रांची: विदेशी फंड को लेकर एनजीओ के दफ्तरों में सीआईडी की छापेमारी

रांची: विदेशी फंड को लेकर एनजीओ के दफ्तरों में सीआईडी की छापेमारी

Prateek Saini | Publish: Aug, 10 2018 06:57:51 PM (IST) Ranchi, Jharkhand, India

रांची में मिशनरी संस्था द्वारा संचालित बाल गृह सेचार नवजात को बेचे जाने का मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार की ओर से इन संस्थाओंको मिलने वाले विदेशी फंड और उसके उपयोग को लेकर छानबीन शुरू की गई थी...

(पत्रिका ब्यूरो,रांची): झारखंड में अपराध अनुसंधान ब्यूरो, सीआईडी ने विदेशी फंड के गलत इस्तेमाल के अंदेशा को लेकर एक साथ दर्जनों गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के दफ्तरों में छापेमारी की। सीआईडी अधिकारियों की अलग-अलग टीम ने शुक्रवार को राजधानी रांची समेत राज्य भर के विभिन्न हिस्सों में एनजीओ के ठिकानों पर सर्वे और छापेमारी कर कई महत्वपूर्ण कागजात को जब्त किया गया है।

रांची में मिशनरी संस्था द्वारा संचालित बाल गृह सेचार नवजात को बेचे जाने का मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार की ओर से इन संस्थाओंको मिलने वाले विदेशी फंड और उसके उपयोग को लेकर छानबीन शुरू की गई थी। सीआईडी ने 2013 से तीन साल के भीतर में कुल 265 करोड़ रुपये की राशि प्राप्त करने वाले 88 गैर सरकारी संगठनों को नोटिस दिया था। जिसमें इन एनजीओ से पूछा गया था कि क्या वे विदेशी फंड प्राप्त करने के लिए प्रासंगिक कानून के तहत पंजीकृत है या नहीं, साथ ही उनके पदाधिकारियों का विवरण, विदेश सहित धन का स्रोत और बीते पांच साल के खर्च व आय का विवरण व अन्य जानकारियां मांगी गई हैं। इन एनजीओ ने 265 करोड़ रुपये की राशि 2013 से 2016 के बीच प्राप्त की है, जिसके बाद विशेष (खुफिया) शाखा ने 2016 में आशंका जाहिर की थी कि विदेशी धन का दुरूपयोग राज्य के विभिन्न हिस्सों में जमीन की खरीद किया जा रहा है।


सूत्रों के मुताबिक सीआईडी को विदेश से धन प्राप्त करने वाले इन एनजीओ के खिलाफ यह भी शिकायत मिली है कि एनजीओ ने कथित तौर पर वार्षिक आयकर दाखिल नहीं किया और इन्होंने अपने आय व खर्च के स्रोत को छिपाने का भी शिकायत मिली है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीआईडी ने रांची में 38 एनजीओ के ठिकानों में सर्वे और छापेमारी की, वहीं राज्यभर में 88 एनजीओ के ठिकानों छानबीन की। इस छानबीन में दौरान क्या-क्या पाया गया यह भी सामने नहीं आ पाया है। सीआईडी सूत्रों के अनुसार जांच अभी लंबी चलेगी। जांच पूरा होने के उपरांत ही पूरी जानकारी दी जाएगी। सीआईडी के एक अधिकारी ने बताया कि डीएसपी स्तर के अधिकारी इस जांच टीम में शामिल हैं। उनकी मदद के लिए एक इंस्पेक्टर और स्थानीय थाने को भी भेजा गया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned