Big News: हाईप्रोफाइल लेडी डॉ. रचना सलाखों में कैद

Big News: हाईप्रोफाइल लेडी डॉ. रचना सलाखों में कैद

Sachin Trivedi | Updated: 07 Feb 2019, 11:25:54 AM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

Big News: हाईप्रोफाइल लेडी डॉ. रचना सलाखों में कैद

रतलाम। बहुचर्चित कुंदर कुटीर बालिकागृह स्कैंडल में बुधवार को एसआईटी ने मुख्य आरोपी डॉ. रचना भारतीय और उनके पति ओमप्रकाश भारतीय सहित नेहा सिसोदिया का और रिमांड न लेते हुए कोर्ट में पेश कर दिया। कोर्ट के आदेश पर तीनों को जेल भेज दिया गया है। सुरक्षा की दृष्टि से रचना व नेहा को रतलाम तो ओमप्रकाश को जावरा जेल में रखा जाएगा, 12 फरवरी को अगली सुनवाई होगी। शहर के कुंदर कुटीर बालिका गृह पर हुए हाईप्रोफाइल स्कैंडल में बाल आयोग की रिपोर्ट पर बुधवार को जावरा पहुंचे संभागायुक्त अजीत कुमार ने कहा कि उन्होंने आयोग सदस्यों ने क्या कहा है इससे कोई सरोकार नहीं है, पुलिस और प्रशासन अपना काम कर रहा है, जो भी दोषी है, वे बख्शे नहीं जाएंगे।

मुख्य आरोपियों सहित पूर्व अधीक्षिका का रिमांड समाप्त

स्कैंडल के दोनो मुख्य आरोपियों सहित पूर्व अधीक्षिका का रिमांड समाप्त होने के बाद फिर से जेल भेज दिया गया है। कुंदन कुटीर बालिका गृह में बालिकाओं के शोषण के मामले में मंगलवार को मध्यप्रदेश बाल संरक्षण आयोग के सदस्यों ने डॉ. भारतीय के संरक्षण में रहने वाली 6 साल की मासूम के साथ रेप नहीं किए जाने की पुष्टी की, जबकि जांच अधिकारी और एसडीएम तथा पुलिस अधिकारियों ने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट में रेप करने की कोशिश किए जाने की रिपोर्ट पाजीटिव मिली थी, इसके बाद आरोपियों पर पॉक्सो एक्ट में प्रकरण दर्ज किया गया है।

अब 12 फरवरी को मामले की अगली सुनवाई
डीवीआर का पासवर्ड नहीं मिलने तथा बालिकाओं की अधूरी जानकारी के मामले में पूछताछ के लिए पुलिस ने स्कैंडल के मुख्य आरोपी बालिकागृह की संचालिका डॉ. रचना के साथ उनके पति ओमप्रकाश तथा पूर्व अधीक्षिका नेहा सिसौदिया का रिमांड मांगा था। रिमांड की अवधि समाप्त होने पर बुधवार को तीनों आरोपियों को एसआईटी ने न्यायाधीश ओपी बोहरा की कोर्ट में पेश किया। जहां से रचना और नेहा को रतलाम जेल तथा ओमप्रकाश को पुन: जावरा जेल भेज दिया गया है। इस मामले की अगली सुनवाई 12 फरवरी को होगी।

किसकी सरकार में हुए थे पदस्थ
कुंदन कुटीर गृह में हुए शोषण के मामले में बाल आयोग के सदस्यों द्वारा अपनी रिपोर्ट में जो कहा है, इस मामले में मंगलवार की रात में जावरा पहुंचे प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने कहा कि बाल आयोग के जो सदस्य आए थे, वे कौन थे और उन्हें किस सरकार में पदस्थ किया गया था। पहले इसकी पुष्टी की जाए, सिंह के इस बयान के बाद अब इस मामले में फिर नया मोड़ ले लिया है। बुधवार को मंदसौर जाते समय संभागायुक्त अजीत कुमार जावरा सर्किंट हाऊस पहुंचे जहां पत्रकारो से चर्चा करते हुए कहा कि बाल आयोग ने क्या कहा है इस पर टिप्पणी करना उचित नहीं है। पुलिस अपना काम कर रही है, न्यायीक जांच रिपोर्ट के बाद आरोप सिद्ध होने के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है, 6 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है। रहवासी क्षेत्र में बालिकागृह किस प्रकार संचालित हो रहा है, इसकी जांच की जा रही है। इस पर भी कार्रवाई की जाएगी। जिन अधिकारियों की जवाबदारी थी, उन्हें निलंबित कर दिया गया है। पुलिस की जांच अभी चल रही है, इस मामले में जो भी दोषी है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned