400 साल पुराना गणेशजी का सिद्ध मंदिर, महल में थी ये खास मूर्ति

राजमहल की दीवार पर लगी मूर्ति के लिए भव्य मंदिर तैयार करवाया

By: deepak deewan

Published: 13 Sep 2021, 08:47 AM IST

रतलाम. देशभर में गणेशोत्सव की धूम मची हुई है. सुबह—शाम घरों में स्थापित गणेशजी की पूजा हो रही है, रात में सार्वजनिक पंडालों पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं. इन सबके बीच गणेश मंदिरों में भी चहल—पहल बढ़ गई है. यूं तो मंदिरों में सालभर ही विघ्नहरण विनायक की पूजा—पाठ के लिए भक्तों की भीड़ लगी रहती है पर इन दिनों तो पूजन के लिए लंबी कतार लग रही है.

गणेशजी का ऐसा ही एक मंदिर क्षेत्रभर में प्रसिद्ध है. इसे नित्य चिंताहरण मंदिर के नाम से जाना जाता है जोकि आस्था का प्रमुख केंद्र है। गणेशोत्सव पर तो जिलेभर के भक्त यहां आते हैं। कहा जाता है कि राजमहल की दीवार पर लगी मूर्ति स्थापित करने के लिए यह भव्य मंदिर बनवाया गया था. यह मंदिर करीब 400 वर्ष पहले निर्मित करवाया गया था.

Khajrana Ganesh Mandir Indore खजराना गणेश मंदिर में दर्शन के लिए विशेष व्यवस्था, ऐसे मिलेगी एंट्री

मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख ट्रस्टी जनक नागल के अनुसार राजमहल के निर्माण के साथ दो गणेश मंदिर की स्थापना भी की गई थी। पूर्व दिशा में जहां श्रीसूरजमुखी गणेश मंदिर बनवाया गया वहीं पश्चिम दिशा में श्री नित्य चिंताहरण गणेश मंदिर का निर्माण करवाया गया। वर्ष 1980 तक यह मूर्ति राजमहल की दीवार में लगी थी। इसके बाद मूर्ति स्थापित करने पैलेस रोड पर अलग मंदिर बना।

ratlam.jpg

जैसे-जैसे आस्था बढ़ती गई वैसे-वैसे मंदिर के अंदर बड़ा निर्माण भी होता गया। प्रतिदिन मंदिर में दर्शन करने आने वाले डॉ. रत्नदीप निगम के अनुसार मंदिर में आने के बाद आत्मिक शांति मिलती ही है। जीवन की सारी परेशानी गणपति ने ले ली है। नाम के अनुरूप गणेशजी मंदिर में आनेवाले भक्तों की चिंता हर लेते हैं. 1980 से ही मोहल्ले के नागरिकों ने मंदिर की व्यवस्था संभाल रखी है।

न तन पर कपड़े, न रहने का ठिकाना पर यही अघोरी बाबा उठाते हैं महाकाल सवारी का खर्च

कोरोनाकाल के दौरान मंदिर समिति ने यहां आने वाले भक्तों के लिए विशेष व्यवस्था की हैं. कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करवाया जा रहा है. मंदिर के मुख्य द्वार पर ही नि:शुल्क मास्क देने की व्यवस्था की गई है। आरती के समय भक्तों को सोशल डिस्टेंसिंग में रखने के लिए कतार लगती है। गणेशजी का सिद्ध मंदिर होने से भक्त यहां अपनी मनोकामनाएं पूरी करने की प्रार्थना करते हैं.

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned