Big News: चाय वाले की बेटी उड़ाएगी देश का लड़ाकू विमान

राष्ट्रपति अवॉर्ड से सम्मानित मालवा की बेटी का बड़ा मुकाम

By: sachin trivedi

Updated: 22 Jun 2020, 01:40 PM IST

नीमच. एक चायवाले की बेटी ने अपने सपनों को पंख लगा दिए हैं। स्कूल में थी तब उसने सेना में जाने का जो सपना देखा था आज वो सच हो गया। नीमच की बेटी भारतीय वायु सेना में अफसर बन गई है। सपने को हकीकत में तब्दील किया है नीमच की आंचल गंगवाल ने। उनके पिता सुरेश गंगवाल चाय की दुकान चलाते हैं। माता बबिता गंगवाल गृहिणी है। आंचल ने सीताराम जाजू शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय नीमच से कम्प्यूटर साइंस से स्नातक किया है। बकौल सुरेश गंगवाल मेरे दो बेटी और एक बेटा है। मैंने कभी बेटियों को आगे बढऩे से नहीं रोका। बड़ी बेटी ने कड़ी मेहनत कर आज यह मुकाम हासिल किया है। उसने अपने सपनों को पूरा करने के लिए विषम परिस्थितियों का भी सहजता से सामना किया। शनिवार को वायु सेना अकादमी डांडीगल (हैदराबाद) में हुई पासिंग आउट परेड में आंचल को राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित किया गया। आंचल 123 फ्लाइट कैडेटों के साथ शनिवार को वायु सेना के अधिकारियों शामिल हो गई है। सुरेश गंगवाल ने बताया कि उनका बेटा भी इंजीनियर है। छोटी बेटी नीमच कन्या महाविद्यालय में द्वितीय वर्ष की छात्रा हैै। वायु सेना में जाने से पहले आंचल मध्यप्रदेश पुलिस में उपनिरीक्षक और श्रम विभाग में श्रम निरीक्षक के रूप में आठ महीने तक काम कर चुकी हैं। आज आंचल ने जो मुकाम हासिल किया है वो उसकी मेहनत और लगन का ही परिणाम है। उसकी इस उपलब्धि पर हमें गर्व है।

patrika
IMAGE CREDIT: patrika

छठवीं बार में मिली थी सफलता
आंचल गंगवाल का एयरफोर्स में चयन 7 जून 2018 को हुआ था। आंचल ने 5 बार इंटरव्यू बोर्ड का सामना किया था और असफलता हाथ लगी। छठवें प्रयास में उसे सफलता हाथ लगी थी। आंचल वर्ष 2018 में देशभर की उन 22 प्रतिभागियों में शामिल थी, जिसका चयन इस पद के लिए हुआ था। मध्यप्रदेश से वे एकमात्र थीं। एयरफोर्स कॉमन ऐडमिशन टेस्ट में देशभर से करीब 6 लाख लोगों ने भाग लिया था। आंचल ने जून 2018 में हैदराबाद स्थित डौंडीगुल एयरफोर्स एकेडमी ज्वॉइन की थी।

फोटो: आंचल गंगवाल।

sachin trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned