई, जिसमें एक युवक की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए।

Ad Block is Banned