झारखंड महागठबंधन में कांग्रेस व राजद की इन सीटों पर उम्मीदवार तय, बाकि के लिए मंथन जारी

रांची व सिंहभूम के लिए भी उम्मीदवार तय, धनबाद, चतरा, हजारीबाग एवं लोहरदगा के लिए कई नामों की चर्चा जारी है...

By: Prateek

Published: 29 Mar 2019, 03:42 PM IST

(रांची): झारखंड में महागठबंधन के बीच सीटों के बंटवारे के तहत लोकसभा की सीटों पर कांग्रेस की ओर से उम्मीदवार चयन को लेकर विचार-विमर्श का सिलसिला जारी है। नई दिल्ली में कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में भी शुक्रवार को उम्मीदवारों की सूची पर मंथन होने की संभावना है। बताया जा रहा है कि चैथे चरण में झारखंड के तीन संसदीय सीटों चतरा, लोहरदगा (सुरक्षित अनुसूचित जनजाति) और पलामू (सुरक्षित अनुसूचित जाति) के लिए वोट डाले जाएंगे। गठबंधन में दो सीटें चतरा और लोहरदगा पर कांग्रेस उम्मीदवार देगी, वहीं पलामू सीट पर राजद उम्मीदवार खड़ा करेगा। राजद ने पलामू से पूर्व सांसद घूरन राम को उम्मीदवार घोषित कर दिया है। वहीं यह संभावना व्यक्त की जा रही है कि कांग्रेस भी इन दोनों सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम की घोषणा जल्द कर देगी।


लोहरदगा से कांग्रेस के अंदर तीन उम्मीदवारों के बीच त्रिकोणीय मुकाबला चल रहा है। टिकट की दौड़ में पूर्व सांसद रामेश्वर उरांव आगे चल रहे है,उनके पक्ष में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू तथा राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू लाॅबिंग कर रहे है। जबकि लोहरदगा के विधायक और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत भी चुनाव लड़ना चाहते है, प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. अजय कुमार उनके पक्ष में है। लेकिन छत्तीसगढ़ के सह प्रभारी अरूण उरांव भी रेस में शामिल है, उनके पक्ष में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी लाॅबिंग कर रहे है।


चतरा संसदीय सीट को लेकर कांग्रेस के अंदर कई उम्मीदवारों के नाम पर विचार किया जा रहा है, लेकिन भाजपा की ओर से भी अब तक इस सीट के लिए उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की गयी है, इस कारण पार्टी वेट एंड वाॅच की स्थिति में है। विधायक मनोज यादव चतरा से प्रबल दावेदार माने जा रहे है, वहीं विधायक देवेंद्र सिंह उर्फ बिट्टू सिंह और पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी के अलावा हाल ही में झाविमो से भाजपा में शामिल होने वाली नीलम देवी के नाम की भी चर्चा है।


हजारीबाग में पूर्व विधायक योगेंद्र साव को पार्टी टिकट देना चाहती है, लेकिन उनके खिलाफ अदालत में चल रहे मामले पर एक अप्रैल को फैसला आने वाला है, इस कारण पार्टी अभी कोई फैसला नहीं लेना चाहती है। इसके अलावा हाल में शामिल शिवलाल महतो और प्रदीप प्रसाद के साथ ही जयशंकर पाठक के नाम की भी चर्चा है।

 

खूंटी संसदीय सीट से पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा के पूर्व सांसद प्रदीप बलमुचू को टिकट मिलना तय माना जा रहा है। हालांकि खूंटी से पूर्व विधायक कालीचरण मुंडा और थियोडर किड़ो के नाम की भी चर्चा है, परंतु यह माना जा रहा है कि भाजपा उम्मीदवार अर्जुन मुंडा को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बलमुचू ही कड़ी टक्कर दे सकते है। इसी तरह से रांची में भी पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय को ही टिकट मिलने की संभावना है, सुबोधकांत सहाय को पार्टी के अंदर कोई खास टक्कर नहीं मिल रही है और टिकट फाइनल समझ कर वे लगातार चुनाव प्रचार अभियान में जुटे है।


धनबाद में भाजपा ने पीएन सिंह और हजारीबाग में जयंत सिन्हा को उम्मीदवार बनाया है। इस सीट के लिए कांग्रेस के पूर्व सांसद चंद्रशेखर दूबे, पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह, मन्नान मल्लिक, पिछले चुनाव के प्रत्याशी अजय दूबे समेत अन्य दावेदार लाॅबिंग में जुटे है। सिंहभूम से गीता कोड़ा का नाम भी तय है। पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की पत्नी गीता कोड़ा ने टिकट मिलने की शर्त ही कांग्रेस में शामिल हुई। इसके बावजूद पूर्व सांसद बागुन सुम्ब्रई के पुत्र हिटलर सुम्ब्रई भी टिकट के लिए दौड़ लगा रहे है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned