नामली की अवैध कालोनी के मामले में 14 लोगों कज़ दर्ज, रतलाम में सैलाना रोड की 30 करोड़ की जमीन मुक्त कराई

- नामली में हुई एफआईआर में एक ही परिवार के पांच भाइ और उनकी मां को भी बनाया आरोपी, रतलाम के भी कुछ लोग शामिल

By: Sourabh Pathak

Published: 04 Oct 2021, 08:52 PM IST

रतलाम। नामली में शनिवार को प्रशासन द्वारा अवैध कॉलोनी में निर्माण गिराए जाने के बाद प्रशासन के प्रतिवेदन पर पुलिस ने 14 लोगों पर केस दर्ज किया है। वहीं दूसरी ओर रविवार को प्रशासन की टीम ने सैलाना रोड स्थित सन सिटी के सामने नजूल की करीब 35000 स्क्वायर फीट भूमि पर कब्जा जमा कर बैठे लोगों को हटाकर करीब 30 करोड़ रुपए बाजार मूल्य की जमीन मुक्त कराई है।

केस - एक
नामली में पुलिस ने नगर पंचायत सीएमओ अनिता चकोटिया की रिपोर्ट पर धोखाधड़ी के साथ ही नगर पालिक निगम अधिनियम के तहत केस पंजीबद्ध कर लिया है। आरोपियों में एक ही परिवार के पांच भाई के साथ उनकी मां को भी आरोपी बनाया गया है। जिन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है उनमें कुछ लोग रतलाम के भी शामिल है। वहीं दूसरी ओर जिनके खिलाफ कायमी हुई है, उनकी तरफ से उनके अभिभाषक का कहना है कि उनके पक्षकारों पर नियम विरुद्ध केस दर्ज किया गया है।


इनके खिलाफ हुई एफआईआर
नामली में अवैध कालोनी निर्माण को लेकर सीएमओ अनिता चकोटिया व हरीश मौर्य की तरफ से शनिवार शाम को कॉलोनाइजर के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए नामली थाने पर प्रतिवेदन दिया था। जिस पर पुलिस ने 14 लोगों पर अवैध कॉलोनी निर्माण, बिना डायवर्शन के प्लाट काटने, जनता से धोखाधड़ी करने की बात कही थी। पुलिस ने प्रहलाद सिंह, मकुेश, शंकरलाल, रमेश, जगदीश, आत्माराम, सत्यनायारण, राधीबाई रामचंद्र, दशरथ बाफना, सुशीला बाफना, अकबर, फारूक, रमेश और पद्मा नाम की महिला के खिलाफ धारा 420 के साथ ही नगर पंचायत अधिनियम की धारा 339 (ग) में प्रकरण पंजीबद्ध किया है। इसमें मुख्य कालोनाइजर प्रहलादसिंह को बताया है।

अभिभाषक ने यह दिया तर्क
कॉलोनाइजर की ओर से अभिभाषक अमित कुमार पांचाल ने बताया कि प्रशासन द्वारा नामली पुलिस थाने में दर्ज करवाया गया प्रकरण अवैधानिक और नियम विरुद्ध है। कानूनी प्रावधान अनुसार सीएमओ नामली ने किसी भी मजिस्ट्रेट के समक्ष कोई अभियोग पत्र प्रस्तुत नही किया है और केस दर्ज करवाया है। दो माह पूर्व ही कृषि भूमियों का विक्रय कर चुके हैं और नगर पंचायत द्वारा दिए गए सूचना पत्र का उत्तर दे चुके थे। इसे छुपाकर थाने पर आवेदन दिया है।

केस - दो
रतलाम शहर में प्रशासन की टीम रविवार की दोपहर में सैलाना रोड स्थित सन सिटी के सामने पहुंची। इस दौरान टीम के साथ नगर निगम का अमला और जेसीबी मौजूद रही। प्रशासन की ओर से तहसीलदार गोपाल सोनी ने यहां अवैध रूप से गुमटी लगाकर बैठे लोगों को हटने की बात कही और पास में शासकीय भूमि पर मार्बल रखकर व्यापार कर रहे व्यापारी को सामान हटाने के निर्देश दिए। पहले तो यह लोग प्रशासनिक कार्रवाई का विरोध करने लगे लेकिन जब इनकी एक ना चली तो सब हटने के लिए तैयार हो गए।

35000 स्क्वायर फीट थी भूमि
सैलाना रोड पर प्रशासन द्वारा जो शासकीय की भूमि रिक्त कराई गई है, वह लगभग 35000 स्क्वायर फीट है। उक्त भूमि की शासन की गाइडलाइन अनुसार कीमत 9 से ₹10 करोड़ों रुपए होना बताई जा रही है। वहीं बाजार मूल्य की यदि बात की जाए तो इस भूमि की कीमत लगभग ₹30 करोड़ है। ऐसे में आधी से अधिक भूमि पर पत्थर की व्यापारी का कब्जा था जिसके द्वारा प्रशासन के निर्देश के बाद कब्जा हटाना शुरू कर दिया गया।

आज फिर कार्रवाई के लिए जाएंगे
तहसीलदार गोपाल सोनी के अनुसार यही पास में बालाजी मार्बल नाम से एक पत्थर का गोदाम है, उसके यहां जब टीम पहुंची तो उनके द्वारा कुछ दस्तावेज दिखाए गए। इसके बाद प्रशासन ने फिलहाल यहां कार्यवाही नहीं की। टीम अब सोमवार सुबह फिर से सर्वे के लिए मौके पर पहुंचेगी और यदि शासकीय भूमि पर कब्जा नजर आया तो उसे हटाया जाएगा।

Sourabh Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned